अधिकारी-कर्मचारियों की गरिमा और सम्मान राज्य सरकार के लिए सर्वोपरि – मुख्यमंत्री श्री चौहान

आत्म-निर्भर मध्यप्रदेश के निर्माण का यह स्वर्णिम काल
परिवार की भावना और टीम स्पिरिट से कार्य अधिकारी-कर्मचारी
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कोरोना काल में संवेदनशीलता के साथ दायित्व निर्वहन के लिए अधिकारी-कर्मचारियों का माना आभार
मुख्यमंत्री श्री चौहान द्वारा महंगाई भत्ता बढ़ाने पर अधिकारी-कर्मचारी संगठनों ने माना आभार

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि यह आत्म-निर्भर मध्यप्रदेश के निर्माण का स्वर्णिम काल है। हम प्रदेश के अधिकारी-कर्मचारियों के साथ परिवार की भावना और टीम स्पिरिट से कार्य करते हुए प्रदेश के विकास और कल्याण के लिए प्रतिबद्ध हैं। अधिकारी-कर्मचारियों के सहयोग से ही स्वास्थ्य और शिक्षा सहित प्रदेश की प्रगति तथा बेहतरी के नए आयाम स्थापित किए जा रहे हैं। मध्यप्रदेश कई योजनाओं में देश में प्रथम है। आप सबके सहयोग से हम अन्य क्षेत्रों में भी उपलब्धियाँ अर्जित करेंगे। मुख्यमंत्री श्री चौहान निवास स्थित सभागार में अधिकारी-कर्मचारी संगठनों के पदाधिकारियों को संबोधित कर रहे थे। उल्लेखनीय है कि राज्य सरकार द्वारा 11 प्रतिशत महंगाई भत्ता बढ़ाने पर मुख्यमंत्री श्री चौहान का आभार व्यक्त करने प्रदेश के विभिन्न अधिकारी-कर्मचारी संगठनों तथा निगम, मंडल आदि के 57 कर्मचारी संघों के पदाधिकारी मुख्यमंत्री निवास पर एकत्र हुए थे।

सभी समस्याओं का किया जाएगा समाधान

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि अधिकारी-कर्मचारियों की सभी समस्याओं का समाधान व्यावहारिक दृष्टिकोण अपनाते हुए संवदेनशीलता, प्रेम भाव तथा वार्तालाप से किया जाएगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि कोरोना के कठिन समय में वित्तीय चुनौतियाँ थी। साथ ही कोरोना संक्रमण के भय के बीच कार्य करना भी एक बड़ी चुनौती थी। स्वास्थ्य सेवाएँ हो या कानून-व्यवस्था की स्थिति या फिर गेहूँ खरीदी की व्यवस्था, सभी मोर्चे पर अधिकारी-कर्मचारियों ने अपना दायित्व निभाया और पूर्ण समर्पण और संदेनशीलता के साथ कार्य किया। कई अधिकारी-कर्मचारियों ने कोरोना से लड़ते-लड़ते अपनी जान तक दे दी। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश की जनता की ओर से मैं उन्हें प्रणाम करता हूँ। राज्य सरकार द्वारा कोविड योद्धा योजना में ऐसे परिवारों को सहायता उपलब्ध कराई गई है।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि कोरोना संकट के कारण निर्मित राज्य की आर्थिक परिस्थितियों के परिणाम स्वरूप राज्य सरकार अधिकारी-कर्मचारियों को उनके जायज अधिकार समय रहते नहीं दे पायी। परिस्थितियाँ सामान्य होते ही राज्य सरकार द्वारा महंगाई भत्ते में वृद्धि का निर्णय लिया गया है। आगामी माहों में उनकी अन्य समस्याओं का भी समाधान किया जाएगा। अधिकारी-कर्मचारी अपने कर्त्तव्यों का निर्वहन सम्पूर्ण दायित्व-बोध से करें। उनकी मानवीय गरिमा और सम्मान राज्य सरकार के लिए सर्वोपरि है।

अध्यक्ष राज्य सामान्य निर्धन वर्ग कल्याण आयोग श्री शिव चौबे ने भी संबोधित किया। मंत्रालयीन कर्मचारी संघ के अध्यक्ष श्री सुधीर नायक ने कहा कि किसी भी राज्य सरकार द्वारा एक साथ 11 प्रतिशत महंगाई भत्ता बढ़ाना अभूतपूर्व है। इससे कर्मचारी जगत में व्याप्त प्रसन्नता के भाव को व्यक्त करने के लिए ही अधिकारी-कर्मचारी एकत्र हुए हैं। कार्यक्रम में राज्य कर्मचारी कल्याण आयोग के पूर्व श्री अध्यक्ष श्री रमेश शर्मा, भारतीय मजदूर संघ के पूर्व महामंत्री श्री शेखावत सहित राजपत्रित अधिकारी संघ, तृतीय वर्ग कर्मचारी संघ, चतुर्थ वर्ग कर्मचारी संघ, शिक्षक संवर्ग के सभी प्रांतीय संगठन, स्वास्थ्य विभाग से संबंधित संगठन, पंचायत एवं ग्रामीण विकास तथा आँगनवाड़ी कार्यकर्ताओं से संबंधित प्रांतीय संगठनों के पदाधिकारी उपस्थित थे। कार्यक्रम का संचालन श्री अजय श्रीवास्तव ‘नीलू’ ने किया।

Leave a Reply