इंद्रविहार और पंचवटी कॉलोनी में खाली प्लॉट बने हुए हैं कचरा घर

इंद्रविहार और पंचवटी कॉलोनी में खाली प्लॉट बने हुए हैं कचरा घरएक ओर जहां भोपाल नगर निगम स्वच्छता सर्वेक्षण को लेकर शहरभर में अभियान चलाकर कॉलोनियों स्वच्छ बनाने में जुटा हुआ…

Jan 25, 2020,
एक ओर जहां भोपाल नगर निगम स्वच्छता सर्वेक्षण को लेकर शहरभर में अभियान चलाकर कॉलोनियों स्वच्छ बनाने में जुटा हुआ है, वहीं दूसरी ओर कई इलाके ऐसे हैं जहां अब भी नियमित सफाई नहीं हो रही है। इन क्षेत्रों में जगह-जगह कचरे के ढेर देखे जा सकते हैं। सबसे ज्यादा दिक्कत खाली प्लॉट पर नजर आ रही है। इंद्रविहार और पंचवटी कॉलोनी में आठ से अधिक स्थानों पर गंदगी की समस्या बरकरार है। लोगों द्वारा अब भी यहां के खाली प्लॉट पर कचरा डाला जा रहा है, जिससे चारों तरफ कचरा फैला नजर आ रही है। रहवासियों का कहना है कि कई बार नियमित सफाई किए जाने के संबंध में शिकायतें की जा चुकी हैं, लेकिन जोन के अफसर इस ओर ध्यान ही नहीं दे रहे हैं। इसकी मुझे जानकारी नहीं है।

गंदगी के कारण सड़क पर आवारा मवेशी बढ़ रहे हैं

खाली प्लॉट पर कचरे की समस्या लंबे समय से बनी हुई है। निगम की ओर से तो झाड़ू तक नहीं लगाई जाती है। गंदगी के कारण सड़कों पर आवारा मवेशियों की समस्या भी बनी हुई है। मजबूरन हमें पैसे देकर सफाई करानी पड़ रही है।
महेश तोलानी, इंद्रविहार कॉलोनी

बिना पैसा दिए काम नहीं होता

 खाली प्लॉट तो छोड़िए निगम द्वारा यहां किसी तरह की सफाई तक नहीं कराई जाती। पूरी कॉलोनी में निजी स्तर पर सफाई कराते हैं। दरोगा से कहते हैं तो वह प्रति प्लॉट की सफाई के लिए 800 रुपए मांगता है। जोन के अफसर हो या निगम के वरिष्ठ अधिकारी हर जगह शिकायतें कर चुके हैं।
भरत जिंदवानी, उपाध्यक्ष, पंचवटी

निगम झाड़ू तक नहीं लगाता, पैसे देकर सफाई कराने को मजबूर हैं रहवासी

रहवासी बोले- दरोगा एक प्लॉट साफ करने के 800 रुपए मांगता है

सड़कों पर उड़ता रहता है कचरा

कॉलाेनी में गंदगी की समस्या इतनी है कि खाली प्लॉट में फैला कचरा सड़कों पर उड़ता है। इससे पूरा इलाका गंदगी भरा हो जाता है। इतना ही नहीं, यहां तो कॉलोनी में सड़क पर पानी जमा होने की समस्या भी बनी हुई है, जिससे लोगों को आवाजाही में भी दिक्कत होती है।

मृणाल खरे

एएचओ

पंचवटी-इंद्रविहार कॉलोनी में निगम द्वारा सफाई क्यों नहीं कराई जाती?

} प्राइवेट कॉलोनियां हमारे कार्य क्षेत्र में नहीं आती। फिर भी डोर-टू-डोर कचरा कलेक्शन और स्वीपिंग नियमित कराते हैं।

कचरा तो यहां हमेशा नजर आता है, क्या स्वच्छता सर्वेक्षण में इनकी गिनती नहीं की जाएगी?

} ऐसा नहीं है, वहां संबंधित सोसायटियां भी सफाई कराती हैं। निगम की ओर से भी कर्मचारी दिनभर लगे रहते हैं।

लेकिन यहां तो खाली प्लॉट्स गंदगी के ठिकाने बने हुए हैं?

}खाली प्लॉट की सफाई के संबंध में हमने कर्मचारियों को निर्देश दिए हैं। सोसायटियों से भी चर्चा की जाा रही है।

प्लॉट की सफाई कराने के दरोगा तो 800 रुपए मांगता है?

}कुछ समय पहले ऐसी शिकायत मिली थी, दरोगा को हटा दिया है।

सीधी बात

पंचवटी

वार्ड-05

, ,

Leave a Reply