इलेक्ट्रॉनिकी एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री श्री अश्विनी वैष्णव टेक-कॉनक्लेव 2022 का उद्घाटन करेंगे

राष्ट्रीय सूचना विज्ञान केंद्र (एनआईसी) पिछले चार दशकों से सरकारों के साथ उनकी डिजिटल पहलों में साझीदारी कर रहा है। वर्षों के दौरान केवल सरकार के उपयोग के लिये हमने उत्कृष्ट देशव्यापी आईसीटी अवसंचरना, डिजिटल प्लेटफॉर्म और समाधानों का निर्माण किया है। हमने केंद्र और राज्य सरकारों के साथ उनकी प्रक्रियाओं के स्वमेव परिचालन और नागरिक सेवाओं की इलेक्ट्रॉनिक आपूर्ति के लिये काम किया है।

सूचना प्रौद्योगिकी सेक्टर में प्रौद्योगिकी उन्नयन और विकास की प्रक्रिया लगातार चलती रहती है, इसलिये अद्यतन प्रौद्योगिकियों से परिचित होते रहना जरूरी है। यह भी अनिवार्य है कि सरकारी अधिकारी उदीयमान और परिवर्तनशील प्रौद्योगिकियों के प्रति जागरूक रहें और उन्हें अपनाने के लिये तत्पर हों।

एनआईसी एक टेक-कॉनक्लेव का आयोजन कर रहा है, जिसमें उन उदीयमान प्रौद्योगिकियों पर मनन किया जायेगा, जो खासतौर से ई-शासन में लागू होती हैं। इस वर्ष के टेक-कॉनक्लेव का विषय नेक्स्ट जेनरेशन टेक्नोलॉजीस फॉर डिजिटल गवर्नमेंट है।

केंद्रीय इलेक्ट्रॉनिकी एवं सूचना प्रौद्योगिकी, रेल और संचार मंत्री श्री अश्विनी वैष्णव तीसरे ‘एनआईसी टेक-कॉनक्लेव 2022’ का उद्घाटन करेंगे। इस दो दिवसीय कार्यक्रम का आयोजन राष्ट्रीय सूचना विज्ञान केंद्र (एनआईसी) तीन और चार मार्च, 2022 को नई दिल्ली स्थित विज्ञान भवन में कर रहा है।

कौशल विकास और उद्यमशीलता तथा इलेक्ट्रॉनिकी एवं सूचना प्रौद्योगिकी राज्यमंत्री श्री राजीव चंद्रशेखर विशिष्ट अतिथि के रूप में कार्यक्रम की शोभा बढ़ायेंगे। कार्यक्रम में इलेक्ट्रॉनिकी एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय के सचिव तथा केंद्र और राज्य सरकारों के अन्य गणमान्य उपस्थित रहेंगे।

2022 सम्मेलन के वक्ताओं में सूचना प्रौद्योगिकी उद्योग से जुड़े विशेषज्ञ हैं, जो कृत्रिम बौद्धिकता, डेटा एनालिटिक्स, नेक्स्ट जेनरेशन डेटाबेस सॉल्यूशंस, साइबर सुरक्षा, क्लाउड का भविष्य तथा विभिन्न ई-शासन समाधान, आदि जैसे विभिन्न क्षेत्रों में अपने अनुभवों को साझा करेंगे।

इससे जो लाभ मिलेंगे, वे आईसीटी उत्कृष्ट व्यवहारों को समझने से लेकर समाज के प्रमुख डिजिटल परिवर्तन में कारगर आधुनिक प्रौद्योगिकियों और रुझानों के बारे में जागरूकता पैदा करने से जुड़े हैं। इन सबको उद्योगों द्वारा अपनाया जा रहा है।

टेक-कॉनक्लेव से मंत्रालयों/विभागों के आईटी प्रबंधकों को फायदा होगा। उन्हें आधुनिक आईसीटी प्रौद्योगिकियों और उनके इस्तेमाल के बारे में जानकारी मिलेगी। आधुनिक प्रौद्योगिकियों के मद्देनजर उद्योगों में किये जाने वाले उत्कृष्ट व्यवहारों से भी उनका परिचय होगा। इस कार्यक्रम से राज्य सरकारों के आईटी सचिवों को भी एक मंच मिलेगा, ताकि वे नई प्रौद्योगिकियों और उनके इस्तेमाल के बारे में बेहतर जानकारी ले सकें और उन्हें अपने राज्यों में लागू कर सकें। इससे उद्योग और सरकार के आईटी प्रबंधकों के बीच बातचीत का अवसर भी मिलेगा, देश में सरकारी कामकाज में क्षमता निर्माण में तथा उच्च गुणवत्ता वाली नागरिक केंद्रित सेवायें प्रदान करने में मदद मिलेगी।

Leave a Reply