कोरोना संक्रमण की रोकथाम:40 हजार था टारगेट, 36 हजार को ही लगा टीका आज केंद्र बढ़ाएंगे और घर-घर पीले चावल देंगे

: कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए शत प्रतिशत लोगों को टीका लग सके, इसके लिए दो दिवसीय महाअभियान शुरू किया गया। इन दो दिनों में 64 हजार लोगों को टीका लगाने का लक्ष्य तय किया गया है। पहले ही दिन बुधवार को 40 हजार लोगों को टीका लगाने का टारगेट तय किया गया था लेकिन इस बार यह पूरा नहीं हो सका।

पहले दिन 40 में से केवल 36 हजार 43 लोगों को ही वैक्सीन लग सकी। यानी 4 हजार कम लोगों को टीका लगा। इसे देखते हुए अब दूसरे दिन गुरुवार को 24 हजार की जगह 37 हजार 500 लोगों को वैक्सीन लगाने का लक्ष्य है जिसे पूरा करने के लिए तैयारियां कर ली गई हैं। जिले में 25 और 26 अगस्त को वैक्सीनेशन महाअभियान शुरू हुआ। इन दो दिनों में जिले में 64 हजार लोगों को वैक्सीन लगाने का टारगेट तय किया गया। इस टारगेट को पूरा करने जिले भर के लिए 150 टीमें बनाई गईं जिनमें 900 कर्मचारियों को तैनात किया गया। पहले दिन के लिए 40 हजार लोगों को वैक्सीन लगाने का लक्ष्य तय किया गया था। सभी को उम्मीद थी कि इस टारगेट को पूरा कर लिया जाएगा लेकिन ऐसा नहीं हुआ और यह केवल 36 हजार लोगों को ही लग सका। इस तरह से 4 हजार की संख्या कम रह गई।

जिले के हाल…कितने लोगों को लगा टीका
जिले में 36 हजार 43 लोगों का टीकाकरण किया गया। शाम 6 बजे तक की स्थिति में आष्टा में 15 हजार 460, बुदनी में 3 हजार 430, इछावर में 4 हजार 256, नसरुल्लागंज में 3 हजार 877, श्यामपुर में 6 हजार 297 तथा सीहोर शहरी क्षेत्र में 2 हजार 663 लोगों का टीकाकरण किया किया गया।

107 साल की सिद्वी बाई ने भी लगवाया टीका
टीकाकरण महाअभियान के दौरान कोविड का टीका लगवाने का उत्साह बुजुर्गो में भी देखा गया। सीहोर विकासखंड के ग्राम बटोनी निवासी 107 वर्षीय बुजुर्ग महिला सिद्वी बाई ने कोविड वैक्‍सीनेशन महाअभियान के अंतर्गत टीका लगवाया। उन्होंने कहा कि टीका सबको लगवाना चाहिए। कोरोना से बचाव का यही एक रास्ता है।

कहीं पर थी कतारें तो कहीं सन्नाटा
जिले के कई केंद्रों पर टीका लगवाने वालों की सुबह से ही भीड़ हो रही थी। कई जगह कतारें लगी थीं तो कुछ जगहों पर सन्नाटा पसरा रहा।

महाअभियान के लिए जन जागृति : महाअभियान के लिए विभिन्न माध्यमों से लोगों को जागरूक किया जा रहा है। जिले के सभी ग्रामीण और नगरीय क्षेत्रों में माइक और मुनादी के माध्यम से लोगों को महाअभियान की जानकारी देने के साथ ही वैक्सीनेशन के लिए प्रेरित किया जा रहा है।

रणनीति: किस तरह करेंगे टारगेट पूरा
वैक्सीनेशन केंद्रों की संख्या बढ़ाई जा रही है। बुधवार को 153 वैक्सीनेशन केंद्र बनाए गए थे जबकि गुरुवार को इनकी संख्या 158 तक हो सकती है। केंद्रों की संख्या बढ़ाने से वैक्सीनेशन बढ़ेगा। आशा और आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को घर-घर भेजा जाएगा और वे लोगों को टीकाकरण के लिए बुलाने जाएंगी। इस दौरान पीले चावल देकर लोगों को वैक्सीनेशन केंद्र पर आने के लिए कहा जाएगा। उन जगहों पर केंद्र बनाए जा रहे हैं जहां पर अभी लोगों ने वैक्सीनेशन नहीं कराया है। कोशिश की जाएगी कि उन लोगों को केंद्र तक लाया जाए जिन्होंने अभी तक टीका नहीं लगवाया है। ऐसे लोग जिन्होंने अभी तक दूसरा डोज नहीं लगवाया है उन्हें टीकाकरण के लिए कहा जाएगा। इसके लिए गांवों में डोंडी पिटवाई जा रही है।

गुरुवार को 37 हजार 500 का लक्ष्य
पहले गुरुवार को 24 हजार लोगों को टीका लगाने का लक्ष्य तय किया गया था लेकिन पहले दिन संख्या कम होने के कारण अब दूसरे दिन के लिए टारगेट को बढ़ा दिया गया है। गुरुवार को 37 हजार 500 लोगों को टीका लगाने का टारगेट तय किया गया है।

स्वागत के लिए बनाई रंगोली
टीकाकरण महाअभियान के शुभारंभ अवसर पर टीकाकरण केन्द्रों पर टीका लगवाने के लिए आने वाले लोगों के स्वागत के लिए रंगोली बनाई गई। टीका लगवाने वालों ने भी आस पड़ोस के अन्य लोगों को भी कोविड का टीका लगवाने के लिए प्रेरित किया।

Leave a Reply