गणतंत्र दिवस से पहले आ सकती है सर्वे के लिए टीम, शहर में लगे हैं कचरे के ढ़ेर

शहर के उन पाइंट पर भी अफसर देखें स्वच्छता की स्थिति, जहां रहवासी डालते हैं कचरा…

सीहोर. स्वच्छता सर्वेक्षण 2020 के सर्वे के लिए 26 जनवरी से पहले कभी भी भारत सरकार की टीम सीहोर आ सकती है। सर्वे के लिए दिल्ली से टीम के आने की भनक अफसरों को लग गई है, अफसर सतर्क भी हो गए हैं, लेकिन अभी उन क्षेत्र पर ज्यादा ध्यान नहीं दिया जा रहा है, जिनमें कचरा गाड़ी समय पर नहीं पहुंची है और मजबूरी में लोग सड़क पर या सड़क किनारे कचरा डालते हैं।

स्वच्छता सर्वे के लिए शहर में नगर पालिका सुबह और दोपहर में सफाई करा रही है। शहरवासियों को भी स्वच्छता को लेकर मॉटीवेट किया जा रहा है। सर्वे टीम क्या सवाल करेगी, इसे लेकर संभावित प्रश्नों की सूची भी गली-मोहल्लों में दी जा रही है।

नगर पालिका के पिछले कुछ साल के स्वच्छता सर्वेक्षण में पिछडऩे के बाद इस बार अफसर पहले पायदान पर आने में कोई कसर नहीं छोडऩा चाहते हैं। पिछले एक महीने से अभियान चलाकर सफाई की जा रही है, दूसरे संसाधन और व्यवस्थाएं भी जुटाई जा रही हैं।

सर्वे में टीम द्वारा पूछे जाने वाले सवालों के 15 हजार पंपलेट छपवाएं हैं, जिन्हें शहर में वितरीत किया जा रहा है। पंपलेट वितरण के साथ उनसे स्वच्छता सर्वेक्षण 2020 में सहयोग प्रदान करने की अपील भी की जा रही है। इस सर्वे में शहरवासियों के फीडबैक के आधार पर 400 अंक मिलते हैं।

दूसरी तिमाही में सुधरी थी रैंकिंग
भारत सरकार ने 31 दिसंबर को स्वच्छता सर्वेक्षण 2020 के पहले और दूसरे क्वार्टर के नतीजे घोषित किए थे। पहली लीक में वेस्ट जोन के शहरों में सीहोर 27वें नंबर पर आया था।

देश के चार हजार 157 शहरों में किए गए स्वच्छता सर्वे की रैकिंग देखी जाए तो दूसरे क्वार्टर में 290वें नंबर पर था। पहले क्वार्टर में सीहोर 777वें नंबर पर था। सीहोर को पहले क्वार्टर में 8 29.28 और क्वार्टर में 1282.95 अंक मिले थे। दूसरी तिमाही में रैंकिंग सुधरने को लेकर इस बार सर्वे से अफसरों को काफी उम्मीदें हैं।

दो साल से फाइनल में गिर रही है रैंकिंग
साल 2017-18 के स्वच्छता सर्वेक्षण में सीहोर 56वें स्थान पर था, लेकिन साल 2018-19 में स्थिति सुधरने की बजाए और बिगड़ गई। स्वच्छता सर्वेक्षण सर्वे में सीहोर 136वें स्थान पर पहुंच गया। लेकिन इस बार पहले और दूसरे क्वार्टर के जो नतीजे अच्छे होने से अफसरों के मन में बहुत उम्मीद जगी है। यदि शहरवासी इसमें सहयोग करें तो स्वच्छता सर्वेक्षण 2020 के फाइनल रिजल्ट में सीहोर एक नए स्वच्छ शहर के रूप में उभरकर सामने आ सकता है।

यह पूछे जाएंगे सवाल
सवाल : क्या आप जानते हंंै कि आपका शहर स्वच्छता सर्वेक्षण में भागीदारी कर रहा है?
सवाल : आप शहर में अपने आसपास स्वच्छता को अपने पिछले 6 महीने के अनुभव के आधार पर 200 में से कितने अंक देना चाहेंगे?
सवाल : सार्वजनिक और व्यवसायिक क्षेत्र की स्वच्छता को 6 महीने के आधार पर 200 में से कितने अंक देना चाहेंगे?
सवाल : क्या आपसे हमेशा कचरा संंग्राहक द्वारा सूखा-गीला अलग-अलग देने के लिए कहा जाता है?
सवाल : क्या आपके शहर में सड़कों के डिवाइडर पौधों या हरी घास से ढंके हुए हैं?
सवाल : आप शहर में सार्वजनिक शौचालयों की स्वच्छता को अपने पिछले 6 महीने के अनुभव के आधार पर 200 में से कितने अंक देना चाहेंगे?
सवाल : क्या आपको ओडीएफ अर्थात खुले में शौच से मुक्त या जीएफसी कचरा मुक्त के स्टेटस के बारे में जानकारी है?


वर्जन…
-सर्वे के लिए कभी भी टीम आ सकती है। नगर पालिका तैयारी में लगी है। शहर में पंपलेट का वितरण किया जा रहा है, साथ ही यह भी बताया जा रहा है कि रहवासी टीम को फीडबैग जरूर दें। पिछली बार फीडबैक नहीं देने को लेकर अंक कट गए थे।
दीपक देवगड़े, स्वच्छता प्रभारी, नगर पालिका सीहोरgarbage officer road sanitation sehore sehore news sehore news in hindi mp swachta swachta abhiyan

About डीजी न्यूज़ मध्य प्रदेश

View all posts by डीजी न्यूज़ मध्य प्रदेश →

Leave a Reply