छत्तीसगढ़ कोंडागांव से
संतोष सावरकर 36 दिन के बालक का अपहरण करने वाली आरोपिया को पुलिस ने किया गिरफ्तार…

स्लग : 36 दिन के बालक का अपहरण करने वाली आरोपिया को पुलिस ने किया गिरफ्तार

थाना प्रभारी उरंदाबेडा को दिनांक 18.11.2020 को सूचना मिला कि ग्राम आलमेर थाना उरंदाबेडा में एक बालक को कोई उठाकर ले गया है। उक्त सूचना को थाना प्रभारी द्वारा वरिष्ठ अधिकारियों को अवगत कराया गया।
पुलिस अधीक्षक कोण्डागांव श्री सिद्वार्थ तिवारी भा0पु0से0 द्वारा सूचना के संवेदनशीलता को देखते हुए SDOP फरसगांव व थाना प्रभारी उरंदाबेड़ा को तत्काल ग्राम आलमेर पहुॅचकर सूचना की तस्दीक कर जाॅच कार्यवाही करने हेतु निर्देशित किया गया।
SDOP फरसगांव के नेतृत्व में पुलिस टीम ग्राम आलमेर पहुॅचकर ग्रामीणों से पूछताछ किया गया, तो जानकारी प्राप्त हुआ कि श्रवण नाग निवासी ग्राम आलमेर के बेटे को कोई उठाकर ले गया है। पुलिस टीम द्वारा श्रवण नाग व उनके परिजन से पूछताछ किया गया, तो घटना के संबंध में बताया गया कि दिनांक 18.11.2020 के सुबह लगभग 05.00-06.00 बजे के बीच वह और उनकी पत्नि उठकर लिपाई-पुताई के लिए गोबर बिनने बाहर की ओर निकले थे तथा घर में उसका लड़का दक्ष जो 36 दिवस का है तथा उसकी बेटी, जो 05 वर्ष की है, घर में सोये थे। लगभग 01 घंटे बाद जब उनकी पत्नि अपने बच्चे को सेंकाई करने के लिए घर गई तो देखी कि उसका लड़का दक्ष घर में नही था, तो आसपास पूछताछ कर पता-तलाश किये, जो नही मिला। बालक को किसी अज्ञात के द्वारा घर से उठाकर ले जाने से रिपोर्ट पर थाना उरंदाबेड़ा में अज्ञात व्यक्ति के विरूद्ध अपराध पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया। परिजनों, ग्रामीणों तथा चस्मदीद व्यक्तियों से पूछताछ करने पर एक अज्ञात महिला के द्वारा दक्ष को अपहृत किया जाने की तथ्य उजागर हुआ था।
पुलिस अधीक्षक कोण्डागांव श्री सिद्वार्थ तिवारी भा0पु0से0 द्वारा घटना की संवेदनशीलता को देखते हुए अपहृत बालक दक्ष के पता-तलाश हेतु एसडीओपी फरसगांव श्री पुष्पेन्द्र नायक के नेतृत्व में थाना प्रभारी उरंदाबेड़ा, बड़ेडांेगर, फरसगांव की अलग-अलग टीम गठित कर ग्राम आलमेर के आसपास के गांवों में ग्रामीणों से पूछताछ करने तथा पता-तलाश करने निर्देशित किया गया तथा क्षेत्र की संवेदनशीलता को देखते हुए डीएसपी श्री दीपक मिश्र व डीआरजी के बल को आसपास के ग्राम व जंगलों में अपहृत बालक के पता तलाश हेतु सघन सर्च अभियान चलाया जा रहा था। टेक्निकल इनपुट के माध्यम से सायबर सेल के द्वारा भी पता-तलाश किया जा रहा था।
पुलिस महानिरीक्षक बस्तर रेंज, बस्तर के द्वारा प्रकरण की संवेदनशीलता के मद्देनजर जिले के समस्त राजप़ि़त्रत अधिकारियों की बैठक लेकर अपहृत बालक के पता-तलाश हेतु घटना से संबंधित समस्त पहलुओं पर जाॅच कार्यवाही करने तथा आसपास के ग्राम के ग्रामीणों से तथा उनके परिजनों से पूछताछ कर अपहृत बालक को शीघ्र ही दस्तयाब करने हेतु निर्देशित किया गया था।



जा रहा था, किन्तु गहन पूछताछ के उपरांत बालक दक्ष का स्वयं अपहरण कर अपराध कारित करना कबूल किया गया, जिस पर आरोपिया रीता नाग के विरूद्ध वैधानिक कार्यवाही की जा रही है।
कोण्डागांव पुलिस द्वारा लगातार अपहृत बालक दक्ष को पता तलाश कर सकुशल दस्तयाब किया गया है तथा दस्तयाब कर जिला अस्पताल में चिकित्सीय परीक्षण कराया जा रहा है।
उक्त प्रकरण में अपहृत बालक को दस्तयाब करने में एसडीओपी फरसगांव श्री पुष्पेन्द्र नायक, डीएसपी श्री दीपक मिश्र, थाना प्रभारी उरंदाबेड़ा श्री सुनील खेस, थाना प्रभारी बड़ेडोंगर श्री देवेन्द्र दर्रो, उप निरीक्षक जितेन्द्र गुप्ता, सहायक उप निरीक्षक वीरेन्द्र कोर्राम तथा थाना एवं डीआरजी का बल का सराहनीय भूमिका रही है।

Leave a Reply