जल संसाधन मंत्री श्री तुलसीराम सिलावट ने बड़वानी दौरे के दौरान उक्त निर्देश जल संसाधन विभाग को दिये।

बड़वानी जिला आदिवासी बहुल एवं पहाड़ी क्षेत्र होने से यहाँ पर सिंचाई सुविधाओं की अधिक आवश्यकता है। अतः सिंचाई विभाग क्षेत्र विशेष अनुसार ऐसे तालाबों का प्रस्ताव बनाये, जो छोटे-छोटे किसानो के लिये उपयोगी हों, जिससे उनकी आय दुगनी हो सके। तालाबों की कार्ययोजना बनाने में स्थानीय जन-प्रतिनिधियों का भी सहयोग लें, जिससे तालाबों के लिए अच्छा साइड सिलेक्शन हो सके। 

जल संसाधन मंत्री श्री तुलसीराम सिलावट ने बड़वानी दौरे के दौरान उक्त निर्देश जल संसाधन विभाग को दिये। इस दौरान उन्होने जिले की सिंचाई तालाबों की स्थिति की भी जानकारी प्राप्त की। 

बड़वानी सर्किट हाउस में आयोजित इस बैठक में पशुपालन मंत्री श्री प्रेमसिंह पटेल, कलेक्टर श्री शिवराज वर्मा आदि उपस्थित थे। बैठक के दौरान श्री सिलावट ने विभाग के कार्यपालन यंत्री को निर्देशित किया कि शीघ्र ही जन-प्रतिनिधियों एवं कलेक्टर की उपस्थिति में बैठक आयोजित कर सिंचाई तालाब बनाने की विस्तृत कार्य-योजना बनाकर भेजी जाये। सिंचाई मंत्री ने जिले के दो पुराने तालाबों का भी चयन कर उनका जन-सहयोग से गहरीकरण एवं सुधारीकरण करवाने के निर्देश दिये।

Leave a Reply