पंजाब स्टेट सब जूनियर चैंपियनशिप के लिए लुधियाना टीम का हुआ चयन

योगिताअहिरवार विशेष संवाददाता.

फुटबॉल एसोसिएशन की ओर से गुरु नानक पब्लिक स्कूल सराभा नगर में पंजाब स्टेट सब- जूनियर चैंपियनशिप के ट्रायल करवाए गए। लुधियाना टीम चुनने के लिए करवाए गए ट्रायल में 70 खिलाड़ियों ने भाग लिया। इस दौरान लुधियाना एसोसिएशन से शिवतार सिंह बाजवा, प्रधान वरिंदर शर्मा, वाइस प्रधान नरिंदर सिंह मल्ली, रुपिंदर सिंह संधू, कंवर जतिंदर सिंह बाजवा, सुखजिंदर सिंह, गुरमीत सिंह, भूपिंदर सिंह मौजूद रहे।

ऑल द बेस्ट : खून में दौड़ रहा खेल के प्रति जजबा, दादा और पिता भी थे एथलेटिक प्लेयर

नवशरण का ओपन नेशनल एथलेटिक चैंपियनशिप के लिए चयन

स्पोर्ट्स रिपोर्टर | लुधियाना

विरासत में मिली परंपरा को बच्चे आगे बढ़ाते हैं। ऐसी ही लुधियाना के हैबोवाल निवासी है नवशरण सिंह जिनके खून में ही खेल के प्रति जज्बा दौड़ रहा है। दादा भी एथलेटिक्स में नेशनल प्लेयर थे, पिता भी एथलेटिक्स में नेशनल गोल्ड मेडलिस्ट थे और अब बेटा नवशरण भी इस परंपरा को आगे बढ़ा रहा है। शनिवार को पटियाला में ओपन नेशनल एथलेटिक चैंपियनशिप के लिए ट्रायल करवाए गए, जोकि 10 से 13 अक्तूबर को रांची में होगी। जिसके लिए नवशरण का सलेक्शन हो गया है। इससे पहले 4 अगस्त को संगरूर में हुई ओपन स्टेट एथलेटिक चैंपियनशिप में नवशरण में 110 मीटर हर्डल और 400 मीटर हर्डल में भाग लेते हुए गोल्ड मेडल हासिल किया। नवशरण ने बताया कि पिता सतबीर सिंह रेलवे में है जोकि 100 मीटर दौड़ में नेशनल गोल्ड मेडलिस्ट रह चुके हैं। इसके अलावा उनके दादा हंसा सिंह भी एथलेटिक्स मं 400 मीटर दौड़ में प्लेयर थे। उन्होंने नेवी में भी बतौर एथलेटिक कोच की भूमिका निभाई।

नेशनल में रिकाॅर्ड कायम करना और ओलंपिक्स में गोल्ड लाना है नवशरण का लक्ष्य

इंजरी के कारण एक साल खेलों से रहा दूर

नवशरण ने बताया कि 2017-2018 में इंजरी के कारण वह खेलों से दूर रहे हैं। प्रेक्टिस के दौरान उन्हें इंजरी हो गई थी। कुछ समय ठीक होने के बाद 2018 में फिर से इंजरी हो गई। इस वजह से उनकी प्रेक्टिस भी नहीं हो पाई। परंतु अब दोबारा से उन्होंने प्रेक्टिस शुरु की ओर ओपन स्टेट में मैडल हासिल किया है।

पिछले 6 साल से कर रहा है प्रेक्टिस : कोच

एथलेटिक कोच संजीव शर्मा सोनू ने बताया कि नवशरण पिछले 6 साल से गुरु नानक स्टेडियम में उसके पास प्रेक्टिस कर रहा है। इंजरी की वजह से करीब एक साल वह प्रेक्टिस नहीं कर पाया है। लेकिन अब उसने बहुत ही जल्द सब कवर कर मैडल हासिल किया है और उम्मीद है कि आगामी प्रतियोगिताओं में भी वह मैडल हासिल कर देश का नाम रोशन करेगा।

110 मीटर हर्डल में नेशनल रिकाॅर्ड बनाना है लक्ष्य

नवशरण के मुताबिक वह 110 मीटर हर्डल रेस में नेशनल में रिकार्ड कायम करना चाहता है। वह चाहता है कि नेशनल में उसका अपना रिकार्ड हो। इससे पहले महाराष्ट्र के खिलाड़ी सिधांत का नेशनल में 13.34 सेकेंड का रिकार्ड है। इसके अलावा ओलंपिक्स में भी गोल्ड मेडल हासिल कर देश का नाम रोशन करना चाहता है।

जिला स्तरीय कुश्ती मुकाबले में जीते 5 गोल्ड

लुधियाना| सेक्रेड सोल कांवेंट सीनियर सेकेंडरी स्कूल दुगरी धांधरा रोड में जिला स्तरीय कुश्ती मुकाबले करवाए गए। यह प्रतियोगिता 18 सितंबर से 21 सितंबर तक करवाई गई। स्कूल प्रिंसिपल नवजोत कौर टक्कर ने बताया कि लुधियाना जिले के लगभग 15 स्कूलों के 250 के करीब स्टूडेंट्स ने इसमें भाग लिया। स्कूल के खिलाड़ियों ने कुल 5 मेंडल हासिल किए हैं। जिसमें तीन गोल्ड और दो सिल्वर मेडल है। लड़कियों के कुश्ती मुकाबले में स्कूल की छात्रा अर्शदीप कौर ने अंडर-17 केटेगरी और अर्शदीप कौर ने अंडर-19 केटेगरी में गोल्ड मैडल जीता। जबकि लड़कों के मुकाबले में गुरमन सिंह और हरवीर सिंह ने सिल्वर मैडल व शिवम तिवारी ने गोल्ड मैडल जीता। स्कूल के चेयरमैन गुरमेल सिंह गिल, डायरेक्टर सुखदीप गिल ने विजेता खिलाड़ियों को बधाई दी और आगामी प्रतियोगिताओं में भी बेहतरीन प्रदर्शन करने काे प्रेरित किया गया।

इससे पहले ये जीते मेडल : नवशरण ने बताया कि उसने गुजरांवाला गुरु नानक पब्लिक स्कूल से 10वीं तक की पढाई, पंजाब यूनिवर्सिटी चंडीगढ़ से बीए की है। अब वह लवली यूनिवर्सिटी सो बीपीईडी की पढा़ई कर रहा है। 27 अगस्त 2019 में लखनऊ में हुई नेशनल एथलेटिक चैंपियनशिप में पार्टिसिपेशन, 2015 में हैदराबाद में हुए नेशनल एथलेटिक चैंपियनशिप में पार्टिसिपेशन, 2014 लखनऊ में हुई नार्थ जोन में 110 मीटर हर्डल रेस में सिल्वर मैडल, हिमाचल प्रदेश 2015 में हुई 110 मीटर हर्डल रेस में दूसरा स्थान हासिल किया है।

 

पारिवारिक लगाव ही जीवन को पूर्ण व खुशनुमा बनाता है

मु झे हमेशा उन लोगों के प्रति सहानुभूति रहती है, जिन्हें अपने कामकाज के सिलसिले में परिवार को छोड़कर मीलों लंबी यात्रा करनी पड़ती है। मैंने अपनी विवाह पूर्व की और वैवाहिक जिंदगी में परिवार के सदस्यों से दूर रहने के पलों को अनुभव किया है, जब मेरा काम मुझे उनसे दूर ले गया है। दिल घर के प्रेम के लिए तरस जाता है, जबान चिरपरिचित स्वाद की कामना करती है, क्योंकि मन बार-बार घर पर मां के बनाए पोहे या उपमा की याद दिलाता रहता है और चिक्की या चाकलेट या टी-शर्ट को लेकर भाई-बहनों में होने वाले छोटे-मोटे झगड़ों को टीवी के रिप्ले की तरह दिखाता रहता है। यह सूची अंतहीन है। साप्ताहिक छुट्‌टयों पर तो हालत और भी खराब हो जाती है। आप कोई मूवी देखकर या नई जगहों की सैर करके खुद पर पैसा खर्च करना नहीं चाहते बल्कि बचत करके वह थोड़ा-सा पैसा अपने भाई-बहनों के लिए भेजना चाहते हैं। फिर आपको समझ में नहीं आता कि छुट्‌टी के दिन करें क्या। अकेलापन आपको खाने को दौड़ता है। जब पड़ोसी कहता था कि आपके लिए फोन कॉल है तो न जाने किस अजीब-सी वजह से दिल की धड़कन बढ़ जाती और ओंठों से प्रार्थना के शब्द निकलने लगते। मैं अपने अनुभव से कह सकता हूं कि घर से दूर जाकर कमाने वाले अविवाहित लोग बहुत शिद्दत से दुआ मांगते हैं।

यही वजह है कि मुझे यह युवा बहुत अच्छा लगता है, जिसके पिता कबाड़ी थे और मां निर्माण स्थलों पर मजदूरी करती थीं तो इस कमजोर आर्थिक पृष्ठभूमि ने उसे 8वीं कक्षा में पहुंचते-पहुंचते पढ़ाई छोड़ने पर मजबूर कर दिया ताकि वह कोई कामकाज करके परिवार की मदद कर सके। भाग्य ने उसकी कड़ी परीक्षा लेनी शुरू कर दी। 2009 में जब पिता को लास्ट स्टैज का कैंसर होने का पता चला तो उसी वक्त उसकी चार में से दो बहनें भी बीमार पड़ गईं। उन्होंने घर में जो कुछ था सब बेच दिया पर इसके बावजूद पिता को नहीं बचा सके और वे सितंबर 2009 में चल बसे। 2010 में उससे दो साल बड़ी बहन भी गुजर गई। उसकी आहारनली में इन्फेक्शन हो गया था और वह पूरे शरीर में फैल गया। सरकारी अस्पतालों के चक्कर बढ़ गए थे। परिवार के पास उसके इलाज के लिए पैसा नहीं था। हालांकि, उसकी मां कोई भी जिम्मेदारी अकेले नहीं संभाल सकती थीं फिर भी उसने कमाई के लिए ‘टपरी’ खोल ली और इस युवक से कहा कि वह अपने सपने पूरे करने के लिए घर से मीलों दूर जाने में कोई संकोच न करें।

आप जानते हैं उसका सपना क्या था? एक एक्टर बनना, जो उसके परिवार की हालत देखते हुए मेल नहीं खाता था! लेकिन, उसने बड़ा सपना देखा और मुंबई चला गया। शुरू में तो उसके पास इतना भी पैसा नहीं था कि वह शूटिंग सेट्स पर जाकर काम मांग सके। वह मां को फोन कॉल लगाकर ऐसी हर यात्रा के लिए 150 रुपए की मांग करता था। 2010 में जब उसे कुछ विज्ञापन फिल्में मिलने लगीं तो शेष तीन बहनों में से एक की हालत खराब हो गई। वह उसे देखने जल्दी से दिल्ली पहुंचा। बहन को जिंदगी में सिर्फ एक सुकून चाहिए था और वह यह था कि वह किसी गद्दे पर सो सके, क्योंकि फर्श पर सोने से उसे सबसे ज्यादा तकलीफ हो रही थी। उसने वादा किया कि वह उसकी यह तकलीफ दूर करेगा पर वह इसका लुत्फ लेने का इंतजार नहीं कर सकी और उसकी मौत हो गई।

2013 में माना जा रहा था कि एक बड़ा डायरेक्टर उसे लॉन्च करने वाला है। हालांकि, दो साल के इंतजार के बाद प्रोजेक्ट रद्द हो गया और उसके साथ परिवार के लिए मकान खरीदने का उसका सपना भी खारिज हो गया। 2017 में उसकी सबसे बड़ी बहन किडनी खराब हो जाने से गुजर गई और हाल ही में 1 अगस्त 2019 को उसके भाई की दिल के दौरे से मौत हो गई। आज उसके पास सबकुछ है और दिल्ली में बड़ा मकान होने के बावजूद वह अपने कुत्ते सहित पूरे परिवार को मुंबई ले जाने की योजना बना रहा है तो, याद रहें कि कहीं न कहीं यह कसक तकलीफ देते है कि पूरा परिवार उसकी सफलता का लुत्फ नहीं उठा सका। मिलिए 31 वर्षीय अंश बागड़ी से, जो टीवी सीरियल ‘दिल तो हैप्पी है जी!’ के प्रमुख पुरुष पात्र का किरदार निभा रहे हैं।

फंडा यह है कि बड़े सपने देखें, उन्हें हासिल करें और यदि आपके पैरेंट्स और बहन-भाई आपके आसपास हंै तो आप सबसे भाग्यवान हैं, इसलिए जितना हो सके उनसे नजदीकी बनाएं और रोज कहते रहें कि आप उनसे प्यार करते हैं- इससे जीवन में पूर्णता आती है और दिल होता हैप्पी है!

About Yogita Ahirwar Bhopal

View all posts by Yogita Ahirwar Bhopal →

Leave a Reply