स्टेडियम में ही दुकानें लगाने के लिए अड़े पटाखा विक्रेता, बोले- दूसरी जगह हरगिज नहीं जाएंगे

स्टेडियम में पटाखा बाजार लगाने का मामला मंगलवार को भी सुलझा। पटाखा व्यापारी स्टेडियम में ही दुकानें लगाने अड़े…

Betul News - mp news firecrackers adamant to set up shops in stadium itself said will not go anywhere else

स्टेडियम में पटाखा बाजार लगाने का मामला मंगलवार को भी सुलझा। पटाखा व्यापारी स्टेडियम में ही दुकानें लगाने अड़े हुए हैं। इधर स्टेडियम में खेल संघों द्वारा पटाखा बाजार लगाने पर आपत्ति ली है। वहीं सुरक्षा मापदंडों को लेकर प्रशासन पटाखा बाजार लगाने की अनुमति नहीं दे रहा है। प्रशासन ने न्यू बैतूल स्कूल ग्राउंड के अलावा पटाखा व्यापारियों को दो स्थलों पर दुकानें लगाने का सुझाव दिया था, लेकिन पटाखा व्यापारी वहां भी जाने को तैयार नहीं हुए। पटाखा व्यवसायियों का कहना है यदि उन्हें स्टेडियम में दुकानें लगाने की अनुमति नहीं मिली तो वे दुकान ही नहीं लगाएंगे।

पिछले चार सालों से शहर के कोठी बाजार क्षेत्र के न्यू बैतूल स्कूल ग्राउंड में पटाखा बाजार लगाया जा रहा है। कहां करीब 300 से अधिक फुटकर पटाखा व्यापारी दीपावली पर दुकानें लगाते है। लेकिन इस साल फुटकर पटाखा व्यापारियों ने न्यू बैतूल स्कूल ग्राउंड में दुकानें लगाने से इनकार कर दिया। उनकी मांग है कि प्रशासन स्टेडियम या आसपास जगह दे। स्टेडियम में जगह नहीं देने से दो दिनों से व्यापारी धरने पर बैठे हैं। उनका कहना है होशंगाबाद, इटारसी सहित अन्य स्थानों पर स्टेडियम में ही पटाखा बाजार लगाया जा रहा है तो बैतूल में क्यों नहीं। संघ के शेख असलम ने बताया स्टेडियम शहर के बीच में है। यहां पर सभी तरफ के लोग आ सकते हैं।

तकरार : दूसरे दिन भी धरने पर रहे विक्रेता, प्रशासन बोला- अनुमति नहीं देंगे

बैतूल। स्टेडियम के अंदर या आसपास पटाखा दुकानें लगाने की मांग को लेकर धरने पर बैठे व्यापारी।

दो जगह पटाखा दुकान लगाने दिया विकल्प, फिर भी नहीं माने व्यापारी

पटाखा बाजार का विवाद सुलझाने के लिए एसडीएम राजीव रंजन पांडे ने व्यापारियों को स्टेडियम छोड़कर जेएच कॉलेज परिसर तथा अभिनंदन सरोवर के पास दुकानें लगाने पर सहमति मांगी, लेकिन व्यापारियों ने यहां जाने से इनकार कर दिया। व्यवसायी कौशल बावसे ने बताया कॉलेज परिसर में ग्राहकों के नहीं आने के कारण तथा अभिनंदन सरोवर में पारदियों के होने के चलते वहां दुकानें लगाना संभव नहीं है।

वरिष्ठ अधिकारी जहां जगह तय करेंगे वहीं बाजार लगेगा

Leave a Reply