पुराने डीजल वाहन फैला रहे शहर में जहर, जर्जर सड़कों ने भी खराब की हवा

शहर में 300 से ऊपर बना हुआ वायु गुणवत्ता सूचकांक चुनौती बना हुआ है। विशेषज्ञों की राय है कि शहर के वातावरण में वाहनों से निकलने वाली जहरीली गैसों का आैसत अभी सामान्य स्थिति में है।

शहर में 300 से ऊपर बना हुआ वायु गुणवत्ता सूचकांक चुनौती बना हुआ है। विशेषज्ञों की राय है कि शहर के वातावरण में वाहनों से निकलने वाली जहरीली गैसों का आैसत अभी सामान्य स्थिति में है। हवा में प्रदूषण का सबसे बड़ा कारण डीजल वाहनों का धुंआ है। इसमें माैजूद पीएम 2.5 कण हवा काे प्रदूषित कर रहे हैं। इसके अलावा शहर की उखड़ी हुई सड़कें और कंस्ट्रक्शन साइट पर बिखरे हुए मलबे के कारण पीएम 10 कण का स्तर बढ़ रहा है।

शहर की हवा को प्रदूषित करने वाले तीन प्रमुख कारण

1. खराब सड़कें : पिछले माह तक शहर की 35 फीसदी सड़कों की हालत खराब थी। यदि इन्हें पहले सुधार लिया गया होता, तो प्रदूषण का स्तर इतना नहीं बढ़ता। वर्तमान में अब भी 20 फीसदी सड़कों की हालत खस्ताहाल है।

2. खुले में मलबा डालना : शहर में खुले में डाला जा रहा मलबा और निर्माणाधीन इमारतों और बके बाहर पड़ी निर्माण सामग्री भी प्रदूषण बढ़ने का मुख्य कारक हैं। शहर में चल रहे बड़े प्रोजेक्ट निर्माण प्रोजेक्ट के कारण भी प्रदूषण का स्तर बढ़ा है।

Leave a Reply