बाल मजदूरों से हो रहा तालाब पर कार्य

जनपद पंचायत पेटलावद के ग्राम पंचायत देवली में इन दिनों मनरेगा योजना अंतर्गत ₹900000 की लागत से पालदा वाली नाकी पर तालाब निर्माण का कार्य किया जा रहा है ,जिसमें पंचायत द्वारा काफी भ्रष्टाचार किया जाकर तालाब निर्माण में बाल मजदूर से कार्य करवाया जा रहा है ,जिसका वीडियो ग्रामीणों द्वारा बनाकर वायरल किया गया है, वीडियो की सच्चाई जानने हेतु पत्रकार जब तालाब निर्माण कार्य पर वास्तुस्थिति देखने पहुंचे तो सरपंच गोपाल मेड़ा ने पत्रकारों से अभद्र व्यवहार करते हुए कहा कि तुम किस की परमिशन से मेरे क्षेत्र में आये हो, यहां मेरा राज चलता है ,मेरे क्षेत्र में सीईओ भी मुझसे पूछ कर आता है ,और पहले ये बताओ कि आप को बच्चों वाला वीडियो किसने दिया ,उसका नाम केवल एक बार बता दो, फिर देखो उसका मैं क्या हाल करता हूं,।
सरपंच द्वारा तालाब निर्माण पूरी तरह से घटिया निर्माण किया जा रहा है ,तालाब निर्माण में ना तो काली मिट्टी का उपयोग किया जा रहा है, नाही तालाब इंजीनियर की देखरेख में बन रहा है ,और ना ही ईस्टीमेट के हिसाब से निर्माण हो रहा है ,यहां तक की मजदूरों को भी कोई व्यवस्था साइट पर नहीं दी जा रही है। मजदूरों से बेजुबान जानवरों की तरह काम करवा जा रहा है ,यहां तक की छोटे-छोटे बच्चों से भी तालाब में काम करवा जा रहा है। सरपंच ने गांव के बच्चों के हाथों से किताबें छुड़वा कर गेती पावड़े थमा दिए हैं, बच्चों के वीडियो वायरल होने के बाद हर जगह पंचायत की बदनामी हो रही है, और सरपंच भाजपा समर्पित होने के कारण भाजपा सरकार की भी यहां बदनामी होती दिख रही है, सरपंच के इस भ्रष्टाचार एवं अभद्र व्यवहार से कहीं ना कहीं भाजपा भी बदनाम हो रही है।

जब इस विषय में जनपद सीईओ चौहान से चर्चा की गई की बाल मजदूर का वीडियो वायरल हुआ है तो उन्होंने इस पर कहा कि मेरे संज्ञान में यह मामला अभी तक नहीं आया था, आपके द्वारा मुझे पता चला है तो मैं इसे दिखाता हूं और जो भी उचित कार्रवाई होगी वह करवाता हूं।

Leave a Reply