बिहार में दवा दुकानें दो ‎दिन रहेंगी बंद

पटना पटना में दवा दुकानों में फार्मासिस्ट की अनिवार्य नियुक्ति के विरोध में बिहार केमिस्ट एंड ड्रगिस्ट एसोसिएशन के आह्वान पर बिहार की सभी दवा दुकानें दो ‎दिन तक बंद रहेंगी। वहीं मुजफ्फरपुर प्रौद्योगिकी संस्थान के छात्रों ने कल से होने वाली दवा दुकान की हड़ताल का विरोध किया है। इसके अलावा फार्मासिस्ट की पढ़ाई कर रहे छात्रों ने दवा दुकानों की हड़ताल को जनविरोधी बताया है। छात्रों ने कहा कि बिहार सरकार ने दवा दुकानों में फार्मासिस्ट को रखना अनिवार्य किया है, जिससे आम लोगों को सही सही दवा मिल पाएगी। छात्र सरकार के निर्णय की सराहना कर रहे हैं। दवा दुकानदारों का मुख्य विरोध दवा दुकानों पर फार्मासिस्ट को रखने की अनिवार्यता और दवा की ऑनलाइन बिक्री को लेकर है। वहीं केमिस्ट एन्ड ड्रगिस्ट एसोसिएशन ने कहा ‎कि जब सरकार के पास पर्याप्त संख्या में फार्मासिस्ट ही नहीं है तो फिर सभी दुकानों में कैसे बहाली होगी। एसोसिएशन का मानना है कि सरकार का यह कदम ऑनलाइन दवा की बिक्री करने वाली कंपनियों को बढ़ावा देने और छोटे दवा दुकानदार को हतोत्साहित करने वाला है। केमिस्ट एन्ड ड्रगिस्ट एसोसिएशन के आह्वान पर 3 दिनों की हड़ताल को लेकर मुजफ्फरपुर में 3 हजार से अधिक दवा की दुकानों को बन्द रखने का दावा किया गया है। इस मामले में बीसीडीए के सचिव रंजन कुमार ने कहा कि पूरी एकजुटता से सरकार के इस कदम का विरोध 3 दिनों की हड़ताल के दौरान किया जाएगा। वहीं तीन दिनों तक दवा दुकानदारों की हड़ताल का व्यापक असर हो सकता है। बताया गया ‎कि सरकारी अस्पताल में भले ही गरीब मरीजों को सरकार दवा देने का दावा करती है, लेकिन सरकारी व्यवस्था पूरी तरह से कारगर नहीं है।

About डीजी न्यूज़ मध्य प्रदेश

View all posts by डीजी न्यूज़ मध्य प्रदेश →

Leave a Reply