मंदसौर इंडियन बैंक द्वारा बनाए गए एक अकाउंट से दो ग्राहक बैंक मेनजर की लापरवाही उपर से राजनितिक पकड़ की दादागिरी

बैंक प्रबंधक मानवेंद्र सिंह चौहान की बहुत बड़ी लापरवाही का मामला उजागर होते हुए सामने आया है

मन्दसौर/ग्राम पंचायत निपानिया अफजलपुर के ग्राहक द्वारा मंदसौर इंडियन बैंक मैं अकाउंट खाता खोला गया था विष्णु पति देवीलाल बोडाना
दूसरा विष्णु पति देवीलाल बागरी दोनों खाताधारक ग्राहक के अकाउंट को बैंक मैनेजर एवं प्रबंधक द्वारा निपानिया अफजलपुर के ही निवासी दोनों ग्राहक को दे दिया एक ही अकाउंट नंबर ग्राहक दो खाता क्रमांक 1 जिसके वजह से प्रथम ग्राहक के अकाउंट से दूसरे ग्राहक द्वारा खाते में समूह लोन व मजदूरी के पैसे जमा कराए थे पैसे अकाउंट से निकलते गए जब बैंक में आकर संपर्क करें तो पता चला कि आप के खाते से पैसे निकाले गए आपने परंतु मैंने एक भी विड्रोल नहीं करा और ना ही मैंने पैसे निकाल ले फिर मेरी अनुपस्थिति में कैसे पैसा निकला जब बैंक मैनेजर से पूछा गया इसके बारे में तो मैनेजर का कहना है कि मुझे इसके बारे में जानकारी नहीं है यह आप पता करो कि कैसे निकला जब खाताधारक ने मीडिया का सहारा लिया तो मीडिया के माध्यम से मैनेजर से बाइट लेना वह पूछना चाहा तो पहले मना कर दिया और इधर उधर की फालतू बातें करके बात टालने की कोशिश की गई मैनेजर के हाव भाव उससे पता चलता है कि यह घपला मैनेजर द्वारा ही किया गया उसकी लापरवाही के कारण पैसा निकाला गया इस विषय में प्रथम ग्राहक के खाते से लगभग 70000 की राशि मुझे प्राप्त नहीं हुई और जब छानबीन की तो पता चला कि हमारे ही गांव के व्यक्ति को यहीं अकाउंट नंबर को गांव के दूसरे ग्राहक को इंडियन बैंक द्वारा पासबुक व खाता नंबर दे रखा प्रथम ग्राहक को पता चलने पर प्रथम ग्राहक मीडिया को अपने साथ लेकर मंदसौर इंडियन बैंक के मैनेजर एवं प्रबंधक मानवेन्द्र सिंह चौहान से चर्चा की इंडियनबैंक के प्रबंधक मानवेन्द्र सिह चौहान ने बताया कि इस बारे में मेरे को पता नहीं जबकि एक अकाउंट नंबर और ग्राहक दोनों ग्राहक स्पष्ट रूप से मैनेजर के समक्ष बात रखी थी आपने हमारे दोनों को एक ही अकाउंट नंबर दिया है मेरे खाते में पैसे आते हैं तो दूसरा ग्राहक निकाल देता है इसका जिम्मेदार कौन
मीडिया और बैंक प्रबंधक मानवेंद्र सिंह चौहान से चर्चा होने के बाद बैंक प्रबंधक मानवेंद्र सिंह चौहान का कहना है कि मेरी राजनीतिक में बड़ी पहुंच है आप मीडिया कर्मियों को जो भी करना वह कर लीजिए और मिडिया कर्मियों के साथ बत्तमीजी की और कहा मुझे इसके बारे में जानकारी नहीं यह कथन इंडियन बैंक मैनेजर द्वारा कहा गया मगर बैंक प्रबंधक मानवेंद्र सिंह चौहान की बड़ी लापरवाही का मामला सामने आरहा है अगर नहीं तो फिर एक ही बैंक की शाखा का एक ही अकाउंट नंबर एक ही शाखा मे दो ग्राहक को कैसे दिया गया जबकि दोनों ग्राहक के पास एक ही बैंक की और एक ही अकाउंट की दो पासबुक मौजूद है जिला कलेक्टर महोदय को ऐसे बैंक कर्मियों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई करनी चाहिए ताकि भविष्य में किसी गरीब के पैसा दुसरा ग्राहक नहीं निकल सके

प्रथ्विराज भदनिया की रिपोट

Leave a Reply