भोपाल मेंं जारी विद्यु मीटर रीवा में मिला चल रहा मीटर रीडिंग का खेल

विद्युत मीटर में खपत अधिक होने पर उन्हें बदल कर रीडिंग बदलने को खेल व्यापक स्तर में चल रहा है। स्थिति है कि 20-20 हजार लेकर मीटर रीडर विद्युत मीटर बदल रहे है। स्थित यह है भोपाल में इशू हुआ मीटर रीवा में लगा हुुआ है। दोबारा मीटर जलने पर व ज्यादा रीडिंग आने पर अब इस तरह के कई मामले सामने आ रहे है। इनमें कई मामलों में उपभोक्ता ठगी का शिकार भी बन रहे है।

The game of meter reading found in the electric meter Rewa released in Bhopal

रीवा। विद्युत मीटर में खपत अधिक होने पर उन्हें बदल कर रीडिंग बदलने को खेल व्यापक स्तर में चल रहा है। स्थिति है कि 20-20 हजार लेकर मीटर रीडर विद्युत मीटर बदल रहे है। स्थित यह है भोपाल में इशू हुआ मीटर रीवा में लगा हुुआ है। दोबारा मीटर जलने पर व ज्यादा रीडिंग आने पर अब इस तरह के कई मामले सामने आ रहे है। इनमें कई मामलों में उपभोक्ता ठगी का शिकार भी बन रहे है। इस मामलों का खुलासा होने पर कार्यपालन यंत्री ने जांच के निर्देश दिए है।

शहरीय संभाग में अंतर्गत घोघर निवासी एक उपभोक्ता को थ्री फेस मीटर अधिक चलना बताकर मीटर रीडर ने बदल दिया । इसके स्थान में दूसरा मीटर लगाकर बिल जमा करने 20 हजार रुपए उपभोक्ता से लिए है। इसके बावजूद भी ना ही बिल जमा हुआ और ना ही मीटर सुधरा। इसके बाद जब उपभोक्ता ने इसकी शिकायत की मीटर जांच के दौरान नम्बर डालने पर पता चला की यह मीटर यहां से इशू हीं नहीं हुआ है। जो मीटर नम्बर ०००२१५१ भोपाल में इशू हुआ है।जिसे मीटर रीडर ने बदला है। ऐसे एक और घोघर निवासी उपभोक्ता का मीटर बदला गया है। यह मीटर सतना से इशू होना बताया गया है। इस तरह उपभोक्ता के मीटर रीडर द्वारा ठगी का मामला खुलासा होने पर कार्यपालन यंत्री ने जांच के निर्देश दिए है।

इस तरह होता है खेल-
बताया जा रहा है इनमें अधिकांश बड़े उपभोक्ता शामिल होते है पहले वह मीटर में रीडर से मिलकर बिजली की कम खपत दिखाते है । इसके बाद जब रीडिंग बहुत ज्यादा हो जाता है तो उसे मीटर जला देते है। इसके बाद मीटर बदलकर नई रीडिंग के अनुसार मीटर रीडिंग का बिल जारी करवा देते है। इससे विद्युत कंपनी को फायदा हो जाता है। इसमें कभी -कभी मीटर पुरानी मीटर रीडिंग पंच एमआरआइ से पंच होने पर उपभोक्ता की परेशानी बढ़ जाती है। ऐसे में इकट्टा बिल जारी हो जाता है।

ढेकहा एवं पडऱा में बदले मीटर-
बताया जा रहा इसी तरह ढेकहा और पडऱा मोहल्ले में व्यापक स्तर की मीटर रीडिंग के लिए नए मीटर बदले गए है। इसका खुलासा होने पर कार्यपालनयंत्री मीटर रीडर व लाइन मैन के विरुद्ध जांच बैठाई है।

दिए है जांच के आदेश
कही उपभोक्ता की मीटर बदलने की शिकायत सामने आ रही है जो मीटर अब उपभोक्ता के घरों में लगे है उनके नम्बर मैंच नहीं हो रहे है। इस संबंध में जांच की जा रही है।
ओपी द्विवेदी, कार्यपालन यंत्री रीवा

About डीजी न्यूज़ मध्य प्रदेश

View all posts by डीजी न्यूज़ मध्य प्रदेश →

Leave a Reply