महाराष्ट्र नहीं, मुस्लिम हितों के लिए उद्धव सरकार के साथ कांग्रेस?

महाराष्ट्र नहीं, मुस्लिम हितों के लिए उद्धव सरकार के साथ कांग्रेस?

कांग्रेस नेता अशोक चव्हाण ने नांदेड में नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के खिलाफ आयोजित कार्यक्रम में कहा कि कई मुस्लिम भाइयों ने कहा था कि हमारा सबसे बड़ा दुश्‍मन बीजेपी है. बीजेपी को अगर रोकना है तो कांग्रेस को इस सरकार में शामिल होना चाहिए.

Subscribe to updatesमहाराष्ट्र: महाराष्‍ट्र में अघाड़ी सरकार में मंत्री और वरिष्‍ठ कांग्रेस नेता अशोक चव्हाण (Ashok Chavan) ने नांदेड में नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के खिलाफ आयोजित कार्यक्रम में कहा कि कई मुस्लिम भाइयों ने कहा था कि हमारा सबसे बड़ा दुश्‍मन बीजेपी है. बीजेपी को अगर रोकना है तो कांग्रेस को इस सरकार में शामिल होना चाहिए. इसीलिए कांग्रेस आज सरकार में शामिल है. उन्होंने कहा कि जब तक कांग्रेस सरकार में शामिल है तब तक  महाराष्‍ट्र में सीएए लागू नहीं होने देंगे.

संसद में नागरिकता संशोधन कानून की जंग हार चुकी कांग्रेस अब सड़कों और रैलियों में इसे जीतने की कोशिश कर रही है. इसके लिए वह मुसलमानों को भड़काने के लिए कोई कोर कसर नहीं छोड़ रही. सोमवार को महाराष्ट्र के नांदेड़ में एक रैली को संबोधित करते हुए अशोक चव्हाण (Ashok Chavan) ने जो कहा वह कांग्रेस की मुस्लिम तुष्टिकरण की राजनीति और रणनीति की ओर इशारा करती है. अशोक चव्हाण (Ashok Chavan) ने कहा कि महाराष्ट्र में कांग्रेस ने मुसलमानों के हित के लिए ही गठबंधन सरकार का हिस्सा बनना स्वीकर किया है. इधर, दिल्ली के शाहीन बाग में नागरिकता कानून के विरोध में चल रहे प्रदर्शन में कांग्रेस नेताओं का समर्थन के लिए पहुंचना जारी है. सोमवार को ही कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह प्रदर्शनकारियों के समर्थन के लिए पहुंचे. मतलब साफ है कि कांग्रेस नागरिकता कानून के विरोध को मुसलमानों के बीच गहरी पैठ बनाने के बड़े अवसर के रूप में देख रही है.

चव्हाण के बयान पर शिवसेना ने कहा ये
कांग्रेस नेता और महाराष्ट्र के मंत्री अशोक चव्हाण (Ashok Chavan) के बयान पर मचे संग्राम पर शिवसेना सांसद संजय राउत ने कहा कि महाराष्ट्र में 3 पार्टियों की सरकार है, कोई सेक्युलर है, कोई हिंदुत्व
की विचारधारा वाली है. महाराष्ट्र में सरकार कॉमन मिनिमम प्रोग्राम पर चल रही है. संजय राउत ने अशोक चव्हाण (Ashok Chavan) के बयान पर कुछ भी कहने से साफ मना कर दिया.

वोट के लिए कांग्रेस का ‘मुस्लिम तुष्टिकरण’?

  1. बटला हाउस एनकाउंटर को फर्जी बताया.
  2. ट्रिपल तलाक के खिलाफ कानून का विरोध.
  3. लादेन, हाफिज सईद के लिए सम्मानजनक शब्द.
  4. हिंदू संगठनों को लश्कर से खतरनाक बताया.
  5. शाहबानो केस में फ़ैसले के बाद कानून बदला.

2019 तेलंगाना चुनाव: कांग्रेस का मुस्लिम तुष्टिकरण!

  1. घोषणा पत्र में चर्च और मस्जिदों को मुफ्त बिजली देने का वादा.
  2. मुस्लिम युवाओं को सरकारी ठेकों में विशेष अवसर देने का वादा.
  3. गरीब मुस्लिम छात्रों को 20 लाख रुपये की आर्थिक मदद का वादा.
  4. मुस्लिमों के लिए स्थानीय स्कूल, अल्पसंख्यकों के लिए अस्पताल.
  5. अल्पसंख्यकों के लिए विशेष उर्दू डिस्ट्रिक्ट सिलेक्शन कमेटी.
  6. धार्मिक आधार पर भर्ती वाले संस्थाओं को दंडित करने का प्रावधान.

कांग्रेस का मुस्लिम तुष्टिकरण!

  1. शाह बानो केस में संसद में कानून बनाकर SC का फैसला पलटा.
  2. मुसलमानों को हज यात्रा के लिए सब्सिडी देने की शुरुआत की.
  3. मुसलमानों की सामाजिक स्थिति पर सच्चर कमेटी का गठन.
  4. फरवरी 2014 में अल्पसंख्यकों के समान अवसर आयोग को मंजूरी.
  5. मुस्लिमों में तीन तलाक के खिलाफ बिल का संसद में विरोध.

लोकसभा में कांग्रेस के मुस्लिम सांसद

  • 2004 : 10
  • 2009 : 10 
  • 2014 : 7 
  • 2019 : 5 

कांग्रेस सरकार में मुस्लिम मंत्री

  • 2004 : 7 
  • 2009 : 7 

कांग्रेस का मुस्लिम तुष्टिकरण

  1. 2005 में सच्चर कमेटी का गठन.
  2. मुसलमानों के पिछड़ेपन पर रिपोर्ट. 
  3. 29 जनवरी, 2006 को अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय का गठन.
  4. सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय से अलग मंत्रालय.
  5. दिसंबर 2006, राष्ट्रीय विकास परिषद की बैठक
  6. मनमोहन सिंह ने कहा, संसाधनों पर पहला हक अल्पसंख्यकों का.
  7. 2004 में जस्टिस रंगनाथ मिश्र कमेटी का गठन.
  8. दिसंबर 2009 में UPA सरकार को रिपोर्ट सौंपी.
  9. मुसलमानों के लिए 10% आरक्षण की सिफारिश.
  10. 2012 में सोनिया गांधी ने मुसलमानों के पिछड़ेपन पर चिंता जतायी.
  11. 2014 लोकसभा चुनाव में मुस्लिम आरक्षण का दांव.
  12. OBC कोटे से आरक्षण देने का चुनावी वादा किया
, ,

Leave a Reply