मिठाई बनाने के तीन कारखानों पर छापा, किसी भी जगह नहीं मिला दूध

मिठाई बनाने के तीन कारखानों पर छापा, किसी भी जगह नहीं मिला दूधप्रोपराइटी फूड से मिठाई बनाने जाने का भास्कर द्वारा खुलासा करने पर प्रशासनिक अधिकारियों ने शहर के बड़े मिठाई…

प्रोपराइटी फूड से मिठाई बनाने जाने का भास्कर द्वारा खुलासा करने पर प्रशासनिक अधिकारियों ने शहर के बड़े मिठाई कारखानों पर एकसाथ छापे मारे। तीनों जगहों से 7 सैंपल लिए। वहीं मावे और दूध की खरीदी का रिकॉर्ड देखा। कोठी बाजार बीकानेर के कारखाना संचालक तो 600 लीटर दूध रोजाना खरीदने का दावा करने लगा, जबकि कारखाने में दूध का स्टॉक ही नहीं था। अब ये सैंपल भोपाल की लैब भेजे जाएंगे।

कलेक्टर तेजस्वी एस. नायक के आदेश पर खाद्य सुरक्षा अधिकारियों और प्रशासनिक अधिकारियों की तीन टीमों ने गुरुवार को एकसाथ मिठाई निर्माण के तीन कारखानों पर छापा मारा। गंज मंडी में पूजा स्वीट्स और साईं पूजा स्वीट्स के कारखानों पर खाद्य सुरक्षा अधिकारी रूपराम सनोडिया और शशि भारती पहुंचे। खाद्य सुरक्षा अधिकारी रूपराम सनोडिया ने बताया कोठी बाजार में एक गली में स्थित बीकानेर स्वीट्स के बड़े कारखाने में भी जांच की गई। बीकानेर स्वीट्स से मावे की मिठाई के 2 सैंपल जब्त किए, वहीं गंज के दोनों गोदामों से 5 सैंपल लिए। इस तरह पूरी कार्रवाई में 7 सैंपल लिए। इन सैंपलों को राजधानी भोपाल की लैब में भेजा जाएगा।

बैतूल। मिठाई की जांच करते हुए अधिकारी।

दुकान संचालक का दावा : दूध उबालकर बनाते हैं मावा, लेकिन नहीं था दूध

बीकानेर स्वीट्स के कोठी बाजार की गली में स्थित कारखाने में ऑटोमेटिक मशीनें लगी हुईं थी। यहां पहुंचे खाद्य सुरक्षा अधिकारी संदीप पाटिल ने बनी हुई मिठाई का एक सैंपल और कच्चे माल का एक सैंपल लिया। कारखाने पर मौजूद बीकानेर स्वीट्स कोठी बाजार के शैतान सिंह ने खाद्य सुरक्षा अधिकारी संदीप पाटिल को बताया कि वे रोजाना 600 लीटर दूध खरीदते हैं। इसे उबालकर मशीनों से इससे मावा बनाते हैं। खास बात यह थी कि कारखाने में दूध का स्टॉक कहीं नहीं था। इस पर उन्होंने कहा कि पूरा दूध उबाल लिया है। सुबह और शाम को 300-300 लीटर दूध लेते हैं। खाद्य सुरक्षा अधिकारी ने बताया कि दूध खरीदी के दस्तावेज बीकानेर स्वीट्स के संचालक ने दिए हैं।

कारखाने में जांच करते हुए अधिकारी।

भास्कर ने उजागर किया था मामला

भास्कर ने 24 अक्टूबर को मावा की मिठाई बताकर 400 रुपए किलो में बेच रहे 150 रुपए के भाव का प्रोपराइटी फूड शीर्षक से खबर प्रकाशित करके प्रोपराइटी फूड से मिठाई बनाए जाने की मिलावट को उजागर किया था। इसके बाद प्रशासन ने यह कार्रवाई की है।

परदे के पीछे छिपा था मिठाई का पूरा कारखाना

कोठी बाजार में गली में खाद्य सुरक्षा अधिकारियों की टीम जब पहुंची तो उन्हें एक परदे केे पीछे बड़ा कारखाना मिला। परदे के पीछे हैवी मशीन, बाहर धुआं फेंकने की चिमनी और घूमने वाले मिक्सर के साथ भट्टियां भी लगीं थी। यहां बड़ी मात्रा में मिठाई बनाई जा रही थी।

मिठाई निर्माण के तीन कारखानों पर छापा मारा गया है। 7 सैंपल जब्त किए गए हैं। इन सैंपलों को राजधानी भोपाल की लैब में भेजा जाएगा। यदि मावे की जगह कोई और पदार्थ पाया जाता है तो लैब रिपोर्ट के आधार पर कार्रवाई की जाएगी। रूपराम सनोडिया, खाद्य सुरक्षा अधिकारी

2 comments

Leave a Reply