राज्यपाल श्री टंडन द्वारा विक्रम विश्वविद्यालय के कुलपति का त्यागपत्र अस्वीकृत

योगिता अहिरवार ि‍विशेष संवाददाता

श्री लालजी टंडन ने विक्रम विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. बालकृष्ण शर्मा का त्यागपत्र अस्वीकृत कर दिया है। राज्यपाल ने कुलपति प्रो. शर्मा को पद पर कार्य करते रहने के निर्देश दिये हैं।

राज्यपाल श्री टंडन ने विक्रम विश्वविद्यालय के कुलपति पद से प्रो. शर्मा का त्याग-पत्र मिलने पर उन्हें समक्ष में उपस्थित होकर पक्ष प्रस्तुत करने के निर्देश दिये थे। श्री टंडन ने प्रो. शर्मा से त्याग-पत्र के कारणों के संबंध में जानकारी प्राप्त की। कुलपति ने बताया कि विश्वविद्यालय के कुछ छात्रों के उदंडतापूर्ण व्यवहार से शैक्षणिक गतिविधियों के सुचारू संचालन में बाधा उत्पन्न हो रही हैं। छात्रों के ऐसे व्यवहार से आहत होकर वे कुलपति पद से त्याग-पत्र देने को विवश हुए हैं।

श्री लालजी टंडन ने विक्रम विश्वविद्यालय के कुलपति के पक्ष को गंभीरता पूर्वक सुनने के बाद कहा कि विश्वविद्यालय में अनुशासनहीनता बर्दाश्त नहीं की जायेगी। अभद्र व्यवहार और उदंडतापूर्ण आचरण करने वालों के खिलाफ कठोर कार्रवाई की जानी चाहिए। श्री टंडन ने प्रो. शर्मा से कहा कि विश्वविद्यालय के कुलपति को परिसर में अनुशासन स्थापित करने के संपूर्ण अधिकार हैं। प्राप्त अधिकारों का निष्पक्ष रहकर विवेकपूर्ण उपयोग करें। उदंड तत्वों के विरूद्ध कठोर कार्रवाई की जाये। उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय की गरिमा और शिक्षण व्यवस्था के लिए अनुशासित व्यवहार अनिवार्य है। राज्यपाल ने कहा कि कुलपति के वैधानिक और न्याय संगत कार्यो को राजभवन से पूरा सहयोग मिलेगा। श्री टंडन ने प्रो. बालकृष्ण शर्मा का त्याग-पत्र अस्वीकार करते हुए उन्हें पद पर कार्य करते रहने के निर्देश दिए।

About Yogita Ahirwar Bhopal

View all posts by Yogita Ahirwar Bhopal →

Leave a Reply