लोकायुक्त के आदेश पर बिल्डिंग तोड़ने गया अमला अधूरी कार्रवाई कर लौटा

नगर निगम की सफाई पर्याप्त अमला नहीं होने से रोकना पड़ी कार्रवाई ईदगाह हिल्स स्थित प्रिंस कॉलोनी में सड़क पर…

Bhopal News - mp news amla went to break building on orders of lokayukta and returned incomplete

Jan 29, 2020, नगर निगम की सफाई पर्याप्त अमला नहीं होने से रोकना पड़ी कार्रवाई

ईदगाह हिल्स स्थित प्रिंस कॉलोनी में सड़क पर आठ फीट कब्जा करके बने अवैध मकान को तोड़ने पहुंचा नगर निगम का अमला विवाद के बाद कार्रवाई बीच में छोड़ कर वापस आ गया। निगम अमले ने अवैध हिस्से पर हथोड़े चला कर कार्रवाई समाप्त कर दी। निगम अमला यह कार्रवाई लोकायुक्त के निर्देश पर करने गया था, जबकि कोहेफिजा इलाके में बीना सहगल द्वारा रेसीडेंशियल परमिशन पर व्यावसायिक गतिविधि का संचालन करने पर पांच दुकानों के शटर तोड़ने की कार्रवाई की गई। ईदगाह हिल्स के रहवासी रमाकांत शर्मा ने पहले नगर निगम, जिला प्रशासन और मुख्यमंत्री कार्यालय में शराफत खान द्वारा सड़क पर कब्जा करके मकान बनाने की शिकायत की थी। वहां से कार्रवाई नहीं होने पर उन्होंने लोकायुक्त में शिकायत कर दी। लोकायुक्त ने अवैध निर्माण को तोड़ने के आदेश दे दिया। मंगलवार को सुबह 11 बजे नगर निगम का अमला प्रिंस कॉलोनी में बने अवैध निर्माण को तोड़ने पहुंचा था।

21 साल पहले खरीदा था प्लॉट, जो आज तक नहीं मिला

भोपाल| हाउसिंग सोसायटी में हुई गड़बड़ी को लेकर मंगलवार को जनसुनवाई में 150 से ज्यादा शिकायतें सोसायटियों की गड़बड़ियों की पहुंची। मैनिट के प्रोफेसर डॉ. एससी गुप्ता ने कलेक्टर को बताया कि 1998 में रोहित हाउसिंग सोसायटी में सदस्यता लेकर प्लॉट के लिए 1 लाख 91 हजार 372 हजार रुपए जमा कराए थे। प्लॉट आवंटित हो गया, लेकिन 2007 में पता चला कि संचालक मंडल ने प्लॉट अन्य व्यक्ति को दे दिया और रजिस्ट्री भी करा दी। संस्था के रजिस्टर में सदस्यता नंबर पर लीलाधर का नाम दर्ज है। जांच में सहकारिता विभाग ने इस आवंटन को अवैध माना। बावजूद इसके कार्रवाई नहीं की जा रही है। यहां वर्तमान में आदित्य कुमार ने मकान का निर्माण भी शुरू करा दिया है।

मंत्री की फटकार के बाद चांदपुर में अवैध निर्माण हटाना शुरू

भोपाल| शहर में संचालित आरा मशीनों व लकड़ी के 120 पीठों को चांदपुर में शिफ्ट करने में बाधा बने अवैध निर्माण को हटाने की कार्रवाई शुरू की गई है। मंगलवार को हुजूर एसडीएम राजेश श्रीवास्तव और तहसीलदार चंद्रशेखर श्रीवास्तव पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचे। यहां पर बने अवैध निर्माणों को खाली कराया गया, इसके बाद इनको हटाने की कार्रवाई शुरू की है। गौरतलब है कि सोमवार को गैर राहत मंत्री आरिफ अकील चांदपुर पहुंचे थे, उन्होंने यहां पर अवैध निर्माण मिलने पर अफसरों को फटकार लगाई थी।

सोसायटी की गड़बड़ियों की 150 शिकायतें, मैनिट के प्रोफेसर ने कहा-

जन सुनवाई

गौरव हाउसिंग सोसायटी में प्रशासक नियुक्त-सहकारिता उपायुक्त विनोद सिंह ने मंगलवार को गौरव हाउसिंग सोसायटी के बोर्ड को भंग कर प्रशासक नियुक्त कर दिया है। सहकारिता निरीक्षक सुधारकर पांडे को प्रशासक बनाया गया है। सिंह ने सोसायटी की जांच के आदेश दिए हैं।

18 साल पहले खरीदा था प्लॉट- माता मंदिर निवासी राकेश पारेकर ने बताया कि पेरिस हाउसिंग सोसायटी में 1996 में सदस्य बना था, साल 2000 में रजिस्ट्री कराई थी। 35 हजार रुपए भई जमा किए थे, लेकिन प्लॉट पर कब्जा आज तक नहीं मिला। कई बार सहकारिता विभाग में शिकायत दर्ज करा चुका हूं, लेकिन सुनवाई नहीं हो रही। विष्णुदास शर्मा ने कौशल्या हाउसिंग सोसायटी के खिलाफ शिकायत की है।

9 साल पहले भी की थी शिकायत : सुभाष चंद्र गुप्ता (70) निवासी बघीरा अपार्टमेंट ने 1984 में विवेक हाउसिंग सोसाइटी की सदस्यता लेकर प्लॉट की राशि जमा कराई थी। 2010 में जनसुनवाई में शिकायत दर्ज कराई। जिसके बाद सहकारिता विभाग के अफसरों ने बताया कि सोसायटी के पदाधिकारियों पर कार्रवाई की जा रही है, लेकिन अब तक कोई कार्रवाई नहीं हुई।

शिकायत… ईदगाह हिल्स की प्रिंस कॉलोनी में सड़क पर कब्जा कर बना लिया मकान

शर्मा ने आरोप लगाया कि कार्रवाई के दौरान मकान मालिक ने किसी बड़े नेता से फोन करके अमले पर दबाव बनवाया और टीम को वापस लौटना पड़ा। हालांकि नगर निगम के सहायक यंत्री (बिल्डिंग परमिशन) अनिल साहनी ने कहा कि पर्याप्त अमला नहीं होने से कार्रवाई रोकना पड़ी। 30 जनवरी को दोबारा कार्रवाई करेंगे। इस मामले में एक खास बात यह भी है कि एसडीएम मनोज उपाध्याय भी मौके पर नहीं पहुंचे।

कोहेफिजा में रेसीडेंशियल परमिशन का हो रहा था कमर्शियल उपयोग : मंगलवार को कोहेफिजा क्षेत्र में रेसीडेंशियल लीज पर कमर्शियल गतिविधि संचालित किए जाने पर कार्रवाई की गई। 1990-91 के दौरान कलेक्टोरेट से लालघाटी के आगे तक 50 लोगों को लीज पर जमीन दी थी। इन सभी को नगर निगम से रेसीडेंशियल परमिशन मिली हुई है।

, ,

Leave a Reply