अवैध रेत खनन कारोबार में मंत्री पीसी शर्मा एवं उनके क़रीबियों पर आरोप, क्या मुख्यमंत्री लेंगे एक्शन।

मध्य प्रदेश के होशंगाबाद में दो दिनों पहले आधी रात अवैध रेत खनन मामले में कार्रवाई को लेकर दो अफसरों के बीच हुए झगड़े का मामला मुख्य सचिव के बाद अब प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ के पास पहुंच गया हैं।

और माना जा रहा हैं कि मुख्यमंत्री जल्द ही होशंगाबाद के प्रभारी मंत्री पीसी शर्मा से इस संबंध में चर्चा कर होशंगाबाद के कलेक्टर शेलेंद्र सिंह और एसडीएम रवीश श्रीवास्तव के खिलाफ़ एक्शन ले सकते हैं। राज्य के मुख्य सचिव मोहंती ने रविवार को ही दोनों अधिकारियों के बीच झगड़े की जांच के आदेश दे दिए थें। नर्मदापुरम के संभाग आयुक्त आरके मिश्रा ने एक ही दिन में जांच पूरी कर ली और रिपोर्ट शासन को सौंप दी। रिपोर्ट में माना जा रहा है कि संभाग आयुक्त ने दोनों ही अफसरों को अनुशासनहीनता का दोषी पाया हैं।

एसडीएम रवीश श्रीवास्तव ने रविवार को आरोप लगाया था कि कलेक्टर ने उन्हें अवैध खनन को लेकर बीजेपी विधायक और राज्य विधानसभा के पूर्व स्पीकर के रिश्तेदार के खिलाफ़ कार्रवाई करने से रोका था। एडीएम श्रीवास्तव का यह भी आरोप है कि कलेक्टर ने अपने सरकारी आवास पर उन्हें आधी रात को क़रीब 3 घंटे तक बंधक बनाए रखा और उनसे कार की चाबी भी छुड़ा ली और सुरक्षा कर्मियों को भी निर्देश दिए कि इनपर कड़ी नज़र रखीं जाएं, एवं एसडीएम को पैदल ही घर जाने को मजबूर भी किया। वहीं इसको लेकर ही एसडीएम रवीश श्रीवास्तव को ही पद से हटाने वाले कलेक्टर ने अपनी कार्रवाई का बचाव किया और कहा कि रवीश लैंड डील को लेकर चर्चा के लिए ख़ुद उनके आवास पर आए हुए थे।

इसी बात को लेकर ही प्रदेश में पहली बार केबिनेट मंत्री बने राज्य के जनसंपर्क एवं कानून मंत्री साथ ही होशंगाबाद के प्रभारी मंत्री पीसी शर्मा का भी अधिकारियों के इस झगड़े में नाम सामने आ गया। बारिश से कुछ दिनों पहले होशंगाबाद बाबई के पास जावली ख़दान के साथ ही क्षेत्र के कई हिस्सों में धड़ल्ले से अवेध रेत खनन का मामला सामने आया था जो लोग अवैध खनन कर रहें थे उनका रिश्ता मंत्री पीसी शर्मा से काफ़ी नज़दीक का बताया जा रहा हैं, आय दिन उन लोगों को मंत्री के आस-पास देखा जा सकता हैं। दो अधिकारियों के आपसी मतभेद में यह चीज़ भी उजागर हों गई हैं अब देखना यह है कि क्या मुख्यमंत्री अधिकारियों के साथ अपने मंत्री पर भी कोई एक्शन लेने में कामयाब होंगे या फ़िर पिछले मामलों की तरह यह बात भी आयी गई हों जायेंगी।

Leave a Reply