जब स्वास्थ्य विभाग महिला कर्मचारी को रिटायरमेंट करना भूल गया

गुना/स्वास्थ्य विभाग में अफसर एक महिला कर्मचारी को रिटायरमेंट करना भूल गए। और एक माह तक काम करवाते रहे, महिला कर्मचारी हर रोज उपस्थिती रजिस्टर पर हस्ताक्षर करती रही। जब यह मामला उजागर हुआ तो अफसर एक दूसरे को जिम्मेदार ठहरा रहे है। सीएमएचओ डॉ. पी बुनकर ने राघौगढ़ बीएमओ को आठ माह पहले पत्र लिखकर बताया था 30 सितंबर साल 2019 को महिला कर्मचारी सुशीला गुप्ता को सेवानिवृत्ति दी जाए। इसके बाद भी बीएमओ सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र राघौगढ़ में महिला से 1 अक्टूबर वर्ष 2019 तक काम कराते रहे। इस मामले में बीएमओ की गलती है।
इस मामले में बीएमओ ने कहा कि फरवरी में जो लेटर सीएमएचओ ने जारी किया था, वह उनको नहीं मिला है। महिला कर्मचारी ने रिटायर होने के बाद भी एक अक्टूबर तक काम किया है, उसको वेतन नहीं दिया जाएगा। इसमें गलती उनकी नहीं है, जिले के अफसरों की गलती है। सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में आया के पद पर पदस्थ सुशीला गुप्ता 30 सितम्बर साल 2019 को रिटायर होना था , लेकिन बीएमओ डॉ. लक्ष्मी कुमार सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में हाजिरी लगाकर हर रोज काम करवाते रहे। उधर जब यह मामला 4 अक्टूबर को सीएमएचओ डॉ. पी बुनकर के पास पहुंचा, तो उन्होंने कहा कि 2 फरवरी 2019 में उन्होंने एक पत्र जारी कर बीएमओ को 30 सितंबर को रिटायरमेंट के निर्देश जारी कर दिए।
राघौगढ़ बीएमओ डॉ. लक्ष्मीकु मार ने कहा कि सीएमएचओ डॉ. पी बुनकर ने अगर पत्र 2 फरवरी साल 2019 को जारी किया था, तो उस समय साडा से उनका बीएमओ ऑफिस राघौगढ़ में शिफ्ट हो रहा था। इसलिए आया के पद पर कार्यरत सुशीला गुप्ता के बारे में जानकारी नहीं मिली। सीएमएचओ डॉ. पी बुनकर की गलती है, उन्होंने रिमाइंडर लेटर क्यों नहीं डाला।

संवाददाता कृष्ण भान यादव

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s