जिस स्कूल से आईआईटी के लिए स्टूडेंट तैयार करने का दावा, वहां कला और विज्ञान एक ही है

सरकार ने मिशन 1000 के तहत निजी स्कूलों को टक्कर देने के लिए अभियान चलाया था। लेकिन चयनित स्कूलों में हाल आज भी बेहाल…

Betul News - mp news the school that claims to prepare students for iits there is only one art and science

सरकार ने मिशन 1000 के तहत निजी स्कूलों को टक्कर देने के लिए अभियान चलाया था। लेकिन चयनित स्कूलों में हाल आज भी बेहाल हैं। हम बात कर रहे हैं बैतूल के महारानी लक्ष्मीबाई स्कूल की। यहां क्लास में पढाई कर रहीं छात्राएं कला संकाय की हैं। लेकिन इसी कमरे में फिजिक्स लैब के उपकरण जो उनके किसी भी काम के नहीं हैं वह रखे हैं। हालांकि कमरों की कमी के चलते यह स्थिति बनी हुई है। लेकिन सरकारी नुमाइंदों में इसे लेकर काेई पहल नहीं की। नतीजा मिशन 1000 स्कूल में बदलाव को लेकर जारी निर्देशों पर अभी भी सवाल खड़े हैं।

सोमवार को मिशन 1000 में शामिल किए शहर के महारानी लक्ष्मी बाई स्कूल अाैर गंज स्थित कन्या शाला में मुआयना किया तो लैब की बदहालियां सामने आईं। अगले 10 साल तक ये स्कूल प्राइवेट स्कूलों की तरह डेवलप नहीं हो सकते दरअसल इनमें फिलहाल तो लैब के लिए कमरे ही नहीं हैं।

अार्ट की कक्षा काे बना दिया फिजिक्स की लैब

महारानी लक्ष्मी बाई स्कूल

समय- दोपहर 2 बजे

स्थिति- महारानी लक्ष्मी बाई स्कूल में एक क्लास रूम को ही फिजिक्स की लैब बना दिया गया। इस लैब में यहां-वहां उपकरण रखे हुए थे। पता चला कि फिजिक्स की अलग से कोई लैब नहीं है। हाल ही में होम साइंस की क्लास वाले इस कमरे को ही लैब बना दिया है। इसी में आर्ट की छात्राएं पढ़ाई करती हैं और इनकी क्लास नहीं होने पर यहां रखे उपकरणों पर साइंस छात्राएं प्रैक्टिकल करती हैं। बायोलॉजी और केमेस्ट्री लैब के हाल तो और बेहाल थे। दोनों लैब एक गलीनुमा कमरे में लगती है। यहां रसायन व अन्य सामान खुले में रखे हैं।

कमरे के बाहर हो रहे प्रैक्टिकल

एमएलबी स्कूल में फिजिक्स लैब का सामान जिस कमरे में रखा था उसमें होम साइंस की क्लासें लगती हैं। इसी कारण पत्थरों का एक स्टैंड इस कमरे के बाहर बनाया था। इस स्टैंड पर सोमवार दोपहर फिजिक्स की छात्राएं प्रिज्म और प्रकाश का प्रैक्टिकल कर रही थी। इस तरह होम साइंस की क्लास और फिजिक्स का प्रैक्टिकल दोनों होने से पढ़ाई प्रभावित हो रही थी।

जिस विषय का प्रैक्टिकल, अलमारी से उसका बाहर निकालते हैं सामान

गर्ल्स हायर सेकंडरी स्कूल गंज

समय- दोपहर 4 बजे

स्थिति- गंज गर्ल्स स्कूल में एक ही कमरे में फिजिक्स, कैमिस्ट्री और बायोलॉजी तीनों विषयों की लैब लग रही थी। इस लैब में कुछ टूटी- फूटी अलमारियों में लैब का सामान रखा हुआ था। पड़ताल में पता चला कि जिस विषय का प्रैक्टिकल करवाना होता है। उस विषय का सामान बाहर निकालकर छात्राओं को बुलाकर प्रैक्टिकल करवाते हैं। यानी एक समय पर एक ही विषय का प्रैक्टिकल यहां हो सकता है। लैब के लिए दो कमरों की जरूरत है लेकिन अतिरिक्त कमरे नहीं हैं। स्कूल में 5 कमरों की जरूरत है लेकिन कमरे नहीं होने से व्यवस्था नहीं बन पा रही है।

कमरे नहीं हैं, प्रस्ताव काे मंजूरी नहीं मिली है

Betul News - mp news the school that claims to prepare students for iits there is only one art and science

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s