45 साल पुराना रेलवे ब्रिज, पार करने में जान का जाेखिम, रात में रहता है अंधेरा

आमला-रमली रोड पर बेल नदी पर बना रेलवे का ब्रिज 45 साल पुराना है। इस कारण यह ब्रिज धीरे-धीरे कमजोर होता जा रहा है। इस…

Amla News - mp news 45 year old railway bridge risk of death in crossing stays dark at night

Jan 20, 2020, आमला-रमली रोड पर बेल नदी पर बना रेलवे का ब्रिज 45 साल पुराना है। इस कारण यह ब्रिज धीरे-धीरे कमजोर होता जा रहा है। इस ब्रिज पर ट्रैफिक का दबाव लगातार बढ़ता जा रहा है।

लंबे समय से क्षेत्र के लोग इस ब्रिज के पुनर्निर्माण की मांग कर रहे हैं, लेकिन रेलवे ने अभी तक इस तरफ ध्यान नहीं दिया है। नागरिकों का कहना है कि रेलवे की यह अनदेखी किसी बड़ी दुर्घटना का कारण बन सकती है।

कुछ ऐसा है रेलवे का यह ब्रिज

आमला-रमली के बीच बेल नदी पर रेलवे का डैम और बैराज है। इस डैम और बैराज में इकट्ठा होने वाले पानी से ही रेलवे कॉलोनी क्षेत्र में पेयजल आपूर्ति करती है। इस कारण अधिकांश समय डैम और बैराज में पानी का स्टोरेज रहता है। इसी बेल नदी के ऊपर रेलवे ने ब्रिज का निर्माण करवाया है। नगर के बुजुर्ग डाॅ. बसंत मालवीय, माधोसिंह ठाकुर, शिक्षक दिनेश बारस्कर के अनुसार बचपन से वे इस ब्रिज को देखते आ रहे हैं।

रेलवे ने करीब 45 साल पहले इस ब्रिज का निर्माण किया था। यह ब्रिज काफी पुराना होने के साथ जर्जर हाे चुका है। इस कारण इसकी सतह का सीमेंट उखड़ने लगी है। जगह-जगह गड्ढे पड़ रहे हैं। जबकि आस-पास लगी रेलिंग भी जंग लगने के कारण जगह-जगह से टूट-फूट हो गई है। ब्रिज के दोनों तरफ जमीनी सतह पर भी गड्ढे पड़ रहे हैं। इससे बड़ी दुर्घटना होने की संभावना बनी रहती है। नागरिकों का कहना है कि क्षेत्र में विकास कार्याें की गति धीमी है। विकास कार्याें और अधूरे कामाें काे लेकर परेशान हाेना पड़ता है। जनप्रतिनिधियाें से कई बार गुहार लगाने के बाद भी काम नहीं हाे पाते हैं। रेलवे के नए अंडरब्रिज में रोशनी के इंतजाम नहीं होने से आवाजाही में दिक्कतें हाेती हैं। इस बात काे कई बार अधिकारियाें के समक्ष उठाया गया, लेकिन आश्वासन मिला है। यह स्थिति अब तक बनी हुई है।

इस अंडर ब्रिज में भी समस्या, रोशनी की नहीं व्यवस्था

रेलवे ने करीब डेढ़ साल पहले नागपुर-इटारसी और आमला-छिंदवाड़ा रेलवे ट्रैक के नीचे अंडरब्रिज का निर्माण किया है, लेकिन इस अंडरब्रिज में रोशनी के इंतजाम नहीं किए हैं।

रमली सरपंच दिनेश बारस्कर के अनुसार इस अंडरब्रिज से रात के दौरान क्षेत्र के किसानों की आवाजाही बनी रहती है। किसान या तो बैल गाड़ियों से या पैदल रास्ता तय करते हैं। ऐसे में यहां घना अंधेरा छाया रहता है, जो लोगों के लिए जान का जोखिम बढ़ा रहा है। नागरिकों की मांग है कि यहां पर भी रोशनी के इंतजाम होने चाहिए।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s