Shahdol : बजट में हो मंंहगाई, बेरोजगारी व बाजार की सुस्ती दूर करने का मंत्र

Feb, 1 2020 10:05:59 (IST)

केन्द्र सरकार के आम बजट से लोगों की अपेक्षाएं, जनप्रतिक्रियाओं में बताई बेरोजगारी व मंहगाई की समस्याएं व अपनी परेशानियां

शहडोल. केन्द्र सरकार के आम बजट से हर आम और खास की बहुत उम्मीदें होती हैं और आम जनता अपनी उम्मीदों को केन्द्र सरकार से पूरा कराना चाहती है। अधिकांश लोगों का यही मानना है कि आम बजट जनता की आवश्कताओं को पूरा और व्यवस्थाओं को दुरूस्त करने वाला होना चाहिए। इस बार के बजट में लोगों की निगाहें बेरोजगारी व मंहगाई पर टिकी हुई है। साथ ही जीएसटी के सरलीकरण पर भी लोगों ने ज्यादा जोर दिया है। ज्यादातर लोगों ने इनकम टैक्स छूट का दायरा बढ़ाने की मांग की है। वहीं, कुछ लोगों की मांग है कि देश की आर्थिक सुस्ती को दूर करने वाला बजट आना चाहिए। इसके अलावा वर्ष 2020-21 का बजट सभी वर्ग को राहत पहुंचाने वाला हो। इसके अलावा रेल बजट में नागपुर के लिए सीधी टे्रन की भी सौगात देने की भी अधिकांश लोगों ने उम्मीदें जगाई है।

ज्यादा से ज्यादा उद्योग लगे
खनिज संसाधन बाहुल्य क्षेत्र होने के चलते यहां औद्योगिक इकाई की स्थापना की आवश्यकता है। जिससे स्थानीय लोगों व शिक्षित बेरोजगार युवाओं को रोजगार मिल सके। रीवा-अमरकंटक मार्ग को नेशनल हाईवे का दर्जा दिया जाए। भारत सरकार में रिक्त पड़े लगभग 30 लाख पदों में भर्ती प्रक्रिया की जाए।
प्रो. शिवकुमार दुबे, पं. एस एन शुक्ल विश्वविद्यालय

खुदरा बाजार को तबाही से रोके
ऑनलाइन बाजार से खुदरा बाजार तबाह हो रहा है। साथ ही सरकार का राजस्व भी काफी घट गया है। बेहतर हो कि खुदरा बाजार को तबाही से रोका जाए। इस बार का बजट कृषि, शिक्षा व महिला सुरक्षा पर केन्द्रित होना चाहिए, क्योंकि यह देश की सबसे बड़ी ज्वलंत समस्या है। जिसका समाधान अत्यंत जरूरी है।
सुशील सिंघल, चार्टेड एकाउंटेन्ट, शहडोल

ऑनलाइन व्यापार पर प्रतिबंध लगेे
वर्तमान में जिस प्रकार से ऑनलाइन व्यापार में आम लोगों के साथ ठगी हो रही है। उस पर सरकार को पूर्णरूप से प्रतिबंध लगाना चाहिए। ऑनलाइन व्यापार में प्रतिबंध लगने से ही देश की आर्थिक सुस्ती को दूर किया जा सकता है। इसके अलावा इनकम टैक्स में छूट का दायरा भी बढ़ाए जाने की जरूरत है।
विक्की जगवानी, इलेक्ट्रानिक्स व्यवसाई, शहडोल

जीएसटी का सरलीकरण हो
केन्द्र सरकार को चाहिए कि वह जीएसटी का सरलीकरण करें, ताकि व्यसाइयों को अपना व्यापार करने के लिए ज्यादा से ज्यादा समय मिल सके। जब व्यापारियोंं को व्यापार करने का ज्यादा समय मिलेगा तब सरकार को ज्यादा टैक्स भी मिलेगा। अभी तो व्यापार से ज्यादा जीएसटी रिटर्न भरने में ही ज्यादा समय लग रहा है।
श्वेता अग्रवाल, युवा व्यवसाई, शहडोल

रोजगार मिले व मंहगाई घटेे
विकास की बातें तो करते-करते 70 साल बीत गए अब बजट में बेरोजगारी दूर करने व मंहगाई को कम करने का प्रावधान होना चाहिए। बेतहाशा बढ़ती मंहगाई ने लोगों की कमर तोड़ दी है और आम जरूरत की चीजें लोगों से दूर होती जा रही है। बेहतर हो कि मंहगाई पर कन्ट्रोल किया जाए, ताकि लोगों को राहत मिल सके।
संजय जैन, समाजसेवी, शहडोल

गरीबों व किसानों को खुशहाल करें
जहां एक ओर किसानों को आज भी अपनी फसल का वाजिब दाम नहीं मिल पाता है। वहीं दूसरी ओर गरीबों को तरक्की की राह नहीं दिखाई जाती है। इसलिए इस बार के बजट में किसानों व गरीबों को राहत पहुचाने का भी प्रावधान किया जाना चाहिए, क्योंकि किसानोंं और गरीबों की खुशहाली से देश का विकास संभव हैं।
अनिल कुमार गुप्ता, प्रबुद्ध नागरिक, शहडोल

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s