क्या कीमतों की वजह से ड्रॉप हो सकता है दिल्ली का मिसाइल सुरक्षा कवच?

राजधानी दिल्ली को किसी भी तरह की हवाई हमलों से सुरक्षित बनाने की कोशिश की जा रही है और इसके लिए केंद्र सरकार अमेरिका से खास तरह की डील पर बातचीत कर रहा है, लेकिन अमेरिकी मिसाइल की कीमत काफी ज्यादा है और डर है कि यह मामला कहीं अधर में लटक न जाए.

  • अगले हफ्ते 2 दिन के दौरे पर भारत आ रहे राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप
  • दिल्ली को सुरक्षित बनाने के लिए अमेरिका से डील की तैयारी
  • NASAMS-2 करार को लेकर भारी कीमत पर बातचीत जारी

केंद्र की मोदी सरकार राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली को बेहद सुरक्षित बनाने की तैयारियों में जुटी है, और इसके लिए वह इंटीग्रेटेड एयर डिफेंस वेपन सिस्टम (Integrated Air Defence Weapon System यानी IADWS) तैनात करने की योजना बनाई है. इसके अमल के लिए भारत सरकार अमेरिका से यह मिसाइल प्रणाली मगांएगी. हालांकि अब ऐसा लग रहा है कि इस योजना के अमल में पैसा बड़ी बाधा बन सकती है.

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप अगले हफ्ते (24-25 फरवरी) 2 दिन के लिए भारत के दौरे पर आने वाले हैं. ट्रंप के साथ उनकी पत्नी मेलानिया भी भारत आएंगी. माना जा रहा है कि इस बहुप्रतिक्षित दौरे के दौरान दोनों देशों के बीच रक्षा और अंतरिक्ष समेत कई अन्य क्षेत्रों में समझौता हो सकता है.

अमेरिकी मिसाइल की कीमत ज्यादा

भारत सरकार दिल्ली को सुरक्षित बनाने की खातिर अमेरिका से करीब 19,000 करोड़ रुपये (1.90 अरब डॉलर) की IADWS डील करेगी. इंटीग्रेटेड एयर डिफेंस वेपन सिस्टम को नेशनल एडवांस्ड सरफेस टू एयर मिसाइल सिस्टम-2 (NASAMS-2) भी कहा जाता है. भारत की आकाश मिसाइल भी हवाई सुरक्षा कवच बनाने में सक्षम है.

हालांकि सूत्र बताते हैं कि अमेरिकी हथियार NASAMS-2 की डील को लेकर भारत का मानना है कि दिल्ली की सुरक्षा को लेकर अमेरिकी मिसाइल की कीमत काफी ज्यादा रखी गई है.

अमेरिकी सरकार ने पिछले हफ्ते भारतीय वायुसेना के अनुरोध पर फॉरेन मिलिट्री सेल को लेकर भारत सरकार के साथ इंटीग्रेटेड एयर डिफेंस वेपन सिस्टम को लेकर 1.9 अरब डॉलर पर समझौता करने पर सहमति दी थी.

अन्य विकल्पों पर भी भारत की नजर

सरकार से जुड़े सूत्र ने एएनआई को बताया था कि अमेरिका की ओर से इस प्रोजेक्ट पर करीब 1.9 अरब डॉलर का करार करीब दोगुना ज्यादा है, जिस पर बातचीत जारी है. हम इसकी काफी ज्यादा कीमत लेकर चिंतित हैं. हम इसको लेकर अन्य विकल्पों पर भी नजर डाल सकते हैं.

अगर डील फाइनल होती है तो अमेरिका से आने वाली NASAMS-2 मिसाइल सिस्टम रूस निर्मित एस-400 (S-400 Missile System) और इजरायली मिसाइल सिस्टम के साथ तैनात की जाएगी. इस तरह से दिल्ली के चारों ओर तीन स्तरीय हवाई सुरक्षा कवच होंगे. इसके अलावा स्वदेशी तकनीक से बनी मिसाइलों के भी दो स्तर तैनात किए जाएंगे.

मिसाइल, हवाई हमलों से सुरक्षा

यह हवाई सुरक्षा कवच दिल्ली राजधानी क्षेत्र को ड्रोन, मिसाइल और हवाई हमलों से बचाएगी. डील होने के बाद 2 से 4 साल के अंदर NASAMS-2 मिसाइलें भारत को मिल जाएंगी.

इसे भी पढ़ें— दिल्ली का कवच बनेगी ये मिसाइल, फेल होगा दुश्मन का हर हमला

डिफेंस ऐक्विजिशन काउंसिल ने जुलाई 2018 में करीब एक अरब डॉलर की परियोजना की लागत को भी मंजूरी दी थी. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की यात्रा के दौरान भारत और अमेरिका के बीच भारतीय नौसेना के लिए 24 मल्टीरोल हेलीकॉप्टरों के अधिग्रहण और सेना के लिए 6 अपाचे हेलिकॉप्टरों पर सौदों को आगे बढ़ाने की संभावना है.

इसे भी पढ़ें— सियाचिन के रणबाकुरों को मिलेगा 1.5 लाख का ‘सुरक्षा कवच’

2018 में, एक भारतीय टीम ने जब वॉशिंगटन डीसी का दौरा किया था, तो उन्हें NASAMS सिस्टम के कामकाज को देखने की अनुमति नहीं दी गई थी क्योंकि यह एक अमेरिकी सेना के बेस के मध्य में तैनात था.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.