PM मोदी और सोनिया गांधी से मिले महाराष्‍ट्र CM उद्धव ठाकरे, आदित्‍य ठाकरे भी रहे मौजूद

महाराष्‍ट्र के मुख्‍यमंत्री उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) शुक्रवार को सीएम बनने के बाद पहली बार दिल्‍ली दौरे पर आए हैं.

नई दिल्‍ली. शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) महाराष्‍ट्र के मुख्‍यमंत्री की कुर्सी संभालने के बाद शुक्रवार को पहली बार दिल्‍ली आए हैं. इस दौरान उन्‍होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) के आवास 7 लोक कल्‍याण मार्ग में पहुंचकर पीएम से मुलाकात की. उद्धव ठाकरे के साथ उनके बेटे और महाराष्‍ट्र सरकार में मंत्री आदित्‍य ठाकरे भी मौजूद रहे. इसके बाद उद्धव ठाकरे ने बेटे आदित्‍य ठाकरे के साथ कांग्रेस की अंतरिम अध्‍यक्ष सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) से भी मुलाकात की. वह बीजेपी के दिग्‍गज नेता लालकृष्‍ण आडवाणी से भी मिले.

पीएम मोदी से मुलाकात के बाद उद्धव ठाकरे ने कहा सीएए से किसी को डरने की जरूरत नहीं है. एनपीआर हर दस साल में होने वाली एक सामान्य प्रक्रिया है. महाराष्ट्र में एनआरसी लागू नहीं करने की बात कह चुके उद्धव ठाकरे ने साफ कर दिया कि एनआरसी मुस्लिमों के लिए खतरा नहीं है.

शिवसेना के नेता संजय राउत ने उद्धव ठाकरे की दिल्‍ली यात्रा के संबंध में ट्वीट करके जानकारी दी थी. उन्‍होंने कहा था, ‘मुख्‍यमंत्री उद्धव ठाकरे शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिलेंगे. राउत के अनुसार, ‘यह एक शिष्टाचार मुलाकात होगी.’

बता दें कि इससे पहले एक कार्यक्रम में महाराष्ट्र पहुंचे पीएम नरेंद्र मोदी का स्वागत करने मुख्‍यमंत्री उद्धव ठाकरे एयरपोर्ट पहुंचे थे.

उद्धव ठाकरे ने पिछले साल 28 नवंबर को महाराष्ट्र की शिवसेना-राकांपा-कांग्रेस गठबंधन सरकार के मुखिया के रूप में कार्यभार संभाला था.

सोनिया और आडवाणी से भी की मुलाकात

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात के बाद उद्धव ठाकरे ने कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी से भी मुलाकात की. इसके बाद उद्धव ठाकरे, आदित्‍य ठाकरे और संजय राउत ने लालकृष्‍ण आडवाणी से भी मुलाकात की. महाराष्ट्र के सीएम शुक्रवार शाम 4 बजे के करीब दिल्‍ली पहुंचे हैं.

28 नवंबर को संभाली थी कुर्सी

बता दें कि लंबे समय से शिवसेना और बीजेपी सहयोगी रही हैं. लेकिन पिछले साल महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के नतीजे आने के बाद सीएम पद को लेकर दोनों पार्टियों के रिश्ते बिगड़ गए थे. जिसके बाद शिवसेना ने कांग्रेस और एनसीपी की मदद से राज्य में सरकार बनाई और उद्धव ठाकरे ने 28 नवंबर को महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली.