Shahdol : पीएम रूम में सर्जन को देख भड़के परिजन, बोले- रिपोर्ट होगी प्रभावित, जमकर हंगामा

Feb, 28 2020

नसबंदी में महिला की हुई थी मौत, सर्जरी करने वाले डॉक्टर पहुंच गए थे पीएम रूम

शहडोल। बुढ़ार के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में परिवार नियोजन ऑपरेशन कैंप में ओपीएम निवासी महिला की मौत के बाद दूसरे दिन जिला अस्पताल में जमकर हंगामा हुआ। दरअसल महिला गुडिय़ा पति अरविंद सिंह के गुरुवार को जिला अस्पताल में पोस्टमार्टम के दौरान डॉ बीपी पटेल पोस्टमार्टम घर के अंदर चले गए थे। इस पर मृत महिला के परिजन भड़क उठे। परिजनों ने नाराजगी जाहिर करते हुए कहा कि डॉक्टर रिपोर्ट बदलवाने की मंशा से पोस्टमार्टम घर में घुस गए हैं। नाराज परिजन कलेक्ट्रेट पहुंच गए और एडीएम से शिकायत किए। इसके बाद सीएमएचओ डॉ ओपी चौधरी के सामने परिसर में परिजन काफी देर तक हंगामा करते रहे। हंगामे के दौरान एसडीएम मिलिंद नागदेवेभी मौके पर पहुंच गए थे। उनके सामने ही परिजन डॉक्टर पर आरोप लगाते रहे। उन्होंने एसडीएम मिलिंद नागदेवे से कहा कि रिपोर्ट में गड़बड़ी कराने के लिए डॉक्टर पोस्टमार्टम हाउस के अंदर गए। गौरतलब है कि बुधवार को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र बुढ़ार में परिवार नियोजन ऑपरेशन कैंप आयोजित किया गया था। इसमें ओपीएम निवासी गुडिय़ा सिंह की पत्नी की ऑपरेशन के करीब 20 मिनट बाद तबीयत अचानक बिगड़ गई। गंभीर अवस्था में जिला अस्पताल लाया था, जहां मृत घोषित कर दिया था।

डॉक्टर और बीएमओ को नोटिस, जांच के निर्देश
काफी देर तक बहसबाजी के बाद एसडीएम मिलिंद नागदेवे ने सीएमएचओ से संबंधित डॉक्टर और बीएमएओ को नोटिस जारी करने के लिए कहा। इसके बाद सीएमचओ ने डॉ बीपी पटेल और बीएमओ नोटिस जारी किया। बाद में परिजनों का गुस्सा शांत हुआ। एसडीएम मिलिंद नागदेवे ने महिला की मौत की मामले की जांच के लिए तहसीलदार बुढ़ार भरत सोनी को मौके पर भेजा। उन्होंने बिन्दुवार जांच कर मामले की रिपोर्ट सौंपने के लिए कहा। इस दौरान मृतक महिला के परिजनों को तत्काल 50 हजार रुपए की आर्थिक सहायता दी गई। बाद में डेढ़ लाख रुपए की और मदद दी जाएगी। मामले की जांच प्रशासन करा रहा है।

परिजनों का आरोप- बिना व्यवस्था के नसबंदी शिविर
परिजनों ने कहा कि नसबंदी ऑपरेशन में पूरी तरह से अव्यवस्था थी। ऑक्सीजन सिलेंडर रखे गए थे लेकिन उसका प्लग खराब था। बिना किसी व्यवस्था के ऑपरेशन किया जा रहा था। डॉक्टर की लापरवाही पूर्वक ऑपरेशन के चलते मौत हुई है। परिजन डॉक्टरों पर आरोप लगाते हुए कार्रवाई की मांग को लेकर अड़े रहे। परिजनों का कहना था कि कार्रवाई न होने पर शव नहीं ले जाएंगे।

दस दिन पहले पत्रिका ने चेताया था
पत्रिका ने नसबंदी शिविर में हो रही लापरवाही को लेकर दस दिन पहले ही चेताया था। पत्रिका ने बताया था कि किस स्तर पर नसबंदी शिविर में लापरवाही और अव्यवस्था है। इसके बाद भी अधिकारियों ने गंभीरता नहीं दिखाई। इसी लापरवाही के चलते फिर एक महिला की नसबंदी शिविर में मौत हो गई।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s