नपाकर्मियों ने संभाली सफाई की कमान, बोले- नहीं फैलने देंगे संक्रमण

कोरोना वायरस को लेकर जहां लोग डरे हुए हैं, वहीं डॉक्टर, पुलिस, दूर संचार और प्रशासनिक अमला पूरी मुस्तैदी के साथ…

कोरोना वायरस को लेकर जहां लोग डरे हुए हैं, वहीं डॉक्टर, पुलिस, दूर संचार और प्रशासनिक अमला पूरी मुस्तैदी के साथ जुटा हुआ है। लेकिन इनमें एक अमला ऐसा भी जो संक्रमण वाली जगहों पर बहादुरी से सिर्फ हमारे लिए डटा हुआ है। यह अमला नगरपालिका के सफाईकर्मी हैं, जो पूरी ईमानदारी के साथ ऐसी परिस्थिति में लगातार सफाई करने में लगे हुए है, जबकि पूरा शहर नहीं बल्कि जिला बंद है।

नगर पालिका के करीब 200 सफाई सुबह-शाम के साथ-साथ दोपहर में भी सफाई करने से पीछे नहीं हट रहें, अब जबकि सबकी छुट्टियां कर दी गई हैं। ऐसे में ये कर्मचारी डबल नहीं बल्कि तीन शिफ्टों में काम कर रहे है। इनका काम यहां तीन गुना तक बढ़ गया है। अब तक सिर्फ सुबह-शाम में लगे रहने वाले यह सफाईकर्मी शहर की तीन समय सफाई करते हुए बहादुरी के साथ जुटे हुए हैं। नगर पालिका का अमला शहर के सार्वजनिक स्थानों से लेकर पूरे शहर में न सिर्फ झाड़ू लगा रहा है, बल्कि कचरा उठाने से लेकर यह नपा के बहादुर सिपाही दवा छिड़काव और शहर की अधिक भीड़भाड़ वाली जगहों पर जाकर सेनेटाइजर भी छिड़क रहें है ताकि लोगों को इस सक्रंमित बीमारी से बचाया जा सके। तीन शिफ्ट करने के बाद भी इन सफाईकर्मियों से जब बात की गई तो वह बड़ी बेबाकी से बोले, हम शहर में किसी तरह से संक्रमण फैलने नहीं देंगे, इसके लिए दिन-रात एक ही क्यों न करना पड़े।

डॉक्टर, पुलिस और नर्सों सहित इमरजेंसी ड्यूटी में लगे लोग, डॉक्टर बोले- घर में होने के बाद भी परिवार से दूर

कोरोना वायरस की स्थिति में डॉक्टर और नर्सों से लेकर पुलिसकर्मी भी लगातार जिले की सीमाओं व शहर सहित गांवों की सीमाओं पर मुस्तैदी से तैनात है और लोगों को इसमें जागरुक करने के साथ ही उनके बचाव के लिए उन्हें घर में रहने की सलाह दे रहे है। जबकि खुद अपने घरों पर समय पर नहीं पहुंच रहें और अपने परिवार से इस संकट में दूरी बनाए हुए है। यहीं हालात अस्पताल के डॉक्टर और नर्सेज का है। दिनभर अस्पताल में पूरी ईमानदारी से ड्यूटी करने के साथ अब रात में भी शिफ्टों में 24 घंटे अपनी सेवाएं बिना किसी डर के दे रहे है। यहां जब डॉ. विष्णु गर्ग से चर्चा की गई तो उन्होंने कहा कि इस संक्रमण के आने के बाद वह अपने बच्चों के साथ नहीं खेल पाए है, क्योंकि संक्रमण के बीच दिनभर वह मरीजों को देख रहे है और ऑफ ड्यूटी में जब घर पहुंचते है तो बच्चे सो चुके होते है, उनका कोई भी संक्रमण परिवार को न लगें, इसके लिए वह खुद अपने घर में अलग रह रहे है।

शहर में दवा छिड़काव करते नपाकर्मी।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s