उज्जैन में कोरोना / जिस महिला की मौत हुई, वह सीएए के विरोध में धरने में शामिल हुई, अब तक संपर्क में आए 40 लोगों की स्क्रीनिंग

महिला के पॉजिटिव आने के बाद टीम ने क्षेत्र का दौरा किया।
  • बुधवार को उज्जैन की 65 साल की महिला की मौत हो गई, कल ही रिपोर्ट मेंकोरोना पॉजिटिव पाया गया
  • प्रशासन ने महिला केइलाका जानसापुरा और केडीगेट क्षेत्र को ब्लॉक किया
  • महिला के संपर्क में पड़ोसके 3लोग भी थे,ये भी कोरोना संदिग्ध,इनकी भी स्क्रीनिंग की गई

उज्जैन. जानसापुरा क्षेत्र की जिस 65 साल की महिलाकी कोरोना से मौत हुई है, वह कई लोगों के संपर्क में आई थी। उसने सबसे पहले क्षेत्र के निजी डॉक्टर को दिखाया था। यह भी सामने आया कि महिलाबेगमबाग में मुस्लिम समाज के धरने में शामिल हुई थी। 22 मार्च को महिला को चेरिटेबल में भर्ती कराया था। यहां डॉक्टर, स्टाफ और परिजन के संपर्क में आई। जिस कर्मचारी ने उसे एंबुलेंस में बैठाया था, अब वह भी कोरोना संदिग्ध है। स्वास्थ्य विभाग ने महिला के संपर्क में आए 40 लोगों की स्क्रीनिंग की। महिला के परिवार में ही 11 लोग हैं, इनमें से 5 कोरोना संक्रमण के पॉजिटिव पाए गए हैं। इनमें महिला के परिवार के बहू और बेटे शामिल हैं।

शहर में एक ही दिन में 6कोरोना पॉजिटिव मरीज मिलने से पूरा शहर हाई रिस्क पर है। नोडल अधिकारी डॉ. एचपी सोनानिया ने जांच में महिला के चेहरे पर सुजन, सांस लेने में तकलीफ, सर्दी-खांसी, बुखार औरऑक्सीजन की कमी पाई थी। महिला की रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद जिला प्रशासन ने जानसापुरा और केडीगेट क्षेत्र को ब्लॉक कर दिया। इसके सभी रास्तों पर बैरिकेड्स लगाए हैं। इधर, मौत के बाद महिला को सुपुर्द-ए-खाक कर दिया गया।

महिला में संक्रमण आया कहां से… और क्याें है शहर काे खतरा

  • महिला के घर जयपुर से रिश्तेदार आया था। संभावना है कि उसी से महिला को संक्रमण हुआ।
  • 15-20 दिन पहले बेगमबाग में चल रहे धरने में शामिल होने के लिए महिला गई थी। वह ऑटो से अकेले गई थी। यहां धरने में शामिल महिलाओं के साथ में बैठी थी। आशंका है कि बेगमबाग के धरने से ही महिला को संक्रमण हुआ है। उसके बाद वह जिन लोगों के संपर्क में आई, उन सभी के संक्रमित होने का संदेह है।
  • उसकी तबीयत 17-18 मार्च को खराब हुई थी। वह जानसापुरा क्षेत्र में आरएमपी डॉक्टर अब्देअली के यहां इलाज के लिए गई थी। यहां पर एक बच्ची सहित तीन मरीज और उनके परिजन भी थे। महिला को उनके पति इलाज करवाने साथ गए थे। महिला के पॉजिटिव पाए जाने की जानकारी मिलते ही उक्त मरीज बुधवार को माधवनगर अस्पताल में स्क्रीनिंग करवाने के लिए पहुंचे।
  • आरएमपी डॉक्टर के इलाज से स्वास्थ्य में सुधार नहीं होने पर चेरिटेबल हॉस्पिटल गई थी। यहां उसकी गंभीर हालत को देखते हुए माधवनगर अस्पताल में रैफर किया था। उसे आइसोलेशन वार्ड में ढाई घंटे तक रखा था। महिला को चेरिटेबल अस्पताल से माधवनगर ले जाते तक कोई विशेष सावधानी नहीं बरती गई। ऐसे में जो भी संपर्क में आए उनके संक्रमित होने से इनकार नहीं किया जा सकता।
  • माधवनगर अस्पताल से इंदौर ले जाते और एमवाय अस्पताल में इलाज के दौरान उनके दो पुत्र व पति संपर्क में रहे।
  • महिला का छोटेपुत्रका छत्री चौक क्षेत्र में जामा मस्जिद के पास में फल का कारोबार है, जिसे वह पिता के साथसंचालित करताहै।
  • महिला का बड़ा बेटाइंदौर में मैकेनिक है, उससे दो दिन पहले महिला मिलने के लिए गई थी।

मृत महिला के दामाद का भाई भागा, पुलिस खोज रही
जानसापुरा निवासी कोरोना पॉजिटिव मृत महिला के घर के सामने दामाद का भाई भी रहता है, जो पुलिस को देख मौके से फरार हो गया। उसे लगा कि पुलिस उसे पकड़ने के लिए आई है। वह भी उक्त महिला के घर आता-जाता था। बुधवार सुबह से वह फरार हुआ, जिसके बाद से पुलिस उसे खोजती रही। रात तक उसके बारे में कोई सुराग नहीं मिला। क्षेत्र में सुरक्षा मद्देनजर टीआई संजय मंडलोई ने लोगों की बैठक ली व कहा कि जागरूकता के लिए खुद आगे आए।

जिस महिला की मौत हुई, उसके संपर्क में पड़ोस के तीन लोग भी थे, ये भी संदिग्ध
महिला के पॉजिटिव आने के बाद पुलिस विभाग ने बुधवार सुबह से जानसापुरा क्षेत्र को ब्लॉक कर दिया है। यहां रहने वाले परिवार के लोगों को बाहर निकलने की इजाजत नहीं है। क्षेत्र में पुलिस बल 14 दिन तक तैनात रहेगा। स्वास्थ्य विभाग ने क्षेत्र के 40 लोगों की स्क्रीनिंग की है। क्षेत्र के एक मरीज को सर्दी-खांसी होने पर सैंपल लिया है। महिला के संपर्क में पड़ोसी के तीन लोग भी थे। ये भी कोरोना संदिग्ध है। इनकी भी स्क्रीनिंग की गई। महिला का पति शहर का बड़ा फल व्यापारी है। वे शहर के कई इलाकों में छोटे व्यापारियों को फल सप्लाई करते हैं।

37 लोग 14 दिन होम आइसोलेशन में
जानसापुरा क्षेत्र के 37 अन्य लोगों को होम आइसोलेशन में रखा है। जिन्हें 14 दिन तक घर में अकेले रहना होगा। बाहर निकलने की इजाजत नहीं होगी। यहां पर स्वास्थ्य विभाग की टीम हर रोज जाएगी व जांच करेगी। पांच दिन बाद यदि किसी मरीज में सर्दी-खांसी या बुखार पाया जाता है या कोरोना के लक्षण पाए जाते हैं तो उनके सैंपल लिए जाएंगे।

बेटा बोला- अम्मी बेगमबाग के धरने में गई थी
बेटे ने बताया मेरी अम्मी से ज्यादा चलते फिरते तो नहीं बनता है। वह ज्यादा बाहर नहीं जाती है। उन्हें पांच साल से पैर में तकलीफ है,जिसका इलाज चल रहा है। दो माह पहले इंदौर में बड़े भाईके यहां गई थी। ऑटो में सवार होकर 15-20 दिन पहले अकेले बेगमबाग के धरने में शामिल होने के लिए गई थी।

महिला की कांटेक्ट हिस्ट्री निकाली जा रही है
सीएमएचओडॉ.अनुसुइया गवली ने कहा किमहिला की कांटेक्ट हिस्ट्री निकाली जा रही है। वह जिन लोगों के संपर्क में रही, उन सभी की जांच होगी। सर्दी-खांसी के मरीजों की स्क्रीनिंग कराएंगे। जानसापुरा के 40 लोगों की स्क्रीनिंग की जा चुकी है, क्षेत्र को ब्लॉक कर दिया है। गर्भवती व शुगर के मरीज के संपर्क में भी महिला रही है, उन्हें हाई रिस्क की श्रेणी में लिया है। एक सैंपल लिया है।

लोगों को कानून का पालन करवाने के लिए जवान ने डंडे पर लिखा – कोरोना नाशक।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s