कोरोना / 24 घंटे में मप्र में कोरोना के 11 पॉजिटिव केस सामने आए; इंदौर-7, उज्जैन -3,भोपाल -1

तस्वीर 20 मार्च की है, जब कमलनाथ ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की थी। इसमें केके सक्सेना सहित कई पत्रकार शामिल हुए थे। कुछ सक्सेना के काफी करीब बैठे थे।

भोपाल में तीन दिन पहले पॉजिटिव मिली युवती के पिता भी संक्रमित20 मार्च को कमलनाथ की पत्रकार वार्ता में शामिल हुए, इसी दिन विधानसभा भी गए थेविधानसभा प्रमुख सचिव ने खुद को आइसोलेट किया

भोपाल/इंदौर/ उज्जैन .कोरोना संक्रमण से बुधवार को प्रदेश में पहली मौत हुई। उज्जैन की 65 वर्षीय महिला ने इंदौर में इलाज के दौरान दम तोड़ दिया। उसकी रिपोर्ट इंदौर में मंगलवार रात पॉजिटिव आई थी। तीन दिन से उसका एमवाय अस्पताल में इलाज चल रहा था। इसी के साथ प्रदेश में 24 घंटे के दौरान 11 लोग पॉजिटिव मिले हैं। इनमें 7 इंदौर, 3 उज्जैन और 1 भोपाल का है।


इधर, भोपाल में कोरोना पीड़ित गुंजन के पिता केके सक्सेना की रिपोर्ट भी पॉजिटिव आई है। हैरानी की बात यह है कि पेशे से पत्रकार सक्सेना 20 मार्च को सीएम हाउस में हुई कमलनाथ की प्रेस कॉन्फ्रेंस में बेटी के साथ गए थे। इस दौरान वे करीब 200 लोगों के बीच बैठे रहे और इसके बाद वह विधानसभा भी गए। उनके पॉजिटिव मिलने की खबर आते ही बुधवार को जेपी अस्पताल में करीब 30 पत्रकार और अन्य परिचित जांच कराने पहुंचे। विधानसभा के प्रमुख सचिव और जनसंपर्क सचिव ने भी इन सभी से खुद को क्वारेंटाइन करने को कहा है। विधानसभा सचिव ने खुद को भी आइसोलेट कर लिया है।


सक्सेना की रिपोर्ट पाॅजिटिव आने के बाद आनन-फानन में विधानसभा सचिवालय ने कहा है कि विधानसभा परिसर में सक्सेना के संपर्क में आए सभी अधिकारी-कर्मचारी और अन्य व्यक्ति खुद को घर में क्वारेंटाइन कर लें। वे चेकअप करवाएं और डॉक्टर की सलाह लें। विधानसभा के प्रमुख सचिव एपी सिंह ने कहा कि उन्होंने भी घर को सैनिटाइज करवा लिया और सेल्फ क्वारेंटाइन कर लिया गया है। इसी के साथ राजधानी में कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़कर दो हो गई है। जबकि प्रदेश में यह आंकड़ा 20 पर पहुंच गया है।

केके सक्सेना ने एम्स जाने से मना किया, घर को भी सैनिटाइज करने से रोका…कलेक्टर ने फटकार लगाई, तब एम्स पहुंचे

पत्रकार सक्सेना की जांच रिपाेर्ट पाॅजिटिव अाने के बाद बुधवार दाेपहर में ही स्वास्थ्य अमला उनके प्राेफेसर काॅलाेनी स्थित घर पहुंचा। टीम ने रिपाेर्ट दिखाई अाैर सक्सेना काे इलाज के लिए एम्स चलने काे कहा। साथ ही उनके मकान काे सैनिटाइज करने की कार्रवाई शुरू की ताे वे बिफर गए। उन्हाेंने टीम के साथ एम्स जाने से मना कर दिया, साथ ही घर सैनिटाइज करने से भी राेक दिया। टीम के लाेगाें ने उन्हें काफी समझाने की काेशिश की, लेकिन वे कुछ सुनने काे तैयार नहीं थे। उन्हाेंने इधर-उधर फाेन लगाना शुरू कर दिए। एेसे में टीम ने अपने अधिकारियाें काे इसकी सूचना दी। अंत में कलेक्टर तरुण पिथाेडे़ ने फाेन पर पत्रकार सक्सेना काे फटकार लगाई, इसके बाद वे एम्स गए। टीम ने उनके घर के साथ ही अासपास के पूरे इलाके काे सैनिटाइज किया है।

30 पत्रकाराें की हुई स्क्रीनिंग, नहीं मिले लक्षण
पत्रकार सक्सेना के संपर्क में अाए 30 पत्रकाराें की बुधवार काे जेपी अस्पताल में स्क्रीनिंग की गई। अच्छी बात यह रही कि एक भी पत्रकार में काेराेना के लक्षण नहीं पाए गए हैं। बावजूद इसके इन पत्रकाराें काे हाेम क्वारेंटाइन में रहने काे कहा गया है।

वहां मौजूद सभी पत्रकारों को चिन्हित कर समस्या का निराकरण करें
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भोपाल कलेक्टर और कमिश्नर को निर्देश दिए है कि पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ की प्रेस कॉन्फ्रेंस में मौजूद एक पत्रकार के कोरोना पाजिटिव पाए जाने के बाद वहां उपस्थित अन्य सभी पत्रकाराें को चिन्हित किया जाए। उन्होंने कहा कि पत्रकारों की जानकारी लेकर समस्या का निराकरण करें और सभी आवश्यक कदम उठाए जाएं ताकि किसी प्रकार की परेशानी न हो।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s