महाराष्ट्र में 21 दिन के लॉकडाउन का दूसरा दिन / संक्रमित केस बढ़ने से गंभीर हुए लोग, सिंधुदुर्ग में मुहल्ले के बाहर की गई बेरिकेडिंग

मुंबई में बीएमसी के बाहर की एक सड़क पर पसरा सन्नाटा। सामान्य दिनों में यहां पीक ऑवर्स में ट्रैफिक जाम जैसी स्थिति रहती थी।

राज्य में कोरोना संक्रमण केगुरुवार दोपहर तक128 मामले सामने आ चुके हैं,इनमें चार संक्रमितों की मौत हो चुकी हैउद्धव सरकार ने सोमवार शाम से ही पूरे राज्य में कर्फ्यू लगा दिया था, पुलिस भी अब बेवजह बाहर निकलने वालों के प्रति सख्त है

मुंबई.महाराष्ट्र में कोरोना का कहर बढ़ता ही जा रहा है। यहां गुरुवार को देशभर में किए गए लॉकडाउन का दूसरा दिन है। हालांकि, राज्य सरकार ने सोमवार शाम से ही पूरे राज्य में कर्फ्यू लगा दिया था। राज्य में अब तक संक्रमण से 128 मामले सामने आ चुके हैं। जबकि संक्रमित चार लोगों की मौत हो चुकी है। संक्रमण के बढ़ते मामलों से लोग गंभीर हुए हैं। सिर्फ जरूरी सामान की दुकानों के बाहर ही भीड़ नजर आई। वहीं पुलिस भी बेवजह बाहर निकलने वाले लोगों को लेकर सख्त है। मुंबई, पुणे और नागपुर जैसे शहरों में हर चौराहे पर पुलिस तैनात है। आईकार्ड और उनके बाहर निकलने का कारण पूछकर ही आगे जाने दे रहे हैं। शहरी इलाकों में सब्जी मंडियों और किराना की दुकानों पर ही लोग नजर आ रहे हैं। बाकी सड़कों पर सन्नाटा पसरा है।।

मुंबई:

रात में भी चलती रहने वाली मुंबई में गुरुवार को कर्फ्यू सबसे ज्यादा असर नजर आया। यहां सड़कें सूनी हैं। रेलवे स्टेशन और एयरपोर्ट सब बंद हैं। बीच पर सिर्फ पक्षी नजर आए। दुकानों के बाहर भी सिर्फ न के बराबर भीड़ हैं। मुंबई के इतिहास में पहली बार इतने ज्यादा वक्त के लिए लोकल ट्रेनें बंद की गई है। लोग घरों में कैद हैं। सब्जी की दुकानों पर लोग एक दूसरे से दूर खड़े होकर सामान खरीद रहे हैं। कई रिटेल शॉप के बाहर लोगों लंबी-लंबी लाइन में एक दूसरे से दूरी बना कर खड़े नजर आए।मुंबई में रिलायंस मार्ट के बाहर लोगों ने लाइन लगाकर जरूरी सामान खरीदा।

ट्रेन, बस सब बंद हो जाने के कारण मुंबई में कई जगहों पर लोग फंसे हुए हैं। सबसे भीड़भाड़ वाले लोकमान्य तिलक रेलवेस्टेशन के बाहर एक दीवार पर लोग सो रहे हैं। इनमें से कई वह लोग हैं जो दूसरे शहरों से घर जाने के लिए मुंबई आ गए और यहां फंस गए।मुंबई में स्टेशन के बाहर दीवार पर सोते लोग।

पुणे:

कर्फ्यू के कारण पुणे में भारी संख्या में परीक्षा कीतैयारी कर रहे छात्र भी घरों में बंद हैं। उन्हें खाने-पीने की दिक्कत न हो इसलिए गणेश गाडगे नाम के शख्स उनके कमरों तक खाना पहुंचाने का काम कर रहे हैं। वहीं पुणे में कई लोग सड़कों पर काम करने वाले सफाईकर्मियों को सैनिटाइजर बांटते हुए नजर आए।पुणे में कमरों में फंसे छात्रों को पहुंचा रहा है गणेश नाम का व्यक्ति।

पुणे के शिवाजी नगर इलाके में लॉक डाउन की वजह से बहुत से लोगों के काम करने, खाने-पीने और रहने की समस्या पैदा हो गई है। स्थानीय लोगों ने ऐसे मजदूरों को खाना बांटा। इस दौरान के मजदूर ने कहा,’खाने को किसी ने दिया तो दिया नहीं तो पानी पीकर सो जाते हैं। बाहर जाते हैं तो पुलिस मारती है। रोजगार छिन गया है।’पुणे में बेघरों खाना खिला रहे कुछ लोग।

सिंधुदुर्ग

जिले में सड़कें सूनी पड़ी हुई है। कई जगहों पर लोग रोड ब्लॉक कर आने-जाने वालों को रोक रहे हैं। कई मोहल्लों में लोगों की एंट्री को पूरी तरह से बंद कर दिया गया है। लोगों ने मुहल्ले के बाहर बोर्ड टांग रखा है कि फिलहाल यहां न आए।सिंधुदुर्ग में एक मोहल्ले में लोगों ने सड़क ब्लॉक की।

नांदेड

सिखोंके पवित्र स्थल नांदेड जिले में सड़कों पर सब्जी और फल वाले जरूर नजर आए।लेकिन उन्हें खरीदने के लिए ग्राहक नजर नहीं आए। नांदेड़ में पुलिस भी सख्त है। क्योंकि धार्मिक स्थल होने के चलते यहां बड़ी संख्या मेें दूसरे राज्यों से भी लोग पहुंचते रहे हैं।नांदेड़ का मुख्य बाजार।

धुले.

महाराष्ट्र के धुले में कर्फ्यू के बावजूद लोग दोपहिया वाहनों के साथ बाहर नजर आए। पुलिसवालों ने उन्हें कई जगह रोका और उनके कागजात चेक किए। धुले के मुख्य ब्रिज को भी आवागमन के लिए बंद कर दिया है। ताकि, लोग शहर में इधर-उधर न जा पाए।धुले में सड़कों पर नजर आए लोग।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s