ये गलती और कोई न दोहराए / बेटी की पहली रिपोर्ट पर भरोसा कर घूमता रहा परिवार, पिता भी चपेट में, दूसरों की मुश्किल बढ़ी

जेपी अस्पताल जांच कराने पहुंचे पत्रकार।

दिल्ली एयरपोर्ट की रिपोर्ट पर भरोसा करके अपने साथ दूसरों की भी मुश्किल बढ़ा दीएकांतवास में रहने के बजाय वे लोगों से मिलते जुलते रहे, हाथ मिलाते रहे

भोपाल. पत्रकार केके सक्सेना ने दिल्ली एयरपोर्ट की रिपोर्ट पर भरोसा करके अपने साथ दूसरों की भी मुश्किल बढ़ा दी। एकांतवास में रहने के बजाय वे लोगों से मिलते जुलते रहे, हाथ मिलाते रहे। यहां तक कि विधानसभा व पूर्व मुख्यमंत्री की प्रेस कॉन्फ्रेंस में भी पहुंच गए। इनकी पूरी कहानी इसलिए सामने ला रहे हैं ताकि उनके संपर्क में आए सभी लोग एहतियात बरतें और अपनी जांच कराएं। बाकी संदिग्ध होम आइसोलेशन का सख्ती से पालन करें।

17-18 मार्च :प्रोफेसर कॉलोनी में रहने वाली गुंजन सक्सेना(26) लंदन से नई दिल्ली लौटीं। एयरपोर्ट पर स्क्रीनिंग में फिट घोषित हुई। अगले दिन भाई के साथ शताब्दी के सी-10 कोच से भोपाल आ गई।

19 मार्च :गुंजन अपने कुछ दोस्तों के साथ सीहोर गई थी। यहां से वो दोबारा भोपाल लौटी और अपने परिवार के साथ रही। इस दौरान कई ऐसे लोग थे जो उनके संपर्क में आए होंगे।
20 मार्च :युवती के पिता केके सक्सेना सीएम हाउस में आयोजित प्रेस वार्ता में गए। यहां पर 150 से ज्यादा पत्रकार मौजूद थे। जहां पर सक्सेना कई लोगों से मिले। इस दौरान उन्होंने कई लोगों से हाथ भी मिलाया।

21 मार्च :गुंजन की तबीयत खराब होने पर पिता ने कलेक्टर को फोन पर जानकारी दी। कलेक्टर ने टीम को भेज गुंजन के सैंपल कराए। इसी दिन सक्सेना जनसंपर्क विभाग में कई अफसरों से मिले।

22 मार्च :गुंजन की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई। स्वास्थ्य विभाग की टीम गुंजन के घर पहुंची। इस दौरान सक्सेना ने रिपोर्ट झूठी होने की बात कही। यहां से गुंजन को एम्स में भर्ती कराया गया। इसके बाद सक्सेना कई परिचितों से मिला।

23 मार्च :सक्सेना उनकी पत्नी समेत 10 करीबियों के सैंपल जांच के लिए भेजे गए। इस दौरान अफसरों के कहने पर सक्सेना और उनके परिवार को होम क्वॉरेंटाइन कराया गया। इस दौरान भी सक्सेना ने विवाद किया।
25 मार्च :सक्सेना की रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद टीम एम्स ले जाने के लिए पहुंची। लेकिन उन्होंने इंकार कर दिया। पुलिस से भी हुज्जत की। कलेक्टर की फटकार पर माने। एम्स में डॉक्टरों से झगड़े।

18 मार्च को शताब्दी में सफर करने वाले यात्री कराएं जांच, खुद को आइसोलेट करें

18 मार्च को शताब्दी में सफर करने वाले यात्री कराएं जांच, खुद को आइसोलेट करें। यह निर्देश कोरोना पाॅजिटिव गुंजन सक्सेना की कान्टेक्ट सर्वे रिपोर्ट के आधार पर स्वास्थ्य संचालनालय ने जारी किए हैं। इधर, केके सक्सेना के कोरोना पाॅजिटिव मिलने की खबर लगते ही 30 पत्रकार जेपी अस्पताल जांच कराने के लिए पहुंचे। इसकी वजह- पिछले दिनों जिन कार्यक्रमों या आयोजन में सक्सेना मौजूद थे, वहां कुछ पत्रकार भी शामिल हुए थे। आशंका के चलते ही पत्रकार स्वत: वहां जांच कराने के लिए पहुंच गए।

और इधर… दुबई से लाैटे परिवार ने पाेस्टर लगाने पर किया विवाद

टीम से बदसलूकी, पोस्टर निकाल दिया :अवधपुरी स्थित सुरेंद्र माणिक काॅलाेनी निवासी एसएन मेश्राम का परिवार तीन मार्च काे दुबई यात्रा से लाैटकर अाया है। इन लाेगाें काे हाेम क्वाइरेंटाइन किया गया है। मंगलवार काे स्वास्थ्य विभाग की टीम इनके घर काेराेना संदिग्ध मरीज का पाेस्टर लगाया था, लेकिन इन्हाेंने पाेस्टर निकाल दिया। बुधवार काे टीम ने दाेबारा पाेस्टर लगया ताे उन्हाेंने पाेस्टर फाड़ दिया। टीम ने समझाइश देनी चाही ताे गाली-गलाैज की।

फोटो खींचना चाहा तो पटवारी को पकड़ा :पंजाबीबाग स्थित स्टर्लिंग शालीमार निवासी दामिनी त्रिपाठी काेराेना वायरस की संदिग्ध हैं। ऐसे में बुधवार काे टीम इनके घर पर डू नाॅट विजिट का पाेस्टर लगाने पहुंची थी। दामिनी ने इसका विराेध किया और पटवारी सुरेंद्र प्रताप सिंह और वार्ड प्रभारी एहसान अली और क्लर्क तारिक अली के साथ बदसलूकी की। टीम ने पाेस्टर लगाकर फाेटाे खींचना चाहा ताे काेराना संदिग्ध युवती पटवारी काे संक्रमित करने की नियत से उनसे लिपट गई। ऐसे में उक्त परिवार के खिलाफ प्रकरण दर्ज कराया है।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s