हत्या का खुलासा / छैगांव माखन से ट्रक में लिफ्ट लेकर इंदौर जा रहे थे दो दोस्त, नशे में हुआ विवाद तो सनावद में गला काटकर की थी हत्या

Two friends were going to Indore with a lift in a truck from Chhaigaon Makhan, a drunken brawl was killed by strangulation in Sanawad.

7 मई को हाईवे किनारे युवक का गला कटा मिला था शव, अन्य थानों पर फोटो भेजकर की शिनाख्त

सनावद. 7 मई को रात करीब 9.30 बजे हाईवे किनारे स्थित शिव मंदिर के पास एक युवक का गला कटा हुआ मिला। सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंची। पुलिस ने उसे सिविल अस्पताल पहुंचाया। जहां उसकी मौत हो गई। पुलिस ने करीब 20 दिनों में अंधे कल्त को सुलझा कर आरोपी को गिरफ्तार किया है।
एसआई दीपक तलवारे ने बताया जांच के दौरान अज्ञात युवक की फोटो को अन्य थानों पर शिनाख्ती के लिए भेजा था। इसमें उसकी शिनाख्त दिलीप पिता गजेंद्र मोरे (20) निवासी ग्राम पिपलौद थाना पंधाना जिला खंडवा के रूप में हुई। पूछताछ में उसके परिजनों ने बताया घटना के दिन मृतक दिलीप उसके गांव के ट्रक ड्राइवर संतोष सोनी के साथ दिखा था। इस पर पुलिस ने संतोष की तलाश की, जो कई दिनों से फरार था। मुखबीर से मिली जानकारी के अनुसार मृतक दिलीप के साथ संतोष व बाबूलाल दिखे थे, जो छैगांव माखन से इंदौर की ओर जा रहे थे।

पुलिस ने बाबूलाल की तलाश कर उससे पूछताछ की। उसने बताया वह ट्रक से इंदौर माल खाली करने जा रहा था। छैगांव माखन से उसने दिलीप मोरे व संतोष को लिफ्ट दी थी लेकिन रास्ते में देशगांव से दिलीप व संतोष दोनों में विवाद हो गया। विवाद ज्यादा होने पर ट्रक चालक बाबूलाल ने अपना ट्रक सनावद में रोककर दोनों को उतरने को बोला। दिलीप मोरे ट्रक से उतर गया लेकिन संतोष ट्रक से नहीं उतरा। ट्रक के पास आते ही संतोष सोनी ने दिलीप के गले पर धारदार चाकू से हमला कर दिया। इससे दिलीप का गला कट गया था।

ट्रक चालक बाबूलाल ने संतोष सोनी को अपने ट्रक से उतारकर इंदौर की ओर चला गया। थाना प्रभारी सनावद राजेंद्र सोनी के निर्देश पर पुलिस ने 26 मई को आरोपी संतोष सोनी पिपलोद को गिरफ्तार कर घटना के वक्त पहने गए कपड़े व जिस चाकू से हत्या की गई वह पुलिस ने घटना स्थल के पास झाड़ियों में से जब्त किया। उसे न्यायालय में पेश कर जेल भेजा। इसमें अजय भाटिया, सायबर सेल खरगोन आरक्षक अमित, आरक्षक बड़े राजा सिंह, राकेश पाटील का सहयोग रहा।
पड़ोसी थे दोनों युवक, क्लीनर के काम के लिए जा रहा था इंदौर
जानकारी के अनुसार दोनों युवक एक ही गांव पिपलौद के रहने वाले थे। आरोपी संतोष व मृतक दिलीप का पड़ोसी था। संतोष ट्रक ड्राइवर का काम करता था। वह दिलीप को ट्रक में क्लीनरी के काम के लिए ले जा रहा था। उसने बताया इंदौर में ट्रक खड़ा है जिसे लेकर आना है। उसे 300 रुपए मिलेंगे। दोनों युवक छैगांव माखन तक साथ में आए। दोनों नशे में धुत थे। रास्ते में दोनों हंसी मजाक करते हुए विवाद करने लगे। संतोष ने दिलीप की हत्या कर दी।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.