कोरोना काल में सागर को देश के अत्याधुनिक प्लांट की सौगात

रिपोर्ट-राहुल ठाकुर

कोरोना काल में सागर को देश के अत्याधुनिक प्लांट की सौगात
मंत्री-श्री भूपेन्द्र सिंह.
(कचरा मुक्त होगा सागर, संभाग का पहला ठोस अपशिष्ट प्रबंधन प्लांट, कचरे का होगा वैज्ञानिक तरीके से निष्पादन)

● कोरोना सहित संक्रामक बीमारियों से शहरवासी रहेंगे सुरक्षित ।
● करीब 71 करोड़ की लागत से बनकर तैयार हुआ है पूरा प्लांट ।

सागर/16.8.2020 कोरोना काल में सागर को बड़ी सौगात मिल गई है। शहर को कचरामुक्त बनाने और संक्रामक बीमारियों से निजात दिलाने के लिए केंद्र और राज्य सरकार के अधीन करीब 6 साल पहले स्वीकृत हुआ 71 करोड़ का महत्वकांक्षी प्रोजेक्ट एकीकृत ठोस अपशिष्ट प्रबंधन इकाई पूर्ण हो गई हैं। देश में कचरे से खाद बनाने वाले अब तक के सबसे आधुनिक प्लांट के रुप में यह शुमार होगा। धामौनी मार्ग पर स्थित मसवासी ग्रंट में यह प्लांट पूर्ण रुप से तैयार हो गया है।
आज इसी के शुभारंभ अवसर पर मुख्य अतिथि मध्यप्रदेश शासन के नगरीय प्रशासन मंत्री मान.भूपेन्द्र सिंह के करकमलों एवं कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि क्रमशः मान.श्री राजबहादुर सिंह-सांसद,सागर,मान.श्री शैलेन्द्र जैन,विधायक, सागर एवं मान.श्री प्रदीप लारिया, विधायक, नरयावली की गरिमामयी उपस्थित में सम्पन्न हुआ ।
इस अवसर पर मंत्री श्री भूपेन्द्र सिंह ने कहा कि
प्रदेश में अब तक इंदौर, भोपाल, जबलपुर और कटनी में इस तरह के प्लांट संचालित हैं, लेकिन उन सब में भी हमारे सागर का यह प्लांट आधुनिकतम उपकरणों और मशीनों से लैस है।
मसवासी ग्रंट में करीब 35 एकड़ में एकीकृत ठोस अपशिष्ट प्रबंधन इकाई के तहत प्लांट बनकर तैयार हो गया है। इसमें अलग-अलग आधा दर्जन से अधिक इकाइयां तैयार की गई हैं। सागर नगर निगम के अधीन तैयार यह प्लांट पूरे संभाग को कचरा मुक्त बनाएगा। गीले-सूखे कचरे को अलग-अलग तरीके से सेग्रीगेट कर इससे खाद तैयार की जाएगी। सबसे अहम बात प्रदेश का पहला एनीमल कारकस प्लांट भी यहां लगाया गया है, जहां मृत मवेशियों के शवों को वैज्ञानिक तरीके से डिस्पोज किया जाएगा ।
सांसद श्री राजबहादुर सिंह ने इस अवसर पर कहा कि सागर में बीती निगम परिषद के कार्यकाल के दौरान इसे स्वीकृत कराया गया था। हैदराबाद की रेमकी एन्वायरमेंट कंपनी के अधीन सागर एमएसडब्ल्यू सॉल्यूशन प्रा. लि. कंपनी से इसके लिए अनुबंध किया गया था। साल 2015 से सागर में योजना के तहत डोर-टू-डोर योजना के तहत घरों से कचरा कलेक्शन का काम प्रारंभ किया गया था, जो वर्तमान में सभी 48 वार्डों से विधिवत चल रहा है।
कार्यक्रम को विधायक शैलेन्द्र जैन एवं विधायक प्रदीप लारिया ने भी संबोधित किया ।
● स्वच्छ भारत अभियान में सागर महानगरों की श्रेणी में आएगा
केंद्र सरकार के स्वच्छता सर्वेक्षण और स्वच्छ भारत अभियान में सागर कई वर्षों से अंडर-50 में शामिल रहा है। यह प्लांट चालू होने के बाद सागर नगर निगम और सागर शहर देश के टॉप-10 शहरों में शुमार हो जाएगा। उम्मीद की जा रही है कि सागर में कचरा उत्पाद प्वाइंट अर्थात घरों, दुकानों, सभी तरह की व्यावसायिक इकाईयां, अस्पतालें, होटलें, शादीघर से लेकर तमाम जगह से निकलने वाले कचरे को निगम की डोर-टू-डोर कचरा गाड़ियां दरवाजे से संग्रहित करेंगी। सड़कों पर कचरा नहीं आएगा और सागर की सड़कें कचरा मुक्त होंगी। इससे गंदगी खत्म होगी और सागर स्वच्छ होगा वहीं कोरोना वायरस, स्वाइन फ्लू, डेंगू, मलेरिया जैसी अन्य संक्रामक बीमारियों से निजात मिलेगी और स्वच्छ सागर-स्वस्थ सागर का सपना साकार होगा
★प्लांट के तहत यह इकाईयां बनकर तैयार हो गई हैं
★ कम्पोस्ट प्लांट
★ एनीमल कारकस
★ साइंटिफिक लैंड फिल
★ तौल कांटा
★ एडमिन बिल्डिंग
★ कैंटीन
★ रेस्ट रूम
★ वॉशरूम
★ इंटरनल रोड।
★ ग्रीन जोन।
★ सोलर इकाई।
★ टीनशेड इकाईयां

◆ कैसे काम करेगा यह
प्लांट
★सागर जिले सहित संभाग की 10 नगर पालिकाओं से कचरा संग्रह
★डोर-टू-डोर कचरा गाड़ियों से घर-घर से गीला-सूखा व अन्य हानिकारक कचरे का कलेक्शन
★बड़े व सुरक्षित वाहनों से कचरे को मसवासी ग्रंट तक पहुंचाया जाएगा
★मृत मवेशियों के शवों को विशेष वाहन से मसवासी ग्रंट पहुंचाया जाएगा
★यहां पर गीले-सूखे कचरे को वैज्ञानिक विधि के तहत खाद बनाने के लिए प्रोसेसिंग की जाएगी
★खाद बनने के बचे सामान्य अपशिष्ट को लैंड फिल में नष्ट किया जाएगा
★प्लास्टिक कचरे को सेपरेट तरीके से नष्ट किया जाएगा।
★प्लास्टिक कचरे को प्रोसेस कर रॉ-मटेरियल तैयार किया जाएगा।
★गीले-सूखे कचरे से बनी खाद स्थानीय स्तर पर किसानों को उपलब्ध कराई जाएगी ।
सागर के लिए सबसे महत्वकांक्षी ठोस अपशिष्ट प्रबंधन योजना का प्लांट बनकर तैयार हो गया है। आज इसी का शुभारंभ किया गया । देश-प्रदेश के अन्य प्लांटों की अपेक्षा यहां अत्याधुनिक मशीनरी व उपकरण स्थापित किए गए हैं। एनिमल कारकस प्रारंभ हो चुका है। कचरे से खाद बनाने की प्रक्रिया चालू हो चुकी है। यह सही है कि कोरोना सहित अन्य संक्रामण बीमारियों की रोकथाम और सागर सहित जिले को कचरा मुक्त करने, स्वच्छ सागर में यह प्लांट महती भूमिका निभाएगा। सागर के यह प्लांट उपलब्धि है ।
मसवासी ग्रंट में बनकर तैयार हुए प्लांट में कचरा उठाने के लिए अत्याधुनिक स्वचलित ग्रैब क्रेनें लगाई गई हैं।
गरिमामय कार्यक्रम के साक्षी रहे नगरी प्रशासन मंत्री श्री भूपेंद्र सिंह, सागर सांसद राजबहादुर सिंह, विधायक सागर शैलेंद्र जैन, विधायक नरयावली श्री प्रदीप लारिया, पूर्व महापौर अभय दरे, पूर्व विधायक नारायण कबीरपंथी, कमिश्नर केके जैन, कलेक्टर दीपक सिंह, नगर निगम कमिश्नर आरपी अहिरवार, नगरीय प्रशासन कमिश्नर निकुंज श्रीवास्तव, सीईओ स्मार्ट सिटी राहुल सिंह राजपूत, भावेश मल्होत्रा, अमित दुबे सहित अनेक जनप्रतिनिधि एवं गणमान्य नागरिक उपस्थित रहे

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.