दिनांक 01/11/2020 से बदल जाएंगे बैंकों के नियम ग्राहकों पर पड़ेगा भार देखिए बैंकों के 4 नए नियम

  1. पैसे निकालने, जमा करने पर लगेगा चार्ज
    बैंक ऑफ बड़ौदा (BoB) खाताधारकों के लिए बुरी खबर है. 1 नवंबर से बैंक ऑफ बड़ौदा ग्राहकों से एक तय सीमा से ज्याद पैसा जमा करने और निकालने दोनों पर चार्ज वसूलेगा. बैंक ऑफ बड़ौदा ने चालू खाता, कैश क्रेडिट लिमिट और ओवरड्राफ्ट अकाउंट से जमा-निकासी के अलग और बचत खाते से जमा-निकासी के अलग-अलग चार्ज तय किए हैं. लोन अकाउंट के लिए महीने में तीन बार के बाद जितनी बार ज्यादा पैसा निकालेंगे, 150 रुपये हर बार देने पड़ेंगे. बचत खाते में तीन बार तक जमा करना मुफ्त होगा, लेकिन इसके बाद चौथी बार जमा किया तो 40 रुपये देने होंगे. हालांकि जन-धन खाताधारकों को इस फीस में हल्की राहत दी गई है. उन्हें डिपॉजिट पर कोई चार्ज नहीं चुकाना होगा, लेकिन पैसे निकालने पर 100 रुपये देने होंगे. वरिष्ठ नागरिकों को भी चार्ज से कोई राहत नहीं दी गई है.
    बाकी बैंक्स जैसे बैंक ऑफ इंडिया, पीएनबी, एक्सिस और सेंट्रल बैंक भी जल्द ही इस तरह के चार्ज लगाने पर फैसला लेंगे।
  2. SBI बचत खातों पर कम ब्याज मिलेगा
    1 नवंबर से SBI के भी कुछ अहम नियमों में बदलाव होने जा रहा है. SBI के बचत खातों पर कम ब्याज मिलेगा. अब 1 नवंबर से जिन सेविंग्स बैंक अकाउंट में 1 लाख रुपए तक की राशि जमा है उस पर ब्याज की दर 0.25 परसेंट घटकर 3.25 परसेटं रह जाएगी. जबकि 1 लाख रुपए से ज्यादा की जमा पर अब रेपो रेट के अनुसार ब्याज मिलेगा।
  3. डिजिटल पेमेंट पर कोई चार्ज नहीं
    एक नवंबर से अब पचास करोड़ रुपए से अधिक टर्नओवर वाले कारोबारियों के लिए डिजिटल पेमेंट लेना अनिवार्य होगा. RBI का यह नियम भी एक नवंबर से लागू हो जाएगा. नई व्यवस्था के मुताबिक, ग्राहक या मर्चेंट्स से डिजिटल पेमेंट के लिए कोई भी शुल्क या मर्चेंट डिस्काउंट रेट (MDR) नहीं वसूला जाएगा. ये नियम सिर्फ 50 करोड़ रुपये से ज्यादा वाले टर्नओवर पर ही लागू होगा।
  4. महाराष्ट्र में बैंक का टाइम टेबल बदला
    एक नवंबर से महाराष्ट्र में बैंकों का नया टाइम लागू होने जा रहा है. अब राज्य के सभी बैंक एक ही समय पर खुलेंगे और एक समय पर बंद होंगे. महाराष्ट्र में सभी बैंक्स सुबह 9 बजे से खुलकर शाम 4 बजे तक बंद होंगे. यह नियम सभी पब्लिक सेक्टर बैंक्स पर लागू होगा. हाल ही में वित्त मंत्रालय ने देश में बैंकों के कामकाज का समय एक जैसा करने का निर्देश दिया था. यह नियम उसी के बाद लागू किया जा रहा है।

Leave a Reply