पाकिस्तान की जेल से रिहा होकर अमृतसर पहुंचे शमसुद्दीन, बोले खुदा किसी को ऐसे दिन ना दिखाए , जो मैंने देखा

राजू विश्वकर्मा की खास रिपोर्ट

पाकिस्तान की जेल से रिहा होकर अमृतसर पहुंचे शमसुद्दीन परिवार से मिलने के लिए क्वॉरंटीन अवधि पूरी होने का इंतजार कर रहे हैं। वह इस समय छेरहटा के नारायणगढ़ स्थित अरबन कम्युनिटी हेल्थ सैंटर में हैं। गुरुवार को उन्होंने अमर उजाला के संवाददाता से फोन पर बात कर अपना दर्द बयां किया।
शमसुद्दीन ने फोन पर बताया कि 30 साल पहले वह मोहल्ले के रहने वाले सैदुल्लाह साहब की बेटी और दामाद के साथ पाकिस्तान घूमने गए थे। इसके बाद वापस न लौट सके। पाकिस्तान की जेल में हुए अमानवीय अत्याचारों को याद उनका गला भर आता है। वे बोले कि खुदा किसी को भी ऐसे दिन न दिखाए, जो मैंने देखे हैं।
अंधेरे में की पूछताछ, महीनों ठीक से सो न सके शमसुद्दीन ने बताया कि उन्हें जेल में तमाम यातनाएं दी गईं।

Leave a Reply