म. प्र. के इन्दौर मे अवैध कलैक्टर कार्यालय पर छापामारी, 500 से भी अधिक सरकारी फाइले बरामदगी की सूचना

मध्य प्रदेश के सबसे बड़े शहर इंदौर में शासकीय कलेक्टर कार्यालय के अलावा एक और कलेक्ट्रेट जैसा कार्यालय पकड़ा गया है।
इंदौर के बंसी ट्रेड सेंटर से संचालित हो रहा था फर्जी प्रशासनिक कार्यालय
मौके से नजूल, टीएनसीपी, नगर निगम, कलेक्टरेट और आईडीए की बड़ी मात्रा में सरकारी फाइलें मिलीं।
इन्दौर। भारत के प्रख्यात शहरों में अपनी पहचान रखने वाला एवं मध्यप्रदेश का छोटा बाॅम्बे कहा जाने वाला इन्दौर में आज अवैध कलैक्टरेट पर रेट पड़ने की खबर ने पूरे शहर मे तहलका मचा ड़ाला है, और वर्तमान मे देश की सबसे बड़ी खबर ट्रेंड कर सकती है। इन्दौर मे कलेक्टर कार्यालय के अलावा एक और कलेक्ट्रेट कार्यालय पकड़ा गया है जिसका संचालन अवैधानिक रूप से किया जा रहा था। आश्चर्यजनक बात यह है की इस अवैध कार्यालय में पाॅंच सौ से भी अधिक शासकीय फाइलें मिली है। अब शासकीय फाइलों का ऐसे अवैध कार्यालय में पहुंचना एक बड़ा प्रश्नचिन्ह बनकर शासन के सामने खड़ा हुआ है।

इंदौर के बंसी ट्रेड सेंटर से संचालित हो रहा था फर्जी प्रशासनिक कार्यालय
कलेक्टर मनीष सिंह को इस बारे में सूचना मिली थी। दोपहर एडीएम अजयदेव शर्मा, नगर निगम की डिप्टी कमिश्नर लता अग्रवाल समेत अन्य अफसरों की टीम गठित की गई। इसके बाद बंसी ट्रेड सेंटर में एमपी ऑनलाइन सेंटर पर छापा मारा गया। ये दफ्तर शुभम जैन और विजय जैन का बताया जा रहा है।
फर्जी प्रशासनिक कार्यालय में कलेक्ट्रेट, T&CP, नजूल और IDA की फाइलें मिलीं
अफसरों के अनुसार, शुभम जैन का कई भूमाफिया से संपर्क है। यह सरकारी दफ्तरों में दलाली करता है। फाइलें यहां तक कैसे पहुंचीं, इस संबंध में जांच की जा रही है। मौके से नजूल, टीएनसीपी, नगर निगम, कलेक्टरेट और आईडीए की बड़ी मात्रा में सरकारी फाइलें मिलीं।

Leave a Reply