सीएम शिवराज ने जताया दुख मध्यप्रदेश के कद्दावर नेता और पूर्व सांसद कैलाश नारायण सारंग का पार्थिव शरीर रविवार को स्टेट हैंगर पहुंचा……

मध्यप्रदेश के कद्दावर नेता और पूर्व सांसद कैलाश नारायण सारंग का पार्थिव शरीर रविवार को स्टेट हैंगर पहुंचा. जहां मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने उनको श्रद्धांजलि दी. 2 बजे प्रदेश बीजेपी मुख्यालय पर अंतिम दर्शन के लिए पार्थिव शरीर को रखा जाएगा. जिसके बाद 4 बजे सुभाष नगर विश्राम घाट पर राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार होगा.

भोपाल। मध्यप्रदेश के कद्दावर नेता और पूर्व सांसद कैलाश नारायण सारंग का पार्थिव शरीर रविवार को स्टेट हैंगर पहुंचा. जहां मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने उनके पार्थिव शरीर को कंधा दिया और श्रद्धांजलि दी. सीएम ने कैलाश सारंग के दोनों बेटों विवेक सारंग और विश्वास सारंग के साथ ही परिवार के शोकाकुल सदस्यों को ढाढस बंधाया. कैलाश नारायण सारंग का पार्थिव शरीर स्टेट हैंगर से 74 बंगले स्थित उनके निवास पर ले जाया जाएगा, फिर 2 बजे प्रदेश बीजेपी मुख्यालय पर अंतिम दर्शन के लिए पार्थिव शरीर को रखा जाएगा. जिसके बाद 4 बजे सुभाष नगर विश्राम घाट पर राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार होगा.

मुख्यमंत्री श्री @ChouhanShivraj ने दिवंगत नेता स्व. कैलाश सारंग जी का पार्थिव शरीर स्टेट हैंगर भोपाल पहुंचने पर श्रद्धांजलि दी। सीएम ने स्व. कैलाश सारंग के दोनों बेटों श्री विवेक सारंग व श्री विश्वास सारंग के साथ ही परिवार के शोकाकुल सदस्यों को ढाढस बंधाया।

लंबे समय से बीमार थे कैलास सारंग

मध्यप्रदेश के कद्दावर नेता और पूर्व सांसद कैलाश नारायण सारंग का मुंबई के निजी अस्पताल में निधन हो गया है. कैलाश सारंग का लंबे समय से मुंबई के अस्पताल में इलाज जारी था. कैलाश सारंग ने शनिवार करीब साढ़े तीन बजे अंतिम सांस ली थी. कैलाश सारंग को कुछ दिन पहले भोपाल के एक निजी अस्पताल में भर्ती किया गया था. जहां से तबीयत बिगड़ने पर उन्हें मुंबई रेफर किया गया था. जहां शनिवार उन्होंने इलाज के दौरान दम तोड़ दिया.

पीएम मोदी ने जताया दुख
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी कैलाश सारंग के निधन पर शोक प्रकट किया है. उन्होंने ट्विटर पर लिखा कि ‘मध्य प्रदेश में बीजेपी को मजबूत करने में कैलाश सारंग ने अहम किरदार निभाया. वो मध्य प्रदेश की तरक्की के लिए समर्पित नेता के तौर पर याद किए जाएंगे. उनके निधन से दुखी हूं. उनके परिवार और शुभचिंतकों को संवेदना. ओम शांति.’

सीएम शिवराज ने जताया दुख
पूर्व सांसद कैलाश सारंग के निधन के बाद बीजेपी के सभी कार्यकर्ताओं में शोक की लहर है. मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान खुद उनके पार्थिव देह को लेने स्टेट हैंगर पहुंचे. जहां से उनके निवास तक मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान साथ रहे और कांधा देकर उनके पार्थिव देह को उनके निवास पर रखा. इस दौरान मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने परिवार के सभी सदस्यों को ढाढस बंधाया. इस दौरान सीएम शिवराज ने कहा कि कैलाश सारंग मेरे पिता तुल्य थे, मेरे मार्गदर्शक थे और समय-समय पर उनका आशीर्वाद और सहयोग मुझे मिला है. उन्होंने सुंदरलाल पटवा कैलाश जोशी के साथ काम किया था और प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी को आगे बढ़ाया था.

कहा कि ‘ कैलाश सारंग बीजेपी के आधार स्तंभ थे.इससे पहले सीएम शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट कर बीजेपी नेता कैलाश सारंग को श्रद्धांजलि दी थी. उन्होंने संगठन की जड़ों को मज़बूती देने में उनका अतुलनीय योगदान रहा है. उन्होंने अपना सम्पूर्ण जीवन भारतीय जनसंघ, बीजेपी और संघ के माध्यम से गरीबों की सेवा में न्योछावर किया. मेरे जैसे लाखों कार्यकर्ताओं को उन्होंने तैयार किया है.’

कमलनाथ ने दी श्रद्धांजलि
बीजेपी नेता कैलाश सारंग के निधन पर पूर्व मुख्यमंत्री और पीसीसी चीफ कमलनाथ ने भी दुख जताा है. उन्होंने ट्वीट कर लिखा है कि भाजपा के वरिष्ठ नेता, पूर्व सांसद कैलाश सारंग के दुखद निधन का समाचार प्राप्त हुआ. परिवार के प्रति मेरी शोक संवेदनाएं. ईश्वर उन्हें अपने श्रीचरणों में स्थान और पीछे परिजनों को यह दुःख सहने की शक्ति प्रदान करें.

वाजपेयी-आडवाणी के करीबी थे सारंग

कैबिनेट मंत्री विश्वास सारंग के पिता कैलाश सारंग जनसंघ के शुरूआती दौर के नेताओं में से एक हैं. उन्होंने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी और राजमाता विजयराजे सिंधिया के साथ मिलकर काम किया है. इन्हीं नेताओं के दम पर पहले जनसंघ मजबूत हुआ. जिस पर आगे चलकर बीजेपी की मजबूत नींव पड़ी. पूर्व सांसद कैलाश सारंग मीसाबंदी भी रहे हैं. कैलाश सारंग ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर ‘नरेंद्र से नरेंद्र’ शीर्षक से किताब भी लिखी है.

भोपाल की राजनीति में दो परिवार थे अहम

भोपाल की राजनीति को जानने वाले पुराने नेता बताते हैं कि सियासत में केवल दो ही घराने अहम भूमिका निभाते थे. एक गौर घराना, और दूसरा सारंग घराना, सारंग और गौर ने भोपाल में कई कीर्तिमान रचे. भाजपा को मजबूत करने में यह दोनों ही दिग्गजों का बड़ा योगदान माना जाता है. कैलाश सारंग के बेटे विश्वास सारंग वर्तमान में मध्यप्रदेश शासन में चिकित्सा शिक्षा मंत्री हैं.

कायस्थ महासभा के भी अध्यक्ष रहे कैलाश सारंग

कैलाश सारंग कायस्थ महासभा के पूर्व अध्यक्ष रह चुके हैं. पिछले साल ही उनके जीवन पर केंद्रित एक मोटिवेशनल फिल्म बनाने का निर्णय लिया गया था. इस फिल्म के लेखक, निर्देशन पंकज श्रीवास्तव विद्यापुत्र रहे हैं. इस फिल्म के जरिए मध्यप्रदेश में भाजपा के संस्थापक सदस्य रहे कैलाश सारंग के जीवन के उतार-चढ़ाव को दिखाया जाएगा और उनके जरिए राजनीतिक और सामाजिक कार्यों को दिखाकर नई पीढ़ी को प्रेरणा दी जाएगी.

Leave a Reply