जिला स्तरीय आपदा प्रबंधन समूह की बैठक सम्पन्न….

नरसिंहपुर में कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के लिए गठित जिला स्तरीय आपदा प्रबंधन समूह की बैठक…. विधायक द्वय नर्मदा प्रसाद प्रजापति व जालम सिंह पटैल की अध्यक्षता में शनिवार को कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में सम्पन्न हुई।

बैठक में कलेक्टर वेद प्रकाश, पुलिस अधीक्षक अजय सिंह, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक सुनील कुमार शिवहरे, सीईओ जिला पंचायत के के भार्गव, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य डॉ. पीसी आनंद, सिविल सर्जन डॉ. अनीता अग्रवाल, अन्य अधिकारी, ठा. राजीव सिंह, विनोद श्रीवास्तव, भगवान सिंह पटैल, रामसनेही पाठक व अन्य सदस्य उपस्थित थे।


बैठक के दौरान विगत कुछ दिनों से प्रदेश स्तर पर कोरोना संक्रमण के प्रकरणों में आई बढ़ोत्तरी को दृष्टिगत रखते हुए जिले में कोविड- 19 संक्रमण के रोकथाम के लिए नई रणनीति तैयार करने हेतु चर्चा की गई।

बैठक में निर्णय लिया गया कि मास्क/ फेस कव्हर का प्रयोग पूरे जिले में सख्ती से कराया जाएगा। नियमित चैकिंग के दौरान मास्क न लगाने वालों पर जुर्माना लगाया जाएगा साथ ही उन्हें मौके पर मास्क देकर कोरोना संक्रमण से बचाव हेतु जागरूक करने का प्रयास किया जाएगा।
कलेक्टर वेद प्रकाश ने कहा कि कोरोना की रोकथाम एवं जनसमुदाय की स्वास्थ्य सुरक्षा को दृष्टिगत रखते हुए प्रशासन अब सख्ती बरतेगा तथा किसी भी तरह की ढील नहीं दी जाएगी। उन्होंने कहा कि दुकानदार एवं दुकानों पर उपस्थित कर्मचारियों को भी मास्क लगाना अनिवार्य रहेगा। साथ ही सभी दुकानदार यह प्रयास करेंगे कि दुकानों पर आने वाले ग्राहक भी मास्क का प्रयोग करें।
बैठक में विधायकद्वय ने जिलेवासियों से राज्य सरकार द्वारा जारी की गई गाइडलाइन का पालन करने का अनुरोध किया। उन्होंने कहा कि कोरोना से बचाव के लिए मास्क लगाना अत्यंत जरूरी है। पुन: आप सभी के सहयोग के माध्यम से फिर से कोरोना संक्रमण को फैलने से रोका जा सकता है। उन्होंने कहा कि प्रशासन और पुलिस द्वारा अधिक सख्ती एवं कड़ाई से शासन के निर्देशों एवं आज की बैठक में लिए गए निर्णयों का पालन कराया जाएगा।
बैठक में कलेक्टर वेद प्रकाश द्वारा पॉवर प्वाइंट प्रजेंटेशन के माध्यम से जिले में कोरोना संक्रमण से निपटने के लिए की गई तैयारियों के बारे में विस्तार से बताया गया। उन्होंने अवगत कराया कि जिला चिकित्सालय एवं अन्य स्वास्थ्य केन्द्रों पर ऑक्सीजन बेड की पर्याप्त उपलब्धता है।

कोविड केयर सेंटर एवं फीवर क्लीनिक बेहतर तरीके से संचालित किये जा रहे हैं। फीवर क्लीनिक में लगातार सेंपलिंग की जा रही है।
बैठक में समिति सदस्यों द्वारा सुझाव स्वरूप कहा गया कि रेलवे स्टेशनों पर थर्मल स्क्रीनिंग एवं पल्स ऑक्सीमीटर की व्यवस्था से जांच की जानी चाहिये। इसके अलावा पूर्व में जिस तरह से एहतियात के तौर पर व्यवस्थायें थी, उसी प्रकार की तैयारी दोबारा से की जाये। आम जनता द्वारा मास्क के प्रयोग को ज्यादा से ज्यादा प्रचारित किया जाये। इसके लिए पुन: एक मुहिम चलाने की आवश्यकता है। साथ ही मास्क का नि:शुल्क वितरण भी पर्याप्त रूप से सुनिश्चित किया जावे। नगर में यातायात व्यवस्था पर दबाव न हो, इसलिए मुख्य मार्गों पर वन- वे की व्यवस्था प्रारंभ की जाये। इसके साथ ही आपदा प्रबंधन कोष में जनप्रतिनिधियों, सामाजिक संगठनों एवं आमजनता द्वारा जो सहयोग राशि प्रदान की गई है, उसकी भी जानकारी अगली बैठक में प्रदान की जाये। आगामी समय में कोरोना के केस बढ़ने पर अन्य शहरों की भांति रात्रि कर्फ्यू लागू करने पर भी विचार आपदा प्रबंधन समूह की बैठक में लिया जा सकता है। कार्तिक पूर्णिमा पर घाटों पर भीड़भाड़ न हो इस पर विशेष ध्यान देने की आवश्यकता है।

संवाददाता प्रमोद चौरसिया करकबेल

Leave a Reply