नीमच प्राइवेट बस स्टैंड अतिक्रमण का शिकार
नगर पालिका कार्यवाही नही करने पर बेबस शासन प्रशासन मजबूर और नागरिक परेशान

नीमच निप्र करण नीमा बाबा
नीमच मैं नगर पालिका द्वारा कुछ समय पूर्व बड़े जोर शोर से अतिक्रमण हटाओ अभियान की शुरुआत की थी करीब-करीब अतिक्रमण को हटाया भी गया बाद में कमलनाथ सरकार द्वारा बड़े स्तर पर अंजाम देकर अतिक्रमण ध्वस्ता की कार्रवाई की गई और कई प्रभावी और बाहुबलियों का अतिक्रमण धराशाई हुआ ऐसा लग रहा था कि सत्ता की भागडोर अब ऐसे महारथी के हाथ में आई है की धीरे धीरे मध्य प्रदेश से भ्रष्टाचार करप्शन खोरी और अतिक्रमण का अब सफाया होना तय
पर नगर पालिका द्वारा जो कार्रवाई की गई थी वह मात्र पक्षपात दर्शाती है एवं अपनी साइड इनकम बढ़ाने की सोच से की गई थी आज अतिक्रमण पूरे नीमच शहर के चारों ओर अपने पाव पसार रहा है
जिससे लगता है जो व्यक्ति नपा के संबंधित व्यक्तियों से सांठगांठ कर अगर अतिक्रमण कर अपना पांव जमाना चाह रहा है तो वह हो सकता है या यूं कहिए हो रहा है
यह सब उदाहरण के तौर पर मात्र नीमच प्राइवेट बस स्टैंड को देखकर शहर के चारों ओर फुटपाथ का अनुमान लगाया जा सकता है शहर की व्यवस्था बनाना एवं गरीब व्यक्ति को व्यवसाय देना यह एक अलग बात है पर यहां देखने को यह मिल रहा है कि कुछ तो अतिक्रमण करता संबंधित अधिकारियों की गोद में बैठ कर पूरे शहर में एक नंबर कर रहे हैं
तो कुछ गरीब वर्ग को अपनी दाल रोटी चलाने में परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है आज यह स्थिति प्राइवेट बस स्टैंड नीमच मैं दिख रही है
ना तो वहां पर बस संचालक अपनी बसों को क्रमवार खड़ा कर रहे हैं और ना ही वहां के स्थाई व्यवसाय निर्धारित सीमा में अपना व्यवसाय कर रहे हैं
ऐसे में अस्थाई ठेला व्यवसाय भी जहां चाहे आम रास्ते पर अपना थैला खड़ा कर अपना व्यवसाय कर रहा है
ऐसे में आम रास्ते पर आवागमन में नागरिकों को बड़ी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है
पहले तो यहां पर व्यवस्था को बनाए रखने के लिए क्षेत्रीय थाना नीमच कैंट का एक आरक्षक 24 घंटे तैनात रहता था जिस कारण सार्वजनिक स्थान बस स्टैंड पर असामाजिक तत्वों द्वारा जो छोटी-मोटी घटनाओं को अंजाम दिया जा रहा था वह भी थम सा गया था लेकिन अब इस जगह के हालात बद से बदतर होते नजर आ रहे हैं
यही हाल नीमच के टैगोर मार्ग तिलक मार्ग वीर पार्क रोड , नीमच महू राज्य मार्ग जिला पुलिस अधीक्षक कार्यालय के सामने शोरूम चौराहा के फुटपाथ का है जहां पर स्थाई दुकानदारों ने अपनी दुकानों के बाहर आम रास्ते के दोनों और लगभग 10 से 15 फिट का अतिक्रमण कर अपना कब्जा जमाए बैठे है
और ऐसा नहीं है की इस स्थिति से न पा के संबंधित अधिकारी अनजान है
जब कि नपा द्वारा अस्थाई एवं घूमटी व्यवसायियों से रोज नपा के निर्धारित शुल्क वसूली के लिए संबंधित व्यक्ति द्वारा रोज रसीद प्राप्ति देखकर पर्ची काटकर शुल्क वसूली की जा रही है तो फिर जतन करेंगे सब मिल जन नीमच हो अब से नंबर वन की तर्ज पर काम करने वाले क्या कुंभकरण की नींद सो रहे हैं मुझे लगता है यह सब नपा की सांठगांठ से चल रहा है और यह काम इस तर्ज पर चल रहा है की अंधा बांटे रेवड़ी अपने अपने को दे और शुरुआती दबदबे के कारण अच्छी खासी इनकम भी हो रही है मीडिया को मजाक और पब्लिक को मूर्ख बना रही है न पा

Leave a Reply