मात्र 5 दिन में हुआ करीब 23 लाख पौध-रोपण

हरियाली अमावस्या 28 जुलाई से आरंभ महा-पौधरोपण अभियान में शुरू के 5 दिन में 22 लाख 92 हजार से अधिक पौध-रोपण हो चुका है। जन-साधारण से लेकर जन-प्रतिनिधि और विभागीय अधिकारी-कर्मचारी भी बड़ी संख्या में पौध-रोपण कर रहे हैं। अंकुर अभियान में अब तक 39 लाख 85 हजार से अधिक पौध-रोपण किया जाकर अंकुर-वायुदूत एप में अपलोड किया जा चुका है।

पर्यावरण मंत्री श्री हरदीप‍सिंह डंग ने कहा कि जलवायु परिवर्तन की वैश्विक चिंता को लेकर मध्यप्रदेश का पर्यावरण सुरक्षा के प्रति यह एक छोटा सा परंतु अति-महत्वपूर्ण योगदान है। आने वाली पीढ़ियों को इसका लाभ मिलेगा। मंत्री श्री डंग ने कहा कि बहुत सारे ऐसे लोग भी हैं, जो पौध-रोपण तो कर रहे हैं परंतु वायुदूत एप पर अपलोड न करने के कारण वे गिनती में नहीं आ रहे हैं। उन्होंने अपील की है कि पौध-रोपण के बाद वायुदूत एप पर पंजीयन कराकर फोटो अपलोड करें।

अंकुर अभियान में अब तक 8 लाख 44 हजार 191 पंजीकृत लोगों ने 23 लाख 10 हजार 556 प्रथम फोटो, 2 लाख 67 हजार 138 द्वितीय और 36 हजार 723 तृतीय फोटो अपलोड की है। पौध-रोपण वेरीफिकेशन के लिये प्रदेश में 4 हजार 818 वेरीफायर्स की नियुक्ति की गई है। पंजीकृत प्रतिभागियों में 2 लाख 83 हजार 457 महिला और 5 लाख 58 हजार 51 पुरूष हैं। प्रतिभागियों द्वारा अब तक 2 लाख 66 हजार 570 प्रमाण-पत्र डाउनलोड किये जा चुके हैं।

अभियान में सर्वाधिक 59 हजार शिवपुरी जिले में, 44 हजार इंदौर, 39 हजार दतिया, 35 हजार भोपाल, 33 हजार छिंदवाडा, 26 हजार अशोकनगर, 25 हजार ग्वालियर, 24 हजार गुना और नर्मदापुरम में 23 हजार पौध-रोपण किया जा चुका है। सर्वाधिक 4 लाख 60 हजार आम के पौधे, एक लाख 90 हजार नीम, एक लाख 4 हजार अशोक, एक लाख करंज, 90 हजार आवला, 80 हजार पीपल, 60-60 हजार शीशम-गुलमोहर, 40 हजार इमली और 30-30 हजार बेर-कचनार-सागौन और बरगद के पौधे लगाए जा चुके हैं। पाँच लाख 80 हजार मिश्रित पौधे हैं। इंदौर जिले में सर्वाधिक 2 लाख 40 हजार प्रथम फोटो अपलोड की गई हैं।

Leave a Reply