30 फीसदी से कम रिजल्ट वाले स्कूलों की निगरानी करेंगे अब अन्य विभागों के अधिकारी, कहीं आपको तो..

संभागायुक्त ने सौंपी संभागीय अधिकारियों को जिम्मेदारी

30 फीसदी से कम रिजल्ट वाले स्कूलों की निगरानी करेंगे अब अन्य विभागों के अधिकारी, कहीं आपको तो..

सतना/ सत्र 2018-19 का रीवा संभाग का बोर्ड परीक्षा परिणाम प्रदेश में सबसे कमजोर रहा। अब इस सत्र का रिजल्ट सुधारने संभागायुक्त रीवा डॉ. अशोक भार्गव ने एक नवाचार प्रारंभ किया है। लिए उन्होंने संभाग के ऐसे विद्यालय जहां 30 फीसदी से कम परिणाम रहा है, वहां अलग-अलग विभागों के अधिकारियों को निरीक्षण की जिम्मेदारी दी है। साथ ही कहा है कि ये अधिकारी भ्रमण निरीक्षण की अग्रिम कार्ययोजना तैयार कर विद्यालय जाएं। यह भी हिदायत दी है कि यह निरीक्षण खानापूर्ति का न हो।

संभागायुक्त डॉ. भार्गव ने जारी आदेश में कहा कि गत वर्ष बोर्ड परीक्षा परिणाम की तुलना में रीवा संभाग के परिणाम अपेक्षानुरूप नहीं रहे। जिन विद्यालयों के परीक्षा परिणाम 30 फीसदी से कम रहे हैं, विशेषकर उन विद्यालयों के वर्तमान सत्र में और बेहतर परिणाम प्राप्त करने जिला और विकासखंड स्तरीय समीक्षा बैठक सह शिक्षक संवाद कार्यक्रम भी आयोजित किए जा चुके हैं। साथ ही उन्होंने आदेश में विभिन्न विभागों के अधिकारियों की विद्यालय वार ड्यूटी लगाई है।

इन्हें आवंटित हुए विद्यालय
अधीक्षण यंत्री पीपी पाठक कार्या. मुख्य अभियंता गंगाकछार रीवा को हाईस्कूल आमातारा, हाईस्कूल अमदरा, ईएओ डीपी चतुर्वेदी कार्या. मुख्य अभियंता गंगाकछार रीवा को उमावि मुकुंदपुर, उमावि पहाड़ी उचेहरा, अधीक्षण यंत्री बीके झा कार्या. मुख्य अभियंता लोक निर्माण रीवा को उमावि सिंहपुर, उमावि कारीगोही, अधीक्षण यंत्री टीके मिश्रा कार्या. मुख्य अभियंता म.प्र. विद्युत मंडल रीवा को उमावि गुझुवा, उमावि सुकवाह, अधीक्षण यंत्री एसएल चौधरी लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग रीवा को उमावि सिजहटा, उमावि नादन, सीजीएम यूबी सिंह एमपीआआरडीए रीवा को उत्कृष्ट उमावि रामनगर, हाईस्कूल भरिगवां, प्रोजेक्ट डायरेक्टर खेमचंद्र अहिरवार पीआईयू उमावि कंधवारी, संयुक्त संचालक लक्ष्मण सिंह जनसंपर्क को उमावि हिरौदी, उमावि इटमा मैहर, संयुक्त संचालक ऊषा सोलंकी महिला एवं बाल विकास विभाग रीवा को उमावि गुढ़ुआ, महाप्रबंधक मनोज कुमार जैन उद्योग विभाग को उमावि बरौधा मझगवां, संयुक्त संचालक राजेश मिश्रा पशु चिकित्सा सेवाएं को हाईस्कूल इटमा कोठार, उमावि करही अमरपाटन, उमावि कठहा अमरपाटन, कन्या उमावि अमरपाटन, क्षेत्रीय संचालक एमसी हरगुनानी स्वास्थ्य सेवाएं रीवा संभाग को हाईस्कूल असरार, हाईस्कूल बेला, उमावि मगरौरा मैहर, उमावि सभागंज मैहर, संयुक्त संचालक अनिल दुबे सामाजिक न्याय रीवा हाईस्कूल शिवपुरवा, उमावि घुनवारा मैहर, उमावि अमदरा मैहर, संयुक्त संचालक आरपी सोनी नगरीय प्रशासन रीवा को हाईस्कूल बदेरा, जैतवार, बिरसिंहपुर, सितपुरा, संयुक्त संचालक एससी सिंगादिया कृषि विकास रीवा को जुड़वानी, जसो, रहिकवारा, सिंहपुर, जेडी उद्यानिकी जेपी कोल्हेकर को नागौद, रामनगर, छिबौरा, संयुक्त आयुक्त सहकारिता एसएन कोरी को ककलपुर, कोटर, सज्जनपुर, उप संचालक मत्स्य रवि मिश्रा को भरजुना, घूरडांग, बालक कोठी, सहायक श्रमायुक्त मोहन सिंह ठाकुर को बिहरा खुर्द, प्रतापपुर, जरियारी, महिदल, व्यंकट 2, कन्या धवारी, जोनल मैनेजर मार्केटिंग फेडरेशन नेहा पियूष तिवारी बरुआ, पतौरा, भटनवारा, उप संचालक प्रवीण चौधरी को महतैन, गौहारी, महुडऱ, बिहटा, कन्या उचेहरा, क्षेत्रीय परिवहन अधिकारी मनीष त्रिपाठी मझगवां, ओबरा, गोबरी, जमुना रामपुर बाघेलान, देवरा रामनगर, अर्जुनपुर चित्रकूट, संभागीय प्रबंधक एमपीआरडीसी अशोक चौहान को कनसा मैहर, ललितपुर कोठार, करहिया नागौद, मरौहा रामपुर, राजेन्द्र सिंह ठाकुर खाद्य विभाग डेलहा मैहर, सहायक संचालक सीएल सोनी पिछड़ा वर्ग कल्याण रिवारा मैहर, मौधा मैहर, जेडी नगर तथा ग्राम निवेश रीवा आरके पाण्डेय धनवाही सतना, तुसगवां उचेहरा, परसमनिया उचेहरा, आंचलिक अधिकारी आरएस परिहार प्रदूषण बोर्ड गोविन्दपुर, अतरबेदिया कलां, घुंघचिहाई, खरवाही, सेमरिया रामनगर, ईई एनएचएआई शंकरलाल बिरलाविकास, रामनगर रामपुर, पपरा, करहीकला, नकैला, कन्या रामनगर का दायित्व दिया गया है।

विधिवत भ्रमण सुनिश्चित करें
संभागायुक्त ने जारी आदेश में 30 फीसदी से कम परीक्षा परिणाम वाली शालाओं एवं मिशन 1000 के तहत चयनित शालाओं के निरीक्षण के लिए अलग-अलग विभागों के अधिकारियों की ड्यूटी लगाते हुए निर्देशित किया कि आवंटित विद्यालयों का वे स्वयं तथा अपने अधीनस्थ कार्यरत जिला स्तरीय अधिकारियों की जवाबदेही तय करते हुए उन्हें विद्यालय आवंटित कर विधिवत भ्रमण सुनिश्चित किया जाए। विद्यालयों के गुणात्मक सुधार विषय में प्रतिवेदन भी उपलब्ध कराएं ताकि अग्रिम कार्ययोजना तैयार कर आवश्यक प्रक्रिया सुनिश्चित की जाए।

खानापूर्ति न हो
संभागायुक्त ने आदेश में यह भी स्पष्ट किया कि विद्यालयों में भ्रमण की प्रक्रिया केवल खानापूर्ति के लिए न की जाए, बल्कि प्रत्येक चयनित विद्यालय का गहन रूप से विधिवत भ्रमण कर प्रतिवेदन तैयार किया जाए।

About डीजी न्यूज़ मध्य प्रदेश

View all posts by डीजी न्यूज़ मध्य प्रदेश →

Leave a Reply