53वें भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव में 15 फिल्में प्रतिष्ठित स्वर्ण मयूर हासिल करने की दौड़ में

53वें भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव (इफ्फी) में 15 फिल्में प्रतिष्ठित स्वर्ण मयूर हासिल करने की दौड़ में हैं। महोत्सव का आयोजन गोवा में 20 नवंबर से 28 नवंबर, 2022 तक होगा। मन को मोह लेने वाली फिल्मों में 12 अंतर्राष्ट्रीय और तीन भारतीय फिल्में शामिल हैं, जो सौंदर्यबोध से ओतप्रोत हैं और कला के माध्यम से कोई न कोई संदेश देती हैं।

तीसरे इफ्फी में पहली बार स्वर्ण मयूर पुरस्कार दिया गया था। उसके बाद से यह पुरस्कार एशिया में सबसे प्रतिष्ठित पुरस्कार माना जाने लगा है। निर्णायक-मंडल के सामने इस वर्ष के विजेता का चुनाव करने का लगभग असंभव सा काम था। उन्हें इजराइली लेखक और फिल्म निर्देशक नदव लैपिड, अमेरिकी निर्माता जिनको गोटोह, फ्रांसीसी फिल्म-संपादक पास्कल शावान्स, फ्रांसीसी वृतचित्र निर्माता, फिल्म आलोचक और पत्रकार ज़ावियेर आगुलो बार्तूरेन तथा भारत के अपने फिल्म निर्देशक सुदीप्तो सेन जैसे महारथियों में से चुनाव करना था।

इस बार की कठिन प्रतिस्पर्धा में ये फिल्में शामिल हैं:-

  1. परफेक्ट नंबर (2022)

https://i0.wp.com/static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/1KWUR.jpg?w=810&ssl=1

यह ड्रामा पोलिश फिल्म निर्माता क्रिज्तोफ जानुसी की फिल्म है, जो नैतिकता और नश्वरता पर मंथन करती है। इसे इटली और इजराइल ने मिलकर बनाया है। फिल्म में एक युवा गणितज्ञ और उसके दूर के रिश्तेदार के बीच के सम्बन्ध को दिखाया गया है, कि कैसे वे अचानक मिलते हैं और इस रहस्यों से भरी दुनिया के बारे में, जीवन-मृत्यु के बारे में गहरे ध्यान में संलग्न होते हैं।

2.  रेड शूज़ (2022)

https://i0.wp.com/static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/2OR06.jpg?w=810&ssl=1

इस फिल्म को मैक्सिको के कार्लोस आइकिलमैन कायसर ने बनाया है। यह बहुत संवेदनशील और भावुक फिल्म है। यह कहानी एक किसान की है, जो एकांत में रहता है। उसे अपनी बेटी की मृत्यु का समाचार मिलता है। फिल्म धीरे-धीरे आगे बढ़ती है और दिखाती है कि किस तरह वह किसान अपनी बेटी के शव को लाने की कोशिश करता है। वह एक अपरिचित और अनजानी दुनिया में कदम रखता है। इस फिल्म को कई पुरस्कारों के लिए नामांकित किया गया था और यह वेनिस इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल में ऑडियन्स अवार्ड की दावेदार थी।

3.  ए माइनर (2022)

https://i0.wp.com/static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/361G0.jpg?w=810&ssl=1

1970 के दशक में ईरानी फिल्मों की नई लहर के संस्थापक सदस्य दायरूश मेह्रजुई ईरानी सिनेमा की जानी-मानी हस्ती हैं। ये महारथी फिल्म निर्माता अपनी इस फिल्म के साथ एक बार फिर इफ्फी में आये हैं। यह फिल्म एक लड़की के बारे में है, जो अपने पिता के विरोध के बावजूद संगीतकार बनना चाहती है। परिवार के सदस्यों के बीच व्याप्त जटिल रिश्तों, माता-पिता व बच्चे के बीच भिन्न-भिन्न आकांक्षाएं तथा संगीत का जादू इस फिल्म की विषयवस्तु है।

4.  नो एन्ड (2021)

https://i0.wp.com/static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/4PQT9.jpg?w=810&ssl=1

इस ईरानी ड्रामा में ईरान की खुफिया पुलिस की साजिशों और कारनामों को दर्शाया गया है। एक शांत ईमानदार व्यक्ति अपने घर की हिफाजत करने के लिए पुलिस से झूठ बोलता है। चीजें जटिल हो जाती हैं, जब असली खुफिया पुलिस सामने आती है। जाफ़र पनाही के सहयोगी नादिर सेईवर की दूसरी फीचर फिल्म को बुसान इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल में न्यू करंट्स अवार्ड के लिए नामांकित किया गया था। जफर पानाही को सलाहकार और संपादक के रूप में सम्मानित किया गया था।

5. मेडीटिरेनियन फीवर (2022)

https://i0.wp.com/static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/5JRYJ.jpg?w=810&ssl=1

फलिस्तीनी-इजराइली लेखक-निर्देशक माहा हाज की यह फिल्म एक ब्लैक-कॉमेडी है। यह दो प्रौढ़ों की कहानी है, जो ‘कभी दोस्त-कभी दुश्मन’ बन जाते हैं। कान के ‘अन-सर्टन रिगार्ड’ प्रतिस्पर्धा में इस फिल्म को सर्वश्रेष्ठ पटकथा के लिए पुरस्कृत किया गया था। फिल्म एक आकांक्षी लेखक और एक मामूली से उचक्के के बीच अनचाहे रिश्तों के आसपास घूमती है।

6. व्हेन दी वेव्ज आर गॉन (2022)

https://i0.wp.com/static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/670HG.jpg?w=810&ssl=1

यह फिल्म फिलीपीन के फिल्म निर्माता लाव डायज ने बनाई है। इस फिल्म की कहानी फिलीपीन के एक पुलिस जांचकर्ता के बारे में है, जो नैतिकता के ताने-बाने में उलझ जाता है। फिल्म में उसके अंधकरामय अतीत के बारे में दिखाया गया है, जो हमेशा उसका पीछा करता रहता है। वह जब भी चिंता और अपराधबोध से मुक्त होने की कोशिश करता है, तो उसका अतीत उसके सामने आ खड़ा होता है। लाव डायज को अपनी खुद की विधा ‘सिनेमेटिक-टाइम’ के लिये जाना जाता है (उनकी 2004 की फिल्म इवॉल्यूशन ऑफ ए फिलीपिनो फैमिली 11 घंटे की फिल्म है)। बाद में उन्होंने तय किया कि तीन घंटे में ही वे अच्छी तरह अपनी बात कह सकते हैं।

7. आई हैव इलेक्ट्रिक ड्रीम्स (2022)

https://i0.wp.com/static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/7XLQZ.jpg?w=810&ssl=1

कोस्टा रिका की फिल्म निर्माता वेलेन्टीना मॉरेल ने 2022 के लोकार्नो अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव में अपनी फिल्म आई हैव इलेक्ट्रिक ड्रीम्स के लिए सर्वश्रेष्ठ निर्देशक का पुरस्कार जीता था। इस फिल्म में 16 वर्ष की एक लड़की इवा की कहानी है, जिसके माता-पिता का तलाक हो चुका है। वह अपने पिता से बहुत जुड़ी हुई है। जब वह पिता के साथ फिर से जुड़ने की कोशिश करती है, तो उसे पिता और अपने बारे में कुछ हैरान करने वाले सूत्र मिलते हैं। लोकार्नो अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव में फिल्म के रेनाल्डो एमियन को सर्वश्रेष्ठ अभिनेता और दानियाला मारिन नवारो को सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री का पुरस्कार भी मिल चुका है।

8. कोल्ड एज़ मार्बल (2022)

https://i0.wp.com/static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/8GZML.png?w=810&ssl=1

अजरबैजान के फिल्म निर्देशक आसिफ रुस्तामोव की यह फिल्म क्राइम ड्रामा/साइको-थ्रिलर है। फिल्म की कहानी है कि अपनी पत्नी की हत्या करने के कारण जेल में बंद एक व्यक्ति (पिता) अचानक घर आ जाता है। फिल्म के केंद्र में एक युवा है, जिसे निर्देशक ने बदलते समाज से नाराज व्यक्ति के रूप में दिखाया है। एक संवेदनशील पेंटर और कब्र पर लगे पत्थर पर इबारत लिखने का काम करने वाला पात्र उस समय चौंक जाता है, जब उसे पता चलता है कि उसके पिता ने उसकी मां को क्यों मारा था।

9. द लाइन (2022)

https://i0.wp.com/static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/98W0X.png?w=810&ssl=1

यह फिल्म फ्रांसीसी-स्विस फिल्म निर्माता उर्सुला मायर की है और बर्लिन फिल्म फेस्टिवल में गोल्डन बेयर के लिये नामांकित हुई थी। इसमें एक परिवार के आपसी बंधन की कहानी है। फिल्म में एक मां और उसकी बेटी के बीच उतार-चढ़ाव भरे रिश्तों को पेश किया गया है। फिल्म की शूटिंग स्विट्जरलैंड में की गई है और इसके माध्यम से मातृत्व तथा हिंसा के बीच के अजीबो-गरीब सम्बन्ध को दिखाया गया है।

10. सेवेन डॉग्स (2021)

https://i0.wp.com/static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/10I03S.jpg?w=810&ssl=1

इस फिल्म का प्रीमियर चौथे कायरो इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल में हुआ था। यह फिल्म एक अकेले इंसान के संघर्ष की कहानी है, जो अपने सात कुत्तों को पालने के लिये तमाम समस्याओं से गुजरता है। फिल्म अर्जेन्टीना के रोड्रिगो ग्वेवरा की चौथी फिल्म है। फिल्म 80 मिनट की है तथा इन्सान और उसके पालतू जानवरों के बीच के जुड़ाव को दर्शाती है।

11. मारियाः द ओशन एंजेल (2022)

https://i0.wp.com/static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/11THDR.jpg?w=810&ssl=1

यह फिल्म श्रीलंका के फिल्म निर्माता अरुणा जयवर्धने ने बनाई है। यह स्वर्ण मयूर की दावेदार दूसरी श्रीलंकाई फिल्म है। इसके पूर्व 50वें इफ्फी में लेस्टर जेम्स पेरीज की गामपेरालिया को इफ्फी में पुरस्कृत किया गया था। मारियाः दी ओशन एंजेल मछुआरों के एक समूह की कहानी है, जिन्हें समुद्र में तैरती हुई एक सेक्स-डॉल मिलती है। उसे पाकर वे परेशान हो जाते हैं। फिल्म निर्देशक को उनकी 2011 की फिल्म ऑग्सट ड्रिजिल के लिए जाना जाता है।

12. द कश्मीर फाइल्स (2022)

https://i0.wp.com/static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/12HD06.jpg?w=810&ssl=1

यह हिन्दी फिल्म 1990 को हुए कश्मीरी पंडितों के पलायन पर आधारित है। इसे विवेक अग्निहोत्री ने निर्देशित किया है। कहानी फिल्म के मुख्य पात्र कृष्णा के सहारे आगे बढ़ती है। वह युवा है और एक कॉलेज में पढ़ता है। आगे चलकर उसे अपने माता-पिता की असमय मृत्यु के रहस्य का पता चलता है।

13. नेज़ह (2022)

https://i0.wp.com/static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/13B45W.jpg?w=810&ssl=1

इस फिल्म को वेनिस इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल 2022 में ऑडियन्स अवार्ड मिल चुका है। फिल्म युद्धग्रस्त सीरिया के एक परिवार की कहानी कहती है। फिल्म अरबी भाषा में है। इसमें एक परिवार को दिखाया गया है, जो सीरिया के एक चारों तरफ से घिरे इलाके को न छोड़ने का फैसला करता है। फिल्म निर्देशक सौदादे कादन कहती हैं कि उन्होंने खुद उस समय पहली बार ऐसा अनुभव किया था, जब उनके पड़ोस में बमबारी हुई थी।

14. द स्टोरी-टेलर (2022)

https://i0.wp.com/static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/14JRLX.jpg?w=810&ssl=1

अनन्त महादेवन की यह फिल्म महान फिल्म निर्माता सत्यजित रे के पात्र तारिणी खुरो के बारे में है। कहानी में दिखाया गया है कि कैसे तारिणी खुरो नौकरी से सेवानिवृत्त होने के बाद खुद को अजीब हालत में पाता है और किस्सागो बन जाता है। इस फिल्म को बुसान इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल में प्रीमियर किया गया था और वहीं उसे किम जी-सेयोक पुरस्कार के लिये नामित किया गया था।

15. कुरांगू पेडल (2022)

https://i0.wp.com/static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/16EXC3.png?w=810&ssl=1

यह फिल्म रासी अलगप्पन की लघु कथा ‘साइकिल’ पर आधारित है। निर्देशक कमलकानन की यह फिल्म एक स्कूली बच्चे की कहानी है, जो साइकिल चलाना सीखना चाहता है, जबकि उसके पिता सिखाने में सक्षम नहीं हैं। फिल्म में पांच बच्चों को दिखाया गया है, जिनके सहारे कहानी आगे बढ़ती है। फिल्म के निर्देशक को उनकी 2012 की फिल्म मधुबानाकडाई के लिए जाना जाता है।

***

Leave a Reply