अमेरिका का राष्‍ट्रपति बनकर भी डोनाल्‍ड ट्रंप से इस मामले में काफी पीछे हैं जो बाइडेन

Joe Biden Net Worth: अमेरिका के 46वें राष्‍ट्रपति जो बाइडेन ने सत्‍ता संभाल ली है। पूर्ववर्ती राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप अपने घर लौट गए हैं। जो बाइडेन दुनिया के सबसे शक्तिशाली देश मुख‍िया बनने के बाद भी ट्रंप से एक मामले में पीछे ही रहेंगे।

हाइलाइट्स:

  • चुनावी दंगल में शानदार जीत हासिल करने के बाद जो बाइडेन अमेरिका के 46वें राष्‍ट्रपति बन गए
  • बाइडन को दुनिया के सबसे शक्तिशाली देश का मुख‍िया बनने के लिए लंबी लड़ाई लड़नी पड़ी
  • राष्‍ट्रपति बनने के बाद भी ‘मिडिल क्‍लास’ से ताल्‍लुक रखने वाले बाइडेन ट्रंप से पीछे ही रहें

वॉशिंगटन
अमेरिका के चुनावी दंगल में शानदार जीत हासिल करने के बाद जो बाइडेन बुधवार को देश के 46वें राष्‍ट्रपति बन गए। उन्‍होंने उपराष्‍ट्रपति कमला हैरिस के साथ शपथ ग्रहण किया। दुनिया के सबसे शक्तिशाली देश के मुख‍िया बनने का रास्‍ता तय करने के लिए जो बाइडेन को अपने पूर्ववर्ती राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप के साथ लंबी लड़ाई लड़नी पड़ी। हालांकि राष्‍ट्रपति बनने के बाद भी ‘मिडिल क्‍लास’ से ताल्‍लुक रखने वाले जो बाइडेन अभी भी अरबपति डोनाल्‍ड ट्रंप से संपत्ति के मामले में पीछे ही रहेंगे।

20 नवंबर 1942 को जन्‍मे जो बाइडेन के पास मात्र 9 मिल‍ियन डॉलर की संपत्ति है। जो बाइडेन की पत्‍नी जिल बाइडेन एक शिक्षिका हैं। बाइडेन की कमाई का मुख्‍य स्रोत किताबों की डील और वक्‍ता रूप में उनकी फीस है। जो बाइडेन के पास डिलेवर में 4 मिलियन डॉलर के दो घर हैं। उनके पास नकद और निवेश करीब 4 मिल‍ियन डॉलर का है। इसके अलावा उन्‍हें एक मिल‍ियन डॉलर की फेडरल पेंशन मिलती है।

वर्ष 1979 में 42,500 डॉलर सालाना वेतन से शुरुआत
बाइडेन ने सीनेट में सांसद के रूप में वर्ष 1979 में 42,500 डॉलर सालाना वेतन से शुरुआत की थी। अब राष्‍ट्रपति बनने के बाद उन्‍हें 4 लाख डॉलर या 2,94,19,440 रुपये मिलेंगे। अमेरिकी राष्ट्रपति को वेतन के अलावा 17 तरह के अलग-अलग भत्ते भी दिए जाते हैं। उनको सालाना व्यय के रूप में 50000 डॉलर (3677430 रुपये), यात्रा व्यय के रूप में टैक्स रहित 100000 डॉलर (7354860 रुपये) और मनोरंजन भत्ते के तौर पर 19000 डॉलर (1397423 रुपये) भी दिया जाता है। इसके अलावा वर्तमान और पूर्व राष्ट्रपति को सुरक्षा और स्वास्थ्य बीमा, वॉर्डरोब बजट भी दिया जाता है।

इसके विपरीत डोनाल्‍ड ट्रंप पैसे के मामले में जो बाइडेन से काफी आगे हैं। फोर्ब्‍स के मुताबिक डोनाल्‍ड ट्रंप की कुल संपत्ति करीब 3.1 अरब अमेरिकी डॉलर है। ट्रंप एक बिजनसमैन हैं और उनके ट्रंप टॉवर भारत समेत पूरी दुनिया में फैले हुए हैं। बाइडेन की जिंदगी की अगर बात करें तो काफी संघर्ष और चुनौतियों से भरी रही है। व्यक्तिगत जीवन की बात करें तो जो बाइडेन (Joe Biden) ने काफी तकलीफें झेली। 1972 में सीनेट चुने जाने के कुछ वक्त बाद ही एक कार एक्सीडेंट में उनकी पत्नी नीलिया और बेटी नाओमी की मौत हो गई, जबकि उनके बेटे हंटर और ब्यू गंभीर रूप से घायल हो गए।बाइडेन के बड़े बेटे ब्यू की ब्रेन कैंसर से मौत
बाइडेन ने अपने दोनों बेटों को अपनी बहन और उनके परिवार की मदद से बड़ा किया। हालांकि पहली पत्नी नीलिया की मौत के 5 साल बाद बाइडेन ने जिल से शादी कर ली। जिल और बाइडेन की एश्ली नाम की एक बेटी है, जिसका जन्म 1981 में हुआ था। साल 2015 में 46 साल की उम्र में बाइडेन के बड़े बेटे ब्यू की ब्रेन कैंसर से मौत हो गई थी। बाइडेन के छोटे बेटे हंटर की बात करें तो एक वकील और लॉबिस्ट के रूप में उनका करियर भ्रष्टाचार के आरोपों का निशाना रहा है।बाइडेन का राजनीतिक करियर की बात करें तो 77 वर्षीय बाइडन छह बार सीनेटर रहे हैं। ऐसा नहीं है कि यह कामयाबी उन्होंने अपने पहले प्रयास में पा ली है। बाइडन को वर्ष 1988 और 2008 में राष्ट्रपति पद की दौड़ में नाकामी मिली थी। डेलावेयर से आने वाले दिग्गज नेता बाइडेन को सबसे बड़ी सफलता उस समय मिली जब वह दक्षिण कैरोलीना की डेमोक्रेटिक पार्टी प्राइमरी में 29 फरवरी को अपने सभी प्रतिद्वंद्वी को पछाड़कर राष्ट्रपति पद की दौड़ में जगह बनाने में कामयाब रहे। वॉशिंगटन में पांच दशक गुजारने वाले बाइडेन अमेरिकी जनता के लिए एक जाना-पहचाना चेहरा थे क्योंकि वह दो बार तत्कालीन अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा के कार्यकाल में उप राष्ट्रपति रहे।

तकलीफों से गुजर कर सबसे ताकतवर व्यक्ति बने
ये संघर्ष की दास्तां बनाती है कि बाइडेन एक ऐसा नेता हैं जिन्होंने बहुत सारी तकलीफों से गुजर कर विश्व के सबसे ताकतवर व्यक्ति का तमगा हासिल किया है। जो बाइडेन यानी जोसेफ रॉबिनेट बाइडन जूनियर का जन्म साल 1942 में पेनसिल्वेनिया राज्य के स्क्रैंटन में हुआ था। वह अपने बचपन में ही डेलावेयर चले गए थे। जो बाइडेन ने राजनीति में आने से पहले कुछ दिनों तक एक वकील के रूप में काम किया। वह इतिहास में पांचवें सबसे कम उम्र के अमेरिकी सीनेटर और डेलावेयर के सीनेटर के रूप में सबसे लंबे समय तक सेवारत रह चुके हैं।

Leave a Reply