ऑनलाईन सट्टा खिलाते छः आरोपी गिरफतार *तीन लैपटॉप, 12 मोबाईल फोन, एक डोन्गल एवं एक लैपटॉप चार्जर जब्त, लाखों का हिसाब मिला।


चित्तौड़गढ़। गंगरार थाना पुलिस ने शनिवार को फ़र्जी आईडी बनाकर ऑनलाइन सट्टा खिलवा कर नुकसान पहुंचाने के मामले में छः आरोपियों को गिरफ्तार कर उनके कब्जे से तीन लैपटॉप, 12 मोबाईल फोन, एक डोन्गल एवं एक लैपटॉप चार्जर जब्त किया है। जब्त लेपटॉप में लाखों का हिसाब मिला। पेड़ के निचे खुले में बैठकर ऑनलाइन सट्टा खिलवाते धरे गए एक मध्यप्रदेश व 5 जिले के निवासी कुल 06 आरोपी ।
पुलिस अधीक्षक श्री राजन दुष्यन्त ने बताया कि थानाधिकारी शिवलाल मीणा पु.नि को मुखबिर से सूचना मिली कि मेडी खेडा रेल्वे फाटक के पास जमीन पर पेड़ों के नीचे 5-6 लडके ऑनलाईन बडे लेवल पर लेपटॉप एवं मोबाईल पर अन्य व्यक्तियों की आईडी बनाकर उन व्यक्तियों से तथ्यों को बेईमानी से छिपाकर सट्टा खिलवा कर खुद का फायदा लेकर अन्य को हानि पहुंचा रहे हैं। मुखबिर की सूचना विश्वसनीय होने से एसएचओ शिवलाल के नेतृत्व में एएसआई अमीचंद मीणा थाने के जाप्ता हैड कानि विक्रमसिंह, कानि बलवीर, भरत व भैरूलाल के साथ कार्यवाही हेतु थाने से रवाना होकर डेट पहुंचे जहां एक पेड की छांव में 6 जवान उम्र के लडके अपने बीच में लेपटॉप, मोबाईल रख लेपटॉप एवं मोबाईल से चेटिंग करते हुए दिखे। जो पुलिस जाप्ते व जीप को देखकर मौके से भागने लगे। जिनको पुलिस जाप्ते द्वारा यथास्थिति बैठे रहने के निर्देश दिये जाकर नाम पता पुछा तो उन्होंने अपना नाम पावटिया पुलिस थाना चंदेरिया निवासी 23 वर्षीय कमलेश पुत्र गोटुलाल जाट, जाट मौहल्ला गोपालनगर (डाबर) थाना भोपालसागर निवासी 19 वर्षीय मुकेश पुत्र बद्रीलाल जटिया, मध्यप्रदेश के सरवानिया महाराज थाना जावद जिला नीमच निवासी 23 वर्षीय राहुल पुत्र लक्ष्मीनारायण पाल गाडरी, हायर सेकेंडरी स्कुल के पास बस्सी थाना बस्सी निवासी 22 वर्षीय अजय पुत्र गोपाल वैष्णव, पोस्ट ऑफीस के पास बस्सी निवासी 24 वर्षीय हेमंत कुमार पुत्र राजेश कुमार पायक व अमरपुरा पुलिस थाना साडास निवासी 22 वर्षीय विनोद जाट पुत्र मेघाजी जाट बताया। पुलिस पूछताछ पर उन्होंने लेपटॉप एवं मोबाईल के माध्यम से ऑन लाईन अन्य व्यक्तियों की आईडी बनाकर उन व्यक्तियों से तथ्यों को बेईमानी से छिपाकर सही नही बता कर सट्टा खिलाया जाकर दुसरों को हानि पहुंचाना व स्वयं को लाभ प्राप्त करना बताया। पुलिस ने मौके पर मिले लेपटॉप को देखा गया तो REDDY ANNA ग्रुप पर वेब साईट खुली हो ऑन लाईन गेम्स चलना मिला। मोबाईलों को देखा गया तो वाट्सएप ग्रुप polo 2 derosit R426 तथा polo 2 Withdrawal R426 पाया गया। आरोपियों ने बताया कि लेपटॉप में चल रही बेबसाईट मोबाईल में नही चलती है तथा मोबाईल ग्रुप लेपटॉप पर नही चलता है। REDDY ANNA ग्रुप की मास्टर आईडी से क्लाईंट आईडी पासवर्ड बनाकर ग्राहकों को आईडी पासवर्ड देकर उनके द्वारा ऑन लाईन रूपये जमा कराने पर उन क्लाईंट आईडी में रिचार्ज किया जाता है। उसके बाद ग्राहको के द्वारा स्वयं की क्लाईंट आईडी स्वयं के मोबाईल में ईंटरनेट बाउजर व एप पर चलाकर लाईव गेम खेलते है। जब्त लेपटॉप के प्रयोग के बारे में आरोपियों ने बताया कि लेपटॉप में क्लाईंट के भेजे रुपये को चेक कर रिसीव्ड देने, क्लाईंट की पेमेंट स्लीप के आधार पर उसका आईडी नाम प्राप्त करने, क्लाईंट के रूपयो की स्लीप व आई/डी के आधार पर क्लाईंट को कॉयन एड करने एवं क्लाईंट का पेमेंट प्राप्त होने के संबंध में रूपयों की एंट्री, यूटीआर नंबर, समय का ईंद्राज आदि एक्सल एंट्री संधारित करने हेतु काम मे लिया जाता है। जिन्हें खोलकर देखा तो उनमे लाखों रूपयों का हिसाब होना पाया गया। ऑन लाईन सट्टा हेतु प्रयोग करने से उक्त तीनो लेपटॉप, एक जीयो कंपनी का डोंगल, एक लैपटॉप चार्जर डेल कंपनी एवं बारह मोबाईल फोन को जप्त कर आरोपियों को धोखाधड़ी, आईटी एक्ट व जुआं अधिनियमन का अपराध पाया जाने से गिरफ्तार कर प्रकरण दर्ज कर अनुसंधान किया जा रहा है। गिरफतार आरोपियों से उक्त ऑनलाईन सट्टे में शामिल अन्य व्यक्तियों के बारे में गहनता से अनुसंधान किया जा रहा है।

,

Leave a Reply