महाकुंभ-2021 में आज सोमवती अमावस्या का पवित्र शाही स्नान होगा, कोरोना के साए में हरकी पैड़ी में सिर्फ संत लगाएंगे डुबकी

महाकुंभ 2021:हरिद्वार(उत्तराखंड)


हरिद्वार महाकुंभ-2021 में आज सोमवती अमावस्या का पवित्र शाही स्नान होगा। कोविड के साए में श्रद्धालुओं की भीड़ और अखाड़ों के शाही स्नान के लिए जिला एवं मेला पुलिस-प्रशासन ने तैयारियां पूरी कर ली हैं। हरकी पैड़ी जीरो जोन रहेगा और ब्रह्मकुंड अखाड़ों के संतों के स्नान के लिए आरक्षित होगा। वहीं, शाही स्नान से पहले ही लाखों श्रद्धालु हरिद्वार पहुंच गए हैं।
हरकी पैड़ी क्षेत्र में चप्पे-चप्पे पर कड़ी सुरक्षा रहेगी। स्नाइपर निगरानी करेंगे और बम निरोधक दस्ता व डॉग स्क्वाड की टीमें अलर्ट रहेंगी। सबसे पहले निरंजनी अखाड़े के संत स्नान के लिए पहुंचेंगे। मेला प्रशासन ने बारी-बारी से अखाड़ों के स्नान का रूट और समय चार्ट जारी कर दिया है। श्रद्धालु हरकी पैड़ी छोड़कर बाकी घाटों पर स्नान करेंगे।अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष श्रीमहंत नरेंद्र गिरि समेत कई संतों के कोरोना संक्रमित होने से सोमवार को होने वाले सोमवती अमावस्या के शाही स्नान पर कोविड का साया है। मेला पुलिस-प्रशासन ने स्नान की तैयारियां पूरी कर हरकी पैड़ी क्षेत्र को श्रद्धालुओं के लिए सील कर दिया है। हरकी पैड़ी पर ब्रह्मकुंड में अखाड़ों के संत क्रमवार शाही स्नान करेंगे। जूना के साथ अग्नि और आह्वान अखाड़ों के संत स्नान करेंगे। किन्नर अखाड़ा भी जूना के साथ ही चौथे नंबर पर स्नान करेगा। जबकि बैरागियों की तीनों अणियों निर्माणी, दिगंबर और निर्मोही के संत भी एक साथ स्नान करेंगे। आईजी कुंभ संजय गुंजयाल ने बताया कि स्नान पर कड़ी सुरक्षा रहेगी। फोर्स से लेकर स्नाइपरों की ड्यूटी लगा दी गई है।हरकी पैड़ी क्षेत्र में परिंदा भी पर नहीं मार पाएगा। जीरो जोन होने के कारण श्रद्धालु प्रवेश नहीं कर पाएंगे। क्षेत्र को रविवार रात से श्रद्धालुओं के लिए सील कर दिया गया है। मेला अधिकारी दीपक रावत ने बताया कि कोविड के साए के बीच स्नान चुनौती है। श्रद्धालुओं से कोरोना की मानक संचालन प्रक्रिया (एसओपी) का कड़ाई से पालन कराया जाएगा।

Leave a Reply