कृषि जिंसो की आड में डोडाचूरा और अफीम की तस्करी, इंटेलीजेंस की रिपोर्ट में नंबर 1 तस्कर मालवा का तस्कर मनीष तिवारी की कॉल डिटेल्स में बाबू सिंधी का नाम आया, ,बेनामी संपत्ति के सबूत तो मिले ही है, साथ ही एक डायरी,जल्द करेगी पुलिस बडा खुलासा।

नीमच। जिला मुख्यालय पर पुलिस के तमाम आला अफसर बैठते है, मुख्यालय पर ही डोडाचूरा की तस्करी का अडडा संचालित होना स्थानीय थाना पुलिस के सूचना तंत्र का कमजोर होना दर्शाता है। मनासा पुलिस की आउटस्टैंडिंग कार्रवाई के बाद 37 क्विंटल डोडाचूरा की बडी खेप पकडी गई और तस्कर मनीष तिवारी फरार है। सीएसपी राकेश मोहन शुक्ल के निर्देशन में मनीष तिवारी के घर का ताला तोडकर तलाशी ली गई तो कई बेनामी संपत्ति के सबूत तो मिले ही है साथ ही एक डायरी में उन तमाम तस्करों का बायोडाटा मिला है, जो तस्कर मनीष तिवारी के साथ डोडाचूरा की तस्करी बडे स्तर पर कर रहे थे। सूत्र बताते है कि बाबू सिंधी का नाम सबसे उपर मिला है और कॉल डिटेल्स में भी बाबू सिंधी की कनेक्टिविटी मिली है। पुलिस तमाम सबूत एकत्रित करने में जुटी हुई है। बाबू सिंधी के मोबाईल नंबर, उसके गोदाम, फार्म हाउस, आफिस सहित कई ठिकानों से जुडे हुए टेलिफोन और मोबाईल नंबरों की हिस्ट्री निकाली जा रही है।

तस्करी के खेल में करोडों का आसामी बना बाबू सिंधी, मंदसौर से फटेहाल आया था, चल—अचल संपत्ति की जांच में होगा बडा खुलासा—

बताया जा रहा है कि बाबू सिंधी कुछ साल पहले ही मंदसौर से नीमच आया था। पहले यह उधारी में सोयाबीन किसानों से खरीददता था, धीरे—धीरे पोस्ते का कारोबारी बना। झूठ बोलो और जोर से बोलो की तर्ज पर यह पोस्तेदाने के कारोबार में उतरा। पोस्ते के धोलापानी में गडबड झाला किया और यहीं से डोडाचूरा और अफीम की तस्करी का चस्का लगा। बाबू सिंधी के आय के स्त्रोत क्या है, करोडों रूपए तस्करी के खेल में कमाए है, इस मामले की जांच पडताल में पुलिस प्रशासन जुटा हुआ है। चल—अचल संपत्ति की लंबी लिस्ट तैयार हो रही है।

ईमानदार एसपी सूरजकुमार वर्मा के नेतृत्व में पहली बार बाबू सिंधी पर शिकंजा—

सूत्र बताते है कि कई बार बाबू सिंधी का नाम डोडाचूरा और अफीम तस्करी के मामले में उछला, लेकिन यह मौटी रकम देकर छूट निकला। वर्तमान में नीमच जिले की कमान ईमानदार पुलिस कप्तान के हाथों में है। एसपी सूरजकुमार वर्मा के निर्देशन पर जांच चल रही है। ऐसी स्थिति में कोई भी जांच गडबड करेंगे तो निश्चित ही रूप से उनके खिलाफ कार्रवाई होगी।

बाबू सिंधी से जुडे हुए है कई पुलिसकर्मी,मचा हडकंप—  

जिला मुख्यालय पर डोडाचूरा का अडडा संचालित होना नीचले स्तर के पुलिसकर्मियों की मिलीभगत की आशंका को पैदा करता है। बताते है कि बाबू सिंधी और मनीष जाट से कुछेक पुलिसकर्मी जुडे है, इनमें से कुछेक का स्थानांतरण जिले से बाहर हुआ है, वे पल—पल की जानकारी बाबू तक पहुंचा देते थे।

Leave a Reply