केसुंदा चौकी प्रभारी असरार जामा तथा कांस्टेबल पर पीटकर हत्या करने का आरोप युवक की मौत के बाद शव को थाने के बाहर रखकर परिजनों और लोगों ने किया प्रदर्शन पुलिस ने प्रदर्शनकारियों के खिलाफ महामारी अधिनियम के तहत किया मुकदमा दर्ज

छोटीसादड़ी। मंगलवार के मध्यप्रदेश मंदसौर के बरखेड़ा पंथ में रह रहे जमाई नाराणी (छोटीसादड़ी) निवासी मिट्ठुलाल पुत्र उदयलाल बावरी की मंदसौर जिला अस्पताल में मौत होने के बाद आक्रोशित परिजनों ने छोटी सादड़ी पुलिस थाने के सामने नीमच रोड पर मृतक का शव रखकर पुलिस के खिलाफ जमकर प्रदर्शन किया परिजनों ने आरोप लगाया था कि छोटीसादड़ी पुलिस मल्हारगढ़ पुलिस 17 अगस्त को मिटठुलाल को बरखेड़ा पंथ घर से मारपीट करते हुए ले गई थी व थाने पर भी युवक के साथ मारपीट की। मल्हारगढ़ थाने पर तबीयत बिगड़ने पर पुलिस मल्हारगढ़ अस्पताल ले गई थी। बाद में मंदसौर रेफर कर दिया। जहां चिकित्सकों ने मृत घोषित कर दिया। परिजनों का आरोप है कि पुलिस की बेरहम पिटाई से ही मिट्ठुलाल की मौत हुई है। जबकि मल्हारगढ़ टीआई का कहना है कि लूट के मामले में छोटीसादड़ी पुलिस उसे लेने आई थी, वह पहले ही सड़क दुर्घटना में घायल हो गया था। छोटीसादड़ी पुलिस उसे मल्हारगढ़ लाने से पहले ही तबीयत बिगड़ने पर मल्हारगढ़ के प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र ले गई। जहां से उसे मंदसौर रेफर कर दिया और मंदसौर में उसकी मौत हो गई । पुलिस ने उसके साथ मारपीट नही की, न हि उसकी मौत पुलिस कस्टडी में हुई मजिस्ट्रीयल जांच व दोषियों पर हत्या की मांग को लेकर शव को रोके रखा मध्यप्रदेश के मंदसौर जिला अस्पताल पहूंचे परिजनों ने बुधवार को सुबह शव का पोस्टमार्टम कराने से इंकार कर दिया और हंगामा किया। उनकी मांग थी कि जो भी दोषी पुलिसकर्मी हो उसके खिलाफ हत्या का प्रकरण दर्ज किया जाए व परिजनों को आर्थिक सहायता प्रदान की जाए। काफी देर तक हंगामा चलता रहा। मंदसौर शहर कोतवाली टीआई अमितसिंह कुशवाह जाप्ते के अस्पताल पहुंचे। सूचना पर प्रदेश कांग्रेस महामंत्री श्यामलाल जोकचन्द्र दोपहर 12.30 बजे मंदसौर जिला अस्पताल पहूंचे। जोकचन्द्र ने आरोप लगाया कि लगतार मल्हारगढ़ विधानसभा क्षेत्र में पुलिस की मनमानी चल रही है।लोगों के साथ अन्याय हो रहा है। शराबकांड में भी लोगों की मौत होने पर प्रशासन ने परिजनों को आर्थिक सहायता देने की मांग की। लेकिन प्रशासन ने अभी तक कोई सहायता प्रदान नही की है। वे दर-दर भटक रहे है। जिला प्रशासन से न्याय मिलने की उम्मीद कहीं पर भी नही दिख रही है। मल्हारगढ विधानसभा क्षेत्र में लोगों के सा अन्याय-अत्याचार हो रहे है। पुलिस थाने बिक चुके है। जनप्रतिधियों को बड़ी राशि देकर थानों पर पोस्टिंग हो रही है।करीब आधे घंटे तक प्रशासन से हुई बहस बाजी के बाद कांग्रेस नेता श्यामलाल जोकचन्द्र ने पुलिस अधीक्षक मंदसौर के नाम ज्ञापन एसडीएम बिहारीसिंह को सौंपा। जिसमें मारपीट करने वाले दोषी पुलिस अधिकारियों व अधिनस्थ कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की। साथ ही यह भी मांग की कि मामले की मजिस्ट्रीयल जांच कराई जाकर परिजनों को आर्थिक सहायता प्रदान की जाए। एसडीएम बिहारीसिंह ने आश्वासन दिया कि दोनों मांगों को लेकर वे प्रपोजल बनाकर सरकार को भिजवाएंगे। एसडीएम ने आश्वस्त किया कि पूर्व में भी जो मारपीट की घटना हुई थी। उसमें मौत के बाद हत्या का प्रकरण हुआ था। इसलिए जांच पर भरोसा रखे। करीब डेढ़ बजे परिजन शव का पीएम कराने के लिए तैयार हुए। शव का पीएम पेनल टीम ने किया। इस अवसर पर कांग्रेस नेता परशुराम सिसोदिया, राजेश भारती, श्यामलाल सोलंकी सहित बड़ी संख्या में परिजन व बावरी समाज के लोग उपस्थित थे केसुन्दा चौकी प्रभारी असरार जामा ओर कांस्टेबल की खिलाफ दी रिपोर्ट पुलिस थाने के बाहर युवक के शव को रखकर प्रदर्शन कर रहे लोगों ने केसुंदा चौकी प्रभारी असरार जामा तथा कॉन्स्टेबल विनय प्रताप सिंह के खिलाफ युवक को पीट कर हत्या करने का परिवाद थाने में दिया है। परिवाद में परिजनों ने आरोप लगाया कि छोटीसादड़ी पुलिस की पिटाई से युवक की मौत हुई है और इन दोनों ने ही उसकी ज्यादा पिटाई की थी। इससे उसकी तबीयत ज्यादा बिगड़ गई बाद में पुलिस मंदसौर के जिला चिकित्सालय में ले गई थी वहां उसकी उपचार के दौरान मौत हो गई। पुलिस ने परिजनों की रिपोर्ट पर अनुसंधान शुरू किया है महावारी अधिनियम तथा लाश को सड़क पर रखकर प्रदर्शन करने का मामला दर्ज इधर थानाधिकारी मांगीलाल डांगी ने बताया कि मृतक के खिलाफ छोटी सादड़ी पुलिस थाने में लूट का एक प्रकरण दर्ज था। पुलिस उसको गिरफ्तार करने के लिए मध्यप्रदेश के मंदसौर के पास गांव गई हुई थी।वहां मध्य प्रदेश की पुलिस के सहयोग से उसको गिरफ्तार किया था। गिरफ्तार करने के बाद युवक को पुलिस थाने ले गई थी वहां उसकी तबीयत बिगड़ गई बाद में पुलिस उसको अस्पताल ले गई। लेकिन ज्यादात तबीयत खराब होने के चलते उसको मंदसौर के जिला चिकित्सालय में रेफर किया है।जहां उसकी मृत्यु हो गई थी। उसके बाद बुधवार शाम को परिजन उसकी लाश को लेकर छोटीसादड़ी पुलिस थाने के बाहर पहुंचे। यहां परिजनों और लोगों ने शव को सड़क पर रखकर काफी देर तक प्रदर्शन किया। पुलिस ने सड़क पर लाश रखकर पुलिस के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे लोगों के खिलाफ कोरोना महामारी अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज किया है

Leave a Reply