जिलेडेंगू का कहर
हजारो लोगो की जानपर बन आने के बाद भी मस्ती छान रहे जिले के पक्ष-विपक्ष के नेता,, पूरे क्षेत्र में डेंगू का कहर तांडव कर रहा है और जिले में SDP प्लेटलेट निकालने की मशीन तक उपलब्ध नही है?

मध्यप्रदेश शाशन के दो दो कैबिनट मंत्रियों के साथ सांसद से लेकर,,जिला पंचायत,,जनपद पंचायतों,, नगर पालिका व नगर पंचायतो तक सत्तापक्ष के नेता होने के बाद स्वास्थ्य सेवाओं के लिये तरस रहे है क्षेत्रवासी।।।
👉 जिले के गांव गांव में डेंगू का कहर ताण्डव मचा रहा है लोग SDP प्लेटलेट के लिए दौड़ भाग कर रहे है पर उदयपुर झालावाड़ या इंदौर के भरोसे दुखी हो रहे है।।
👉एक से डेढ़ माह पहले शुरू हुई RDP प्लेटलेट मशीन के भरोसे हजारो लोग बस लगातार हो रहे है ब्लड डोनेट के भरोसे बैठे है।।
👉हजारो रक्तदाताओं ने चौबीसों घण्टे मोर्चा सम्भाल कर सेकड़ो जिंदगियों को नया जीवन दे दिया पर हमारे नेताओं को फुर्सत नही है।।
👉विपक्ष मंदसौर जिले में है ही नही तो उनकी आवाज उठी ही नही,,यदि विपक्ष होता तो जनहित के बड़े मुद्दे पर सरकार को घेरते पर समस्याओ से इन्हें क्या इन्हें झाँकीबाजी कर अखबारों में जो आना है।।

जिस जिले के मध्यप्रदेश शासन के वित्तमंत्री जगदीश देवडा रामपुरा के हो सिंचित क्षेत्र मे भाजपा के राष्ट्रीय नेता व सांसद सुधीर गुप्ता,, मध्यप्रदेश में भाजपा मंत्री सकलेचा परिहार माधव मारु जैसे दबंग हो,,जिस जिले की जिला पंचायत से लेकर,,जनपद पंचायते,,नगर पालिका व नगर पंचायते तक सत्ताधारी दल की हो नीमच जिले के लाखों लोगो की एकमात्र उम्मीद है

जिला चिकित्सालय एक SDP मशीन के लिये तरस रहा है और ऐसे मे क्षेत्र में डेंगू जैसे खतरनाक वायरल बुखार ने जमकर तांडव मंचा रखा है,,पूरे जिले के कोने कोने में डेंगू पीड़ितों की संख्या नित्य प्रतिदिन बढ़ती जा रही है पर सारे के सारे सत्ताधीश व विपक्षी नींद के गहरे आगोश में समाए हुए है।। मन्द जिले में सबसे पहले मनासा तहसील क्षेत्र डेंगू ने जब तांडव मंचाना प्रांरम्भ किया तब जिला मुख्यालय पर तैनात प्रशाशनिक अधिकारियों व जिम्मेदार जनप्रतिनिधियों ने डेंगू को हल्के मे ले लिया और परिणामस्वरूप आज डेंगू का कहर पूरे जिले में बरफ रहा है फिर भी कोई इस कड़वे सत्य को स्वीकारने का साहस नही कर रहा है।। मन्दसौर जिले में एक SDP मशीन तक यँहा के एक सांसद व मध्यप्रदेश शाशन के दो दो केबिनेट मंत्री नही दिलवा सकते है तो फिर उम्मीद किससे करे यह समझ नही आता जबकि जिले में होने वाले मंचीय कार्यक्रमो मे सरकार की अरबो खरबो की योजना एक झटके में अपनी वाकपटुता वाले भाषणों में यह नेतागण बता देते है जो जिले के एकमात्र जिला स्तरीय चिकित्सालय में SDP मशीन की वयस्था नही करवा पाते है।। जिले के डेंगू पीड़ित मरीज राजस्थान के उदयपुर,, झालावाड़ व मन्दसौर नीमच से बहुत दूर इंदौर के भरोसे है जँहा से SDP ब्लड की व्यवस्था करने के उपरांत मन्दसौर के अस्पतालों के भर्ती मरिजो को चढ़ाकर उनकी जान बचाई जाति है यह तो अच्छा विषय यह रहा कि नीमच जिले में डेढ़ दो माह पहले RDP रैंडम प्लेट डोनर मशीन प्रांरम्भ हो गयी जिससे डेंगू मरीजो को कुछ हद तक राहत मिलने लगी पर इतने बड़े जिले में जब डेंगू के अनगिनत पेशेंट निरन्तर आ रहे है उनके लिहाज से RDP मशीन शून्य के समान है क्योंकि RDP मशीन में ब्लड डोनर का ब्लड तो पूरा लिया जाता है लेकिन प्लेटलेट कम बनती है और उस प्लेटलेट को मरीज को चढ़ाने पर सिर्फ हजार से दो हजार प्लेट बढ़ती है जिसके कारण एक तो रक्तदाताओं की आवश्यकता अधिक लगती है ऊपर से समय व पैसा भी अधिक बर्बाद होता है जबकि एक SDP डेंगू मरीज को चढ़ाने से सीधे 30 से 60 हजार के लगभग प्लेट बढ़ती है जिससे डेंगू पीड़ित मरीज पर आया संकट तुरन्त टल जाता है लेकिन अफसोस कि बात यह है कि नीमच जिले में SDP मशीन नही है और मरीज के साथ साथ रक्तदाताओं का भी समय व नुकसान हो रहा है फिर भी दिनरात चौबीस घण्टे जिले के रक्तदाताओं की सक्रिय टीमें निरन्तर रक्तदान कर अनेको जिंदगियों को बचा रही है जो गर्व का विषय है बस नेता नगरी की आंखों की पट्टी खुल जाए।।
👉SDP व RDP मे फर्क–SDP यानी सिंगल प्लेटलेट डोनर जो डेंगू मरीज के सेम ब्लड ग्रुप वाले व्यक्ति के ब्लड से सीधे मशीन द्वारा एक घण्टे की प्रोसेस के बाद निकाली जाती है ओर जिसे मरीज को चढ़ाने पर सीधे 30 से 60 हजार प्लेटलेट बढ़ती है जबकि RDP यानी रैंडम प्लेटलेट् डोनर जो सेम ब्लड ग्रुप व्यक्ति ब्लड डोनेट करता है उसके बाद उस ब्लड को मशीन द्वारा फेंटकर प्लेटलेट बनाई जाती है जो मरीज के उपचार में सहायक सिद्ध होती है पर SDP जितना लाभ मरीज को नही मिल पाता।।
👉SDP चार्ज शुल्क–उदयपुर व झालावाड़ में SDP ब्लड की एक यूनिट को निकालने की प्रोसेस साढे 9 हजार रुपये है साथ ही इतनी दूरी तक मरीज के परिजनों को स्वयं के व्यय से वाहन सहित आना जाना व ब्लड डोनर को साथ ले जाने का कुल खर्च पन्द्रह से बीस हजार पढ़ जाता है व समय बर्बाद होता है सो अलग इसलिये मन्दसौर में एक SDP मशीन की सख्त आवश्यकता है जिसका अधिकतम मूल्य 50 लाख के लगभग होगा जैसे उदयपुर ब्लडबैंक से जानकारी ली थी हमने उस अनुरूप।।
👉निवेदन–डेंगू को हल्के में नही लेने यह बेहद घातक है अतः समय पर उपचार करवाये।।
👉जन samachar के माध्यम से हम पहले भी””डेंगू का डंक”” विषय रख पूरी खबर विस्तृत स्वरूप में रखकर जिले के जनप्रतिनिधियों व प्रशाशनिक अधिकारियों को चेतावनी के लिये है लेकिन अब SDP मशीन आने तक प्रथम जन जागृति संगम न्यूज चैनल पर यही मुहिम चलेगी आप सभी से जनहित के इस मुद्दे पर अपेक्षित सहयोग व समर्थन की अपेक्षा ह

जय हिंद जय जवान जय किसान

आप सभी जागरुक आम नागरिक इस मुहिम को आगे बडाने मे उचित लगने पर इसी स्वरूप में प्रेषित सहयोग कर सकते है। धन्यवाद।

कृपया दोपहिया वाहन चलाते वक्त हैलमेट का उपयोग अवश्य करे साथ ही मास्क,,सेनेटाइजर व शोशल डिस्टेंसिग का पालन कर वेक्सीन अवश्य लगवाए।।

Leave a Reply