नीमच कृषि उपज मंडी आड़त कुप्रथा, शब्द नीमच मंडी पर दाग बन चुका है जो हटने का नाम नहीं ले रहा है, इस दाग के पीछे जो लोग हैं नहीं बख्शा जाएगा दलालों को, आखिर किस की मेहरबानी से चल रहा है यह कुप्रथा का साम्राज्य जी बहुत जल्द होगा खुलासा नामों के साथ, लिस्ट बनाना शुरू हो गया है।

अधिकांश मंडियों में आढ़त प्रथा है बन्द पर नीमच ही एक मात्र ऐसी मंडी है जहा बेखौफ हो कर हो रही है आढ़त, कुछ चार – पांच व्यापारी दे रहे है इस आढ़त के कार्य को अनाजम, रोजाना हजारों रुपए की है कमाई, आखिर किसका है आशीर्वाद कोन देता है इन्हे बढ़ावा..! पढ़िए पूरी खबर!

नीमच। वर्ष 2018 में तत्कालीन मंडी सचिव ने एक आदेश जारी किया था कि कृषि मंडी में जो भी आड़त करने वाले की सूचना देगा उसे ईनाम दिया जागया और सूचना देने वाला का नाम भी गुप्त रखा जाएगा। लेकिन समय के बितते ही वर्तमान में कृषि मंडी में आड़त की कुप्रथा पुन: संचालित हो रही है। चाँद मुकेश खुलकर आड़त कर रहा है। गौरतलब है कि पिछले कुछ वर्षो पहले प्रदेश सरकार ने कृषि मंडीयो में आड़त प्रथा पर पुर्णत: बेन लगा दिया था, लेकिन फिर भी चोरी-छुपे व्यापारी आड़त प्रथा को जारी रख रहे थे। जिसके लिए मंडी प्रशासन ने ऐसे आड़तियो के खिलाफ मंडी अधिनियम 1972 की धारा 36 के उल्लंघन के तहत कार्यवाईयां भी की थी। ऐसे में चाँद मुकेश लहसून मंडी में आड़तियो का बादशाह बना हुआ है। आक्शन भी खुद ही लगाता है और खुद ही आड़त में माल बिकवाता है। कई बार तो चाँद मुकेश की चालाकीयो के आगे किसान भी बेवकुफ बन जाते है। ऐसे में देखना होगा की मंडी प्रशासन चांद मुकेश पर कब कठोर कार्रवाई करता है।

Leave a Reply