मध्यप्रदेश में इंजीनियरिंग और मेडिकल के छात्रों के लिए

भोपाल । मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने गणतंत्र दिवस पर एक बड़ा ऐलान किया था. जिसमें सीएम ने कहा कि मध्य प्रदेश में इंजीनियरिंग और मेडिकल कॉलेज की पढ़ाई हिंदी में भी कराई जाएगी. अब इसको लेकर प्रदेश के इंजीनियरिंग, मेडिकल की पढ़ाई को लेकर भी मोहन यादव ने भी बड़ा बयान दिया है. उन्होंने कहा कि अपनी-अपनी मातृभाषा में सबको पढ़ाई करने का पूरा अधिकार है. उच्च शिक्षा मंत्री मोहन यादव ने कहा कि हिंदी को बढ़ावा देने के लिए जो प्रयास मोदी सरकार ने किया है, उसी को लेकर हमारी इच्छा है कि सभी प्रोफेशनल कोर्स को अब हिंदी में पढ़ाया जाए. पहले भी विश्वविद्यालयों के कुलपतियों के साथ बैठक हुई है, जिसमें इस बात पर चर्चा हो चुकी है. उन्होंने कहा कि दुनिया के कई ऐसे देश हैं जैसे चाइना, जापान, जर्मनी, फ्रांस जो अपनी मातृभाषा में बच्चों को पढ़ाते हैं. अब यही हमारा भी उद्देश्य है. इसलिए अब अपने देश में भी अपनी-अपनी मातृभाषा में पढ़ाई का विकल्प खोल दिया गया है. उनका यह भी कहना है कि अगले सत्र से इसकी शुरूआत हो जाएगी.

गणतंत्र दिवस के अवसर पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बड़ी घोषणा करते हुए कहा था कि मध्य प्रदेश में इंजीनियरिंग और मेडिकल कॉलेज की पढ़ाई हिंदी में भी कराई जाएगी. इस बात की घोषणा इंदौर में उन्होंने की थी. सीएम ने कहा कि इंजीनियरिंग और मेडिकल कॉलेज की पढ़ाई हिंदी माध्यम में कैसे शुरू किया जाए, इसके लिए एक विशेषज्ञ समिति का गठन किया जाएगा. ताकि प्रदेश के छात्र हिंदी में भी इंजीनियरिंग और मेडिकल कॉलेज की पढ़ाई कर सके. हालांकि कोर्स की शुरूआत कब से होगी इसको लेकर जानकारी अभी स्पष्ट नहीं है।

Leave a Reply